ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रमुख समाचार

सर्वोच्च न्यायालय ने कहा सांसदों, विधायकों की संपत्ति वृद्धि का विवरण दे सरकार

नई दिल्ली

७ सितंबर 2017

सर्वोच्च न्यायालय ने बुधवार को केंद्र सरकार से कहा कि वह उन सांसदों के आय के स्रोत के सत्यापन के लिए उठाए गए कदमों के विवरण पेश करे, जिनकी संपत्तियां एक बार चुनाव जीतने के बाद ही कई गुना बढ़ गई हैं। न्यायमूर्ति जे.चेलमेश्वर व न्यायमूर्ति एस. अब्दुल नजीर ने कर अधिकारियों द्वारा इन मामलों की जांच के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी मांगी है। इसके पहले वरिष्ठ वकील के. राधाकृष्णन ने अदालत से कहा कि जिन मामलों में संपत्तियों में कई गुना बढ़ोतरी हुई है, हम उनकी जांच कर रहे हैं।


वरिष्ठ वकील ने कहा, "हम कार्रवाई में विश्वास करते हैं।" इस पर खंडपीठ ने वरिष्ठ वकील से कहा, "यदि आप कहते हैं कि आपने एक, दो, तीन मामलों की जांच कर रहे हैं, तो यह आपकी नेकनियती को स्थापित करेगा कि आप सुधारों के पक्ष में हैं।" पीठ ने कहा कि वे सिर्फ मूल जानकारी के बारे में कह रहे हैं। पीठ ने कहा, "यदि सरकार सुधारों के खिलाफ नहीं है, तो आवश्यक जानकारी उपलब्ध होनी चाहिए।" अदालत ने यह सवाल एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) द्वारा चार सांसदों की संपत्तियों में 1,200 फीसदी या इससे ज्यादा व 22 अन्य सांसदों की संपत्तियों में 500 फीसदी की वृद्धि दर्ज किए जाने का उदाहरण दिए जाने पर उठाया है।

एडीआर ने एक विधायक का उदाहरण दिया, जिसकी संपत्ति में 2,100 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई। असम के एक विधायक की संपत्ति में 500 फीसदी की वृद्धि व केरल के एक विधायक की संपत्ति में 2011 के विधानसभा चुनाव के बाद से 1,700 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। केंद्र सरकार की तरफ से पेश राधाकृष्णन ने कहा कि राष्ट्र की सफाई करना सिर्फ कूड़ा हटाना नहीं है, बल्कि प्रणाली को भी खुद में साफ करना है। हर कोई सामूहिक रूप से अच्छा जीवन चाहता है। अदालत एक एनजीओ लोकप्रहरी की याचिका पर सुनवाई कर रहा था, जिसमें उम्मीदवारों के आय के स्रोत के खुलासे की मांग की गई है। अदालत मामले पर अगली सुनवाई 12 सितंबर को करेगी।




जरा ठहरें...
चुनावी वादा! चार करोड़ ग्रामीणों को मुफ्त बिजली कनेक्शन देने का वादा
भाजपा की कार्यकारिणी की बैठक में होगी कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा!
पेट्रोलियम पदार्थों के दामों में पिछले तीन सालों में भयानक वृद्धि
कांग्रेस ने कहा बुलेट ट्रेन का समझौता 2013 में ही हुआ था, मोदी देश को बरगला रहे हैं!
रक्षा मंत्री का बड़ा फैसला, सेना प्रमुखों और सचिवों के साथ रोजाना होगी बैठक!
गंदगी फैलाने वालों को वंदे मातरम कहने का हक नहीं - मोदी
रेल मंत्री की रेलवे में सुरक्षा को लेकर अधिकारियों के साथ मैराथन बैठक!
2019 की टीम मोदी तैयार हो चुकी है, जानिए अब कौन क्या है?
राजधानी में राजधानी पटरी से उतरी
भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस को एक मंच बनाना पड़ेगा - चिदंबरम
सैटेलाइट के जरिए पड़ोसी घुसपैठियों को रोकने की तैयारी
''भारत ने मान लिया है कि डोकलाम पर चीन का कब्जा है''
अब दुरंतो हुई बेपटरी, १० दिन में तीसरा बड़ा रेल हादसा
राम रहीम के बाद डेरा का प्रमुख कौन चर्चा जोरों पर
खतरे को देख सेना ने मांगी सरकार से २० हजार करोड़ रूपए
'नोटो की छपाई सदी का सबसे बड़ा घोटाला है'
मदुरै-वांची और मनियाछी - तूतीकोरिन रेल मार्गों का विद्युतीकरण की मंजूरी
'भारतीय रेलवे का खाना बेहद घटिया और खाने लायक नहीं'
दलहन, तिलहन के मामले में दो साल में आत्म निर्भर हो जाएंगे - कृषि मंत्री
देश को मिली पहली सोलर रेल गाड़ी
कसौटी पर खरी नहीं उतर रही है देश की सबसे लंबी सुरंग
19 साल बाद भी रेल हादसे का मुआवजा वही है!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें