ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

विज्ञान एवं रक्षा तकनीकि

भारतीय वायुसेना के विमान का अभी कुछ अता पता नहीं

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

५ जून २०१९

लाख कोशिशों के बावजूद भारतीय वायुसेना का विमान एएन 32 का कुछ अता पता नहीं चल पाया है। जबकि खोज अभियान युद्ध स्तर पर जारी है। संभावित दुर्घटना क्षेत्र की गणना इसके आखिरी रडार और रेडियो संपर्क के जरिए की गई है। यह क्षेत्र चीन के पश्चिम सियांग जिले की सीमा के नजदीक है। अरुणाचल प्रदेश के गृहमंत्री बामांग फेलिक्स ने कहा, 'हमने पांच जिलों के नागरिक और पुलिस प्रशासन को लगाया है। हमने स्थानीय लोगों से खोजी अभियान में शामिल होने की अपील की है। जिस संभावित क्षेत्र से विमान गायब हुआ है वह घने जगंलों वाला और पहुंच से बाहर है।


अरूणाचल के मुख्यमंत्री ने कहा है कि मौसम भी खराब है। हमें कोई खबर मिलने की उम्मीद है।' अरुणाचल प्रदेश के घने जंगली इलाकों में इसका कुछ पता नहीं चल सका है। माना जा रहा है कि विमान अलोंग-पायूम-तातो के संभावित दुर्घटना क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गया है। इस विमान में आधुनिक रडार या आपातकालीन लोकेटर ट्रांसमीटर नहीं है। यह एएन-32 विमान का वह मॉडल है जिसे अपग्रेड नहीं किया गया था। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन का कहना है कि सैटेलाइट किसी वस्तु की दिन में दो से तीन बार तस्वीर ले सकती है। हालांकि इस सैटेलाइट की एक ही कमजोरी है कि यह घने वृक्षों के बीच में नहीं देख सकती है। यदि विमान का मलबा खुली पहाड़ियों पर होगा तो वह आसानी से इसका पता लगा लेगी। सैटेलाइट के अलावा सुरक्षाबलों की तैनाती, जासूसी ड्रोन और वायुसेना और नौसेना के टोही विमानों को भी खोज में लगाया गया है। हम बता दें कि सोमवार को वायुसेना का एएन-32 विमान अरुणाचल प्रदेश के मेंचुका के पास लापता हो गया था। विमान ने असम के जोरहाट से चीन की सीमा के पास मेंचुका के लिए उड़ान भरी थी। सोमवार दोपहर को उड़ान भरने के करीब 33 मिनट बाद विमान लापता हो गया, जिसमें 13 लोग सवार थे। जिसमें वायुसेना के छह अधिकारी और सात अन्य जवान सवार थे। विमान का पता लगाने के लिए वायुसेना ने सी-130जे, सी 130 हरक्यूलिस, सुखोई एसयू-30 लड़ाकू विमान को लगाया है।

अरूणांचल का उत्तर पूर्वी इलाका अमूमन बादलों से घिरा रहता है। रिसैट सैटेलाइट बादलों के बीच से आसानी से देख सकती है और क्षेत्र को स्कैन करके विमान के मलबे का पता लगा सकती है। रीसैट को खोजी अभियान के लिए चुना गया है। यह सैटेलाइट दिन और रात में काम कर सकती है और इसका एक्स बैंड सिनेथिक अपर्चर रडार किसी चीज के रिसोल्यूशन को एक मीटर तक जूम कर सकता है। जिससे यह धरती की किसी भी वस्तु की साफ तस्वीर भेज सकती है।





जरा ठहरें...
रूस से जो भी एस-400 खरीदेगा अमेरिका उसके खिलाफ है
AN-32 में सवार सभी 13 लोगों की मौत: वायुसेना
वायुसेना अपने लापता विमान का सुराग देने वाले को ५ लाख का ईनाम देगी
जब अपनी ही मिसाइल का शिकार हो गया वायुसेना का हेलीकॉप्टर....?
वायुसेना ने वीर चक्र से "अभिनंदन" की 'अभिनंदन' किए जाने की सिफारिश की!
मिशन शक्ति की सफलता पर जेटली बोले, कांग्रेस अपनी झूठी पीठ थप-थपा रही है
राफेल: शौरी, भूषण और सिन्हा कागजात के लिए दोषी हैं - सरकार
राजनाथ सिंह ने भारत-बांग्लादेश सीमा पर बोल्ड किट सिस्टम का उद्घाटन किया
राफेल के आते ही वायुसेना मिग-२१ विमानों को अपने बेड़े से बाहर कर देगी
एनटीआरओ का दावा बालाकोट में ३ सौ मोबाइल फोन सक्रिय थे!
सेना का काम है लक्ष्य को तबाह करना, गिनती करना हमारा काम नहीं - वायुसेना प्रमुख
पाकिस्तान की हर गतिविधियों पर है इसरो की नज़र
पाकिस्तान का झूठ बेनकाब, एफ-१६ का मलबा सामने आया
सरकार ने सेना को पाकिस्तान पर खुली कार्रवाई की छूट दी
पाकिस्तान ने कहा भारतीय वायुसेना पाक सीमा घुसे
भारतीय वायुसेना ने वायु शक्ति के माध्यम से दिखाया अपना दम-खम
इसरो ने भावी योजनाओं का किया खुलासा, पहला अंतरिक्ष अभियान २०२० से शुरू
नौसेना के जांबाज कमांडर ने कहा बस ठीक होने का है इंतजार....!
बीएसएफ ने सेना को पछाड़कर बनाया विश्व रिकार्ड!
भारत को एस-400 के रूप में मिला अभेद्द्य रक्षा कवच!
भारतीय वायुसेना के उपाध्यक्ष ने उड़ाया राफेल को
भारतीय नौसेना को मिला एक और घातक युद्धपोत 'किलर'
ऑटोमोबाइल क्षेत्र के लिए BS-5 और BS-6 मानदंडों की अधिसूचना
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.