ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

मुख्य समाचार

जीएसटी राजस्व में रिकॉर्ड वृद्धि ने राहुल गाँधी के दावे को खारिज किया - कैट

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

२ मई २०१९

नई दिल्ली। कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने आज कहा की अप्रैल, 2019 के महीने के जीएसटी राजस्व संग्रह में उछाल ने राहुल गांधी के इस तर्क को जोरदार तरीके से ध्वस्त कर दिया है कि यह गब्बर सिंह टैक्स है न कि व्यापारियों के हित में। देश में इसके कार्यान्वयन के बाद अप्रैल के महीने में जीएसटी से उच्चतम संग्रह के विपरीत, इस तथ्य को स्थापित करता है कि देश भर के व्यापारियों को वर्तमान जीएसटी कराधानप्रणाली में पूरी तरह से विश्वास है।

हालांकि अभी भी व्यापारियों को जीएसटी अनुपालन में कुछ समस्याएं महसूस हो रही हैं। जीएसटी से राजस्व वृद्धि से यहसंकेत मिलता है कि व्यापारिक समुदाय ने इस कर प्रणाली को अपने व्यापार के अभिन्न अंग के रूप में जीएसटी कराधान प्रणाली को अपनाया है। खंडेलवाल ने आगे कहा कि पहले के वैट शासन की तुलना में जीएसटी में न केवल राजस्व बल्कि जीएसटी के तहत करदाताओं की संख्या भी दोगुनी हो गई है।

जो इस बात को दर्शाता है कि अधिक से अधिक व्यापारी कराधान प्रणाली को अपनाना चाहते हैं और विशेष रूप से यह तब है जब जीएसटी की सीमा को 40लाख रुपये और कंपोजिशन स्कीम को बढ़ाकर 1.5 करोड़ रुपये कर दिया गया है। खंडेलवाल ने कहा कि राहुल गांधी को जीएसटी के बारे में अपने विचारों का आत्मनिरीक्षण करना चाहिए और इसे गब्बर सिंह टैक्स कहना बंद कर देना चाहिए। व्यापारियों को जीएसटी कराधान प्रणाली के तहत विशेष रूप से अपने व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर इंस्पेक्टरों के लगातार आने की समस्या से निजात मिली है।

जिससे देश भर के व्यापारियों में जीएसटी के प्रति भरोसा बढ़ा है। उन्होंने कहा की नई सरकार बनने के बाद, कैट व्यापारियों के अन्य मुद्दों और समस्याओं को नई सरकार और जीएसटी कॉउन्सिल के सामने उनके शीघ्र समाधान के लिए उठाएगी।








जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.