ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रमुख समाचार

रिकार्ड उत्पादन के बावजूद किसानों को लाभ नहीं मिल रहा - कृषि मंत्री

आकाश श्रीवास्तव

नई दिल्ली

केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा है कि अपने कौशल में सुधार करके, नवीन कार्य प्रणालियों का प्रयोग करके तथा तत्प श्चा त परिकल्पित कार्यक्रमों के कार्यान्वयन में आपसी सहयोग के द्वारा ही 2022 तक किसानों की आय को दुगुना करने के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लक्ष्य को हासिल किया जायेगा। सिंह ने यह बात फैडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) में’किसानों की आय दुगुनी करने के बेहतर कृषि विपणन समाधान’ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन में कही। इस सम्मेलन में राजस्थान, हरियाणा, असम, गोवा, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और बिहार के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया।


राधा मोहन सिंह ने इस मौके पर कहा कि तृतीय अग्रिम अनुमानों के अनुसार देश में 2016-17 में खाद्यान्न का उत्पादन बढ़कर 273 मिलियन मीट्रिक टन तिलहन का उत्पानदन बढ़कर 32.5 मिलियन मीट्रिक टन, गन्ना 306 मिलियन मीट्रिक टन हो गया है। द्वितीय अग्रिम अनुमान के अनुसार फलों और सब्जियों का उत्पादन बढ़कर 287 मिलियन मीट्रिक टन हो गया है। उन्होंने बताया कि 2016-17 में खादयान्नों का रिकार्ड उत्पादन हुआ है और खादयान्न उत्पादन के अब तक के सारे रिकार्ड टूट गये हैं। सिंह ने कहा कि किसानों को उनकी उपज के हिसाब से बढ़ा हुआ पारिश्रमिक नहीं मिल रहा है। सरकार मंडी व्यवस्था को सुदृढ़ करने की जरूरत को लेकर संवेदनशील है और वह इस दिशा में कार्य कर रही है, जिससे कि फसल की कटाई के पश्चा त होने वाले नुकसान को कम किया जा सके और किसान बम्पर उत्पादन के दौरान कीमतों में होने वाली अप्रत्याशित गिरावट तथा कम उत्पादन के कारण मार्केटेबल सरप्लस की कम उपलब्धता, दोनों ही स्थितियों में स्वायं को पार पा सकें।

केन्द्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि इस प्रकार अपनाई गई सोच के अंतर्गत लागत प्रभाव उत्पादन को अपनाना, कृषि को उच्च मूल्य वर्ग की फसलों को उगाने, कृषि वानिकी, पशुधन और मुर्गी पालन, मतस्य पालन आदि विविधता की ओर अग्रसर करना तथा सुलभ और अच्छी मंडियां उपलब्ध कराना शामिल है, ताकि एक मजबूत  सप्लाई चेन के द्वारा किसानों को उनकी उपज की बेहतर कीमत दिलाई जा सके । उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की भावनाओं को समझती हैं और इसी उद्देश्य से कृषक कल्याण केन्द्रित कार्यक्रम और नीतियां बनाई गयी हैं जो कि खाद्य सुरक्षा के साथ-साथ मूल्यक सुरक्षा के साथ भी समान रूप से जुड़ी हुई हैं।




जरा ठहरें...
'भारतीय रेलवे का खाना बेहद घटिया और खाने लायक नहीं'
चीन ने भारत के खिलाफ युद्ध की पूरी तैयारी की - मुलायम
दलहन, तिलहन के मामले में दो साल में आत्म निर्भर हो जाएंगे - कृषि मंत्री
देश को मिली पहली सोलर रेल गाड़ी
कूटनीति के जरिए डोकलाम मुद्दा सुलझाया जाएगा - विदेश मंत्रालय
सुरक्षा व्यवस्था में भारी खामी का नतीजा है तीर्थ यात्रियों पर हमला
'योगी सरकार के कार्य नहीं कारनामे बोल रहे हैं'
रोजगार देने में रेलवे सर्वाधिक आगे - प्रभु
आधार, पैन के बिना हवाई यात्रा नहीं होगी - सिन्हा
पासवान ने गिनाया अपने मंत्रालय की तीन साल की उपलब्धियां
कसौटी पर खरी नहीं उतर रही है देश की सबसे लंबी सुरंग
रेल यात्रियों की संख्या में रिकार्ड बढ़ोत्तरी!
सेना अपने विशेष कमांडोज को और खतरनाक बनाएगी
जानिए बजट में रेलवे और रेल यात्रियों को क्या मिला!
न क्रेडिट, न डेबिट न कोई और बस आधार से पेंमेंट होगा
19 साल बाद भी रेल हादसे का मुआवजा वही है!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.