ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

क्या आप जानते हैं

सरकार ने अनाजों के उत्पादन के आंकडे जारी किए!

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

२८ फरवरी २०१९

नई दिल्ली। कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्‍याण विभाग द्वारा 2018-19 के लिए मुख्‍य फसलों के उत्‍पादन के दूसरे अग्रिम अनुमान 28 फरवरी, 2019 को जारी कर दिए गए हैं। देश में मानसून मौसम (जून से सितंबर, 2018) के दौरान कुल वर्षा दीर्घावधि औसत (एलपीए) से 9 प्रतिशत कम रही है। उत्‍तर पश्‍चिम भारत, मध्‍य भारत और दक्षिण प्रायद्वीप में उक्‍त अवधि के दौरान कुल वर्षा समग्र रूप से सामान्‍य रही है। मुख्‍य फसलों के अधिकांश उत्‍पादक राज्‍यों में सामान्‍य मानसून वर्षा हुई है।


तदनुसार, कृषि वर्ष 2018-19 में अधिकांश फसलों के उत्‍पादन का उनके सामान्‍य उत्‍पादन से अधिक होने का अनुमान है। अधिक सटीक सूचना प्राप्‍त होने पर इन अनुमानों में संशोधन हो सकता है। दूसरे अग्रिम अनुमानों के अनुसार, 2018-19 के दौरान मुख्‍य फसलों के अनुमानित उत्‍पादन इस प्रकार है:

खाद्यान्‍न – 37 मिलियन टन
चावल – 115.60 मिलियन टन (रिकार्ड)
पोषक/मोटे अनाज – 42.64 मिलियन टन
मक्‍का – 27.80 मिलियन टन
दलहन – 24.02 मिलियन टन
तूर – 3.68 मिलियन टन
चना – 10.32 मिलियन टन
तिलहन – 50 मिलियन टन
सोयाबीन – 13.69 मिलियन टन
रेपसीड और सरसो – 8.40 मिलियन टन
मूंगफली – 6.97 मिलियन टन
कपास – 09 मिलियन गांठे (प्रति 170 कि०ग्रा०)
पटसन एवं मेस्‍टा – 07 मिलियन गांठे (प्रति 180 कि०ग्रा०)
गन्‍ना – 83 मिलियन टन


2018-19 के लिए दूसरे अग्रिम अनुमानों के अनुसार, देश में कुल खाद्यान्‍न उत्‍पादन 281.37 मिलियन टन अनुमानित है जो 2017-18 के दूसरे अग्रिम अनुमान के 277.49 मिलियन टन रिकार्ड खाद्यान्‍न उत्‍पादन की तुलना में 3.89 मिलियन टन अधिक है। इसके अलावा, 2018-19 के दौरान उत्‍पादन विगत पांच वर्षों (2013-14 से 2017-18) के औसत खाद्यान्‍न उत्‍पादन की तुलना में 15.63 मिलियन टन अधिक है।


2018-19 के दौरान चावल का कुल उत्‍पादन 115.60 मिलियन टन (रिकार्ड) अनुमानित है। चावल का उत्‍पादन 2017-18 के दूसरे अग्रिम अनुमान के 111.01 मिलियन टन उत्‍पादन की तुलना में 4.59 मिलियन टन बढ़ा है। यह पांच वर्षों के 107.80 मिलियन टन औसत उत्‍पादन की तुलना में भी 7.80 मिलियन टन अधिक है।

गेहूँ का उत्‍पादन 99.12 मिलियन टन अनुमानित है जो 2017-18 के दूसरे अग्रिम अनुमान के 97.11 मिलियन टन गेहूँ उत्‍पादन की तुलना में 2.01 मिलियन टन अधिक है। इसके अलावा, 2018-19 के दौरान गेहूँ का उत्‍पादन 94.61 मिलियन टन औसत गेहूँ उत्‍पादन की तुलना में 4.51 मिलियन टन अधिक है।


पोषक/मोटे अनाजों का उत्‍पादन 42.64 मिलियन टन अनुमानित है, जो 2017-18 के दूसरे अग्रिम अनुमान के 45.42 मिलियन टन उत्‍पादन की तुलना में 2.78 मिलियन टन कम है। इसके अलावा, यह औसत उत्‍पादन की तुलना में भी 0.45 मिलियन टन कम है। 

2018-19 के दौरान दलहनों का कुल उत्‍पादन 24.02 मिलियन टन अनुमानित है जो विगत वर्ष के दूसरे अग्रिम अनुमान के 23.95 मिलियन टन उत्‍पादन की तुलना में मामूली रूप से 0.08 मिलियन टन अधिक है। तथापि, 2018-19 के दौरान दलहनों का उत्‍पादन पांच वर्षों के औसत उत्‍पादन 20.26 मिलियन टन की तुलना में 3.77 मिलियन टन अधिक है।

2018-19 के दौरान देश में तिलहनों का कुल उत्‍पादन 31.50 मिलियन टन अनुमानित है जो 2017-18 के दूसरे अग्रिम अनुमान के 29.88 मिलियन टन उत्‍पादन की तुलना में 1.62 मिलियन टन अधिक है। इसके अलावा, 2018-19 के दौरान तिलहनों का उत्‍पादन औसत उत्‍पादन की तुलना में 1.85 मिलियन टन अधिक है।

2018-19 के दौरान गन्‍ने का उत्‍पादन 380.83 मिलियन टन अनुमानित है जो 2017-18 के दूसरे अग्रिम अनुमान की तुलना में 27.61 मिलियन टन अधिक है। इसके अलावा, 2018-19 के दौरान गन्‍ने का उत्‍पादन 349.78 मिलियन टन के औसत गन्‍ना उत्‍पादन की तुलना में 31.05 मिलियन टन अधिक है।

कपास का उत्‍पादन 30.09 मिलियन गांठें (प्रति 170 कि०ग्रा०) अनुमानित है जो 2017-18 के दूसरे अग्रिम अनुमान के 33.92 मिलियन गांठ उत्‍पादन की तुलना में कम है। पटसन एवं मेस्‍टा का उत्‍पादन 10.07 मिलियन गांठ (प्रति 180 कि.ग्रा.) अनुमानित है।


जरा ठहरें...
तीन तलाक के खिलाफ नए विधेयक को मंत्रिपरिषद ने दी मंजूरी
आजीत डोभाल एनएसए बनें रहेंगे
जलियांवाला बाग: भाजपा का शीर्ष नेतृत्व श्रद्धांजलि देने नहीं पहुंचा
मोदी सरकार ने सारे सामाजिक ताने बाने को नष्ट कर दिया है - सोनिया गांधी
दिल्ली में सीएनजी के दाम बढ़े, सफर करना हुआ मंहगा!
दिल्ली के सातों सीटों के लिए भाजपा ने इन नामों की सूची आलाकमान को भेजी
चीन के खिलाफ व्यापारियों का फूटा गुस्सा, देश में जली चीनी सामानों की होलिका
देश की विभूतियों को राष्ट्रपति पद्म पुरस्कारों से किया सम्मानित
118 सालों में दिल्ली का मौसम मार्च माह में सबसे ज्यादा ठंड रहा
ये पार्टी लोकसभा चुनाव 2019 में 283 सीटों पर महिला उम्मीदवार उतारेगी
“सरकार की मंशा अच्छी, पर दिव्यांग कल्याण के लिए ठोस कदम उठाएं”- अमित कुमार
मंगला एक्सप्रेस में गंदे पानी से बनाया जाता है सूप और अन्य चीज
दिल्ली में ४० प्रतिशत लोगों का मानना वह सुरक्षित नहीं
रेलवे ने मेल और एक्सप्रेस रैक्स के उन्नयन के लिए ’प्रोजेक्ट उत्कृष्ट’ शुरू किया
रंजन गोगोई बने देश के नए मुख्य न्यायाधीश
मोदी कैबिनेट का बड़ा फैसला तीन तलाक पर अध्यादेश जारी
बिना इंजन की ट्रेन-18 जल्द मिलेगी लोगों को सफर करने के लिए!
वैज्ञानिकों ने माना रामसेतु मानव निर्मित है
30 किलो से ज्यादा वजन के कुत्ते को घोड़ा मानता है रेलवे!
मानव मांस का शौकीन था ब्रिटिश राजघराना
२०५ साल के बाबा, १०५ साल से नहीं खाया एक अन्न भी!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.