ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

क्या आप जानते हैं

सर्वोच्च न्यायालय ने खुद उठाया समान नागरिक संघिता का मामला..!

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

१४ सितंबर २०१९

देश के सर्वोच्च न्यायालय ने एक बार फिर समान नागरिक संहिता का चर्चा करके इस बात को बल दे दिया है कि देश में सभी जाति धर्म के लोगों के लिए एक कानून होना चाहिए। जी हां गोवा के एक परिवार की संपत्ति के बंटवारे पर फैसला देते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने कहा, "भारत में अब तक यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू करने के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया। जबकि संविधान निर्माताओं ने अनुच्छेद 44 में नीति निदेशक तत्व के तहत उम्मीद जताई थी कि भविष्य में ऐसा किया जाएगा। यूनिफॉर्म सिविल कोड का ये मतलब कतई नहीं है कि इसकी वजह से विवाह मौलवी या पंडित नहीं करवाएंगे।


ये परंपराएं बदस्तूर बनी रहेंगी। नागरिकों के खान-पान, पूजा-इबादत, वेश-भूषा पर इसका कोई असर नहीं होगा। ये अलग बात है कि धार्मिक कट्टरपंथी इसको सीधे धर्म पर हमले की तरह पेश करते रहे हैं। संविधान बनाते वक्त समान नागरिक संहिता पर काफी चर्चा हुई। लेकिन तब की परिस्थितियों में इसे लागू न करना ही बेहतर समझा गया। इसे अनुच्छेद 44 में नीति निदेशक तत्वों की श्रेणी में जगह दी गई। नीति निदेशक तत्व संविधान का वो हिस्सा है जिनके आधार पर काम करने की सरकार से उम्मीद की जाती है। हम बता दें कि समान नागरिक संहिता यानी यूनिफॉर्म सिविल कोड का मतलब है विवाह, तलाक, बच्चा गोद लेना और संपत्ति के बंटवारे जैसे विषयों में सभी नागरिकों के लिए एक जैसे नियम। दूसरे शब्दों में कहें तो परिवार के सदस्यों के आपसी संबंध और अधिकारों को लेकर समानता। जाति-धर्म-परंपरा के आधार पर कोई रियायत नहीं। इस वक़्त हमारे देश में धर्म और परंपरा के नाम पर अलग नियमों को मानने की छूट है। जैसे किसी समुदाय में बच्चा गोद लेने पर रोक है। किसी समुदाय में पुरुषों को कई शादी करने की इजाज़त है। कहीं-कहीं विवाहित महिलाओं को पिता की संपत्ति में हिस्सा न देने का नियम है।

यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू होने पर किसी समुदाय विशेष के लिए अलग से नियम नहीं होंगे। 1954-55 में भारी विरोध के बावजूद तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू हिन्दू कोड बिल लाए। इसके आधार पर हिन्दू विवाह कानून और उत्तराधिकार कानून बने। मतलब हिन्दू, बौद्ध, जैन और सिख समुदायों के लिए शादी, तलाक, उत्तराधिकार जैसे नियम संसद ने तय कर दिए। मुस्लिम, ईसाई और पारसी समुदायों को अपने-अपने धार्मिक कानून यानी पर्सनल लॉ के आधार पर चलने की छूट दी गई। ऐसी छूट नगा समेत कई आदिवासी समुदायों को भी हासिल है। वो अपनी परंपरा के हिसाब से चलते हैं।


अक्टूबर 2015 में सर्वोच्च न्यायालय ने ईसाई तलाक कानून में बदलाव की मांग करने वाली याचिका सुनते हुए केंद्र के वकील से कहा था, "देश में अलग अलग पर्सनल लॉ की वजह से भ्रम की स्थिति बनी रहती है। सरकार चाहे तो एक जैसा कानून बना कर इसे दूर कर सकती है। क्या सरकार ऐसा करेगी? अगर आप ऐसा करना चाहते हैं तो आपको ये कर देना चाहिए। सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद सरकार ने लॉ कमीशन को मामले पर रिपोर्ट देने के लिए कहा था।




जरा ठहरें...
दो हजार का नोट बंद नहीं होंगे - सरकार
गांधी परिवार की सुरक्षा में तैनात जवान, पूर्व में एसपीजी में ही थे - गृहमंत्री
संसद भवन के नवनिर्माण का ठेका गुजरात की कंपनी को..!
प्याज की बढ़ती कीमतों पर सरकार की नज़र - उपभोक्ता मंत्रालय
अयोध्या पर फैसले से फैसले रेलवे ने आरपीएफ की छुट्टियां रद्द कीं
दमघोंटू हवा से निपटने में नाकाम सरकारों से सर्वोच्च न्यायालय ने तुरंत जवाब देने को कहा
दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति भयावह, आपात स्थिति घोषित!
अमेजन और फ्लिपकार्ट की वजह से हजारों दुकानें बंद होने की कगार पर - कैट
भारतीय मूल के अर्थशास्त्री को मिला नोबेल पुरस्कार!
सरकार एसपीजी पाने वाले नेताओं के नियम में बदलाव करेगी
केंद्रीय विश्वविद्यालयों में बड़े पैमाने पर भर्ती की तैयारी में सरकार
कृषि वैज्ञानिकों ने चने की नई प्रजातियां विकसित की
कैट ने फ्लिपकार्ट और अमेजन द्वारा त्यौहारी कारोबारी में छूट दिए जाने की आलोचना की
चालान का कहर: एक लाख ४१ हजार ७०० का कटा चालान!
रेलवे ने आधुनिकता पर दिया जोर, हेड ऑन जनरेशन” प्रणाली का उपयोग!
भारतीय सेना के जवान ने शंख बजाकर बनाया विश्व रिकार्ड...!
चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ होने से हमारी रक्षा क्षमता बढ़ेगी - अमित शाह
देश के किसानों के लिए आज से शुरू हुई ''किसान पेंशन योजना''
भारत ने धारा ३७० खत्म किया, पाक ने भारत से संबंध खत्म किया
बच्चे की मुहं में 32 नहीं 526 दांत निकले...!!!
एक अस्पताल की 36 नर्सें एक साल में गर्भवती हुई...!
अमेरिकी अखबार ने कहा अब तक ११ हजार बार झूठ बोल चुके हैं अमेरिकी राष्ट्रपति
मंगला एक्सप्रेस में गंदे पानी से बनाया जाता है सूप और अन्य चीज
वैज्ञानिकों ने माना रामसेतु मानव निर्मित है
30 किलो से ज्यादा वजन के कुत्ते को घोड़ा मानता है रेलवे!
२०५ साल के बाबा, १०५ साल से नहीं खाया एक अन्न भी!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.