ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

विज्ञान एवं रक्षा तकनीकि

राफेल के आते ही वायुसेना मिग-२१ विमानों को अपने बेड़े से बाहर कर देगी

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

५ मार्च २०१९

मिग-21 की बदनामी से जूझ रही भारतीय वायुसेना इससे जल्द छुटकारा पाने के लिए छटपटा रही है। मिग-21 विमान दुर्घटना के मामले में इतने बदनाम हो चुके हैं कि इन्हें वायुसेना दबे जुबान से और मीडिया खुले जुबान से इसे उड़न ताबूत की संज्ञा से नवाज़ चुका है। यह भी सही है कि भारतीय वायुसेना मिग-21 की दुर्घटना की वजह से अपने सैकड़ों बेशकीमती युद्धक पायलटों को खो चुकी है।


सूत्रों से जो ख़बर मिली है उसके अनुसार भारतीय वायुसेना के बेड़े में 40 साल से भी अधिक समय से शामिल मिग-21 विमान जल्द ही वायुसेना से अलविदा हो जाएंगे। और इनकी जगह लेगें फ्रांस से आने वाले राफेल विमान। साल के आखिर में जैसे-जैसे राफेल विमान मिलने शुरू होंगे, पुराने मिग-21 विमानों को युद्धक भूमिका से हटाने का सिलसिला शुरू कर दिया जाएगा। वायुसेना से जुड़े सूत्रों ने कहा कि पहले दो राफेल विमान इस साल के अंत तक वायुसेना को मिल जाएंगे। सभी 36 विमान 2022 तक आने हैं। हालांकि फ्रांस से इसमे तेजी लाने को कहा गया है इसलिए संभावना है कि आपूर्ति और जल्दी हो सकती है। मिग विमानों को लेकर सरकार की चिंता इस बात को लेकर भी है कि ये विमान सामान्य उड़ान के दौरान भी हादसों का शिकार हो रहे हैं। पिछले 40-45 सालों में करीब 500 मिग विमान हादसों का शिकार हुए हैं। जिनमें 171 पायलट और 39 नागरिक मारे गए। सूत्रों के अनुसार, पहले चरण में 2022 तक सभी मिग-21 विमानों को हटा दिया जाएगा। इसके बाद मिग-27 और मिग-29 विमानों को भी हटाया जाना है। इनके लिए 2030 तक का समय रखा गया है। वायुसेना जुड़े सूत्रों के अनुसार मिग-21 विमानों की संख्या अब सीमित रह गई है। मिग-21 की अब सिर्फ तीन स्क्वाड्रन बची हैं जिनमें करीब 40-45 मिग विमान हैं।

ये विमान उन्नत किए हुए हैं जिन्हें मिग-21 बाइसन के रूप में जाना जाता है। हाल में एक मिग-21 बाइसन ने पाकिस्तान के एफ-16 विमान को मारकर रिकॉर्ड कायम किया था। इनमें से कुछ विमान ट्रेनिग के लिए इस्तेमाल होते हैं। इस प्रकार 36 राफेल विमानों से मिग की स्वाड्रन को बदल दिया जाएगा।


राफेल विमान की क्षमता 3700 किलोमीटर और अधिकतम रफ्तार 2200 किलोमीटर प्रति घंटे से भी ज्यादा है। दो शक्तिशाली इंजन पलक झपकते ही इसे आसमान की ऊचाइयों पर पहुंचा देते हैं। यह विमान परमाणु हमला करने में भी सक्षम है। इसमें लगने वाली मीटियोर और स्केल्प मिसाइलें इसे और भी ज्यादा घातक बना देती हैं।


बता दें कि राफेल विमानों को पाकिस्तान में हमला करने के लिए सीमा पार करने की भी जरूरत नहीं है। वे नियंत्रण रखा से ही पाकिस्तान में चल रहे आतंकी शिविरों को ध्वस्त करने में सक्षम होंगे। राफेल दुनिया के सबसे बेहतरीन लड़ाकू विमानों में से एक है। यह दुश्मन देश के रडार की पकड़ में नहीं आता और उन्हें चकमा देने में सक्षम है।



जरा ठहरें...
रूस से जो भी एस-400 खरीदेगा अमेरिका उसके खिलाफ है
AN-32 में सवार सभी 13 लोगों की मौत: वायुसेना
वायुसेना अपने लापता विमान का सुराग देने वाले को ५ लाख का ईनाम देगी
भारतीय वायुसेना के विमान का अभी कुछ अता पता नहीं
जब अपनी ही मिसाइल का शिकार हो गया वायुसेना का हेलीकॉप्टर....?
वायुसेना ने वीर चक्र से "अभिनंदन" की 'अभिनंदन' किए जाने की सिफारिश की!
मिशन शक्ति की सफलता पर जेटली बोले, कांग्रेस अपनी झूठी पीठ थप-थपा रही है
राफेल: शौरी, भूषण और सिन्हा कागजात के लिए दोषी हैं - सरकार
राजनाथ सिंह ने भारत-बांग्लादेश सीमा पर बोल्ड किट सिस्टम का उद्घाटन किया
एनटीआरओ का दावा बालाकोट में ३ सौ मोबाइल फोन सक्रिय थे!
सेना का काम है लक्ष्य को तबाह करना, गिनती करना हमारा काम नहीं - वायुसेना प्रमुख
पाकिस्तान की हर गतिविधियों पर है इसरो की नज़र
पाकिस्तान का झूठ बेनकाब, एफ-१६ का मलबा सामने आया
सरकार ने सेना को पाकिस्तान पर खुली कार्रवाई की छूट दी
पाकिस्तान ने कहा भारतीय वायुसेना पाक सीमा घुसे
भारतीय वायुसेना ने वायु शक्ति के माध्यम से दिखाया अपना दम-खम
इसरो ने भावी योजनाओं का किया खुलासा, पहला अंतरिक्ष अभियान २०२० से शुरू
नौसेना के जांबाज कमांडर ने कहा बस ठीक होने का है इंतजार....!
बीएसएफ ने सेना को पछाड़कर बनाया विश्व रिकार्ड!
भारत को एस-400 के रूप में मिला अभेद्द्य रक्षा कवच!
भारतीय वायुसेना के उपाध्यक्ष ने उड़ाया राफेल को
भारतीय नौसेना को मिला एक और घातक युद्धपोत 'किलर'
ऑटोमोबाइल क्षेत्र के लिए BS-5 और BS-6 मानदंडों की अधिसूचना
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.