ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

कारोबार-समाचार

सरकार को अर्थ व्यवस्था को गति देने की घोषणा, शेयर बाजार को लगे पंख

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज

नई दिल्ली, २० सितंबर २०१९

सरकार ने आज अर्थ व्यवस्था को गति देने के लिए ऐसी घोषणा की पिछले कुछ दिनों से औंधे मुंह गिर रहा शेयर बाजार के पंख लग गए और शेयर बाजार का सूचकांक दो हजार के पार पहुंच गया। जी हां केंद्रीय वित्त मंत्री सीतारमन ने बड़ी घोषणा करते हुए शुक्रवार को कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर घटा दी। अब घरेलू कंपनियों के लिये सभी अधिशेषों और उपकर समेत कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर 25.17 प्रतिशत होगी। उन्होंने कहा कि आयकर अधिनियम तथा वित्त अधिनियम में किये गये बदलाव अध्यादेश के जरिये अमल में लाये जाएंगे। उन्होंने कहा कि 22 प्रतिशत की दर से आयकर भुगतान करने का विकल्प चुनने वाली कंपनियों को न्यूनतम वैकल्पिक कर देने की जरूरत नहीं होगी।


फाइल फोटो।

वित्तमंत्री ने कहा कि एक अक्टूबर के बाद बनने वाली घरेलू विनिर्माण कंपनियां बिना किसी प्रोत्साहन के 15 प्रतिशत की दर से आयकर भुगतान कर सकेंगी। इनके लिये अधिशेषों और उपकर समेत कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर 17.01 प्रतिशत होगी। उन्होंने कहा कि छूट का लाभ उठा रही कंपनियां इनकी अवधि समाप्त होने के बाद कम दर पर कर का भुगतान करने का विकल्प चुन सकती हैं। सरकार ने प्रतिभूति लेन-देन कर की देनदारी वाली कंपनियों के शेयरों की बिक्री से हुए पूंजीगत लाभ पर बजट में प्रस्तावित उपकर को भी वापस लेने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों के लिये डेरिवेटिव समेत प्रतिभूतियों की बिक्री से होने वाले पूंजीगत लाभ पर धनाढ्य-उपकर समाप्त करने का भी निर्णय लिया गया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि नयी दर इस वित्त वर्ष के एक अप्रैल से प्रभावी होगी। उन्होंने कहा कि दर कम करने तथा अन्य घोषणाओं से राजस्व में सालाना 1.45 लाख करोड़ रुपये की कमी का अनुमान है। सीतारमण ने कहा कि निवेश और आर्थिक वृद्धि दर को गति देने के लिये ये कदम उठाये गये हैं। यदि कोई घरेलू कंपनी किसी भी प्रोत्साहन का लाभ नहीं लें तो उनके लिये कॉरपोरेट कर की दर 22 प्रतिशत होगी।

वित्तमंत्री ने एक अन्य राहत देते हुए कहा कि जिन सूचीबद्ध कंपनियों ने पांच जुलाई से पहले शेयरों की पुनर्खरीद की घोषणा की है, उन्हें भी धनाढ्य-उपकर नहीं देना होगा। कंपनियों को अब दो प्रतिशत कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) इनक्यूबेशन, आईआईटी, एनआईटी और राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं पर खर्च करने की भी छूट दी गयी है। सीतारमण ने कर में छूट से मेक इन इंडिया में निवेश आने तथा रोजगार सृजन और आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलने का भरोसा जाहिर किया। उन्होंने कहा कि इससे अधिक राजस्व प्राप्त होगा।





जरा ठहरें...
कैट ने बहुराष्ट्रीय एवं रीटेल कम्पनियों के उत्पादों के बहिष्कार की धमकी दी
इस बार दिवाली पर चीनी वस्तुओं की बिक्री 60 प्रतिशत घटी - कैट
देश भर के व्यापारी दिवाली पर भी कर रहे आर्थिक मंदी का सामना
टीम कैशलेस अभियान का पीयूष गोयल और एमएस धोनी ने किया लांच
अमेजन और फ्लिपकार्ट पर दिए जा रहे छूट से बौखलाया कैट!
अमेज़न और फ्लिपकार्ट के साथ कैट की बैठक बेनतीजा
दिवाली निकट है लेकिन बाजार से ग्राहक गायब - कैट
7 करोड़ व्यापारी 2 अक्तूबर से प्लास्टिक थैलों का उपयोग नहीं करेंगे - कैट...!
भारत और अफगानिस्तान का संयुक्त विश्व व्यापार मेला दिल्ली में शुरू
जानी मानी इलेक्ट्रानिक कंपनी शार्प ने भारत में अपने नए घरेलू उत्पाद उतारा!
अमेरिका का भारत के साथ बिगड़ते व्यापारिक रिश्ते से खुद अमेरिका चिंतित
ऑटो क्षेत्र में गिरावट के लिए बीएस-६ मॉडल जिम्मेदार - वित्त मंत्री
केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री प्रधान खाड़ी देशों की यात्रा पर
ऑटो क्षेत्र में मंदी की कहर, मारूति ने बंद किया उत्पादन!!
वित्त मंत्री की बड़ी घोषणा, १० बैंकों को मिलाकर बने ४ बैंक
बेहिचक पीजिए रेलनीर, गुणवत्ता और स्वास्थ्य से नहीं होता समझौता!
वित्त मंत्री ने अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए कई उपायों की घोषणा की
डेबिट और क्रेडिट कार्ड बंद करने की तैयारी में एसबीआई
ओयो ने दिल्ली में अपने नए इनोव8 सेंटर का ऐलान किया
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.