ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

क्या आप जानते हैं

कृषि वैज्ञानिकों ने चने की नई प्रजातियां विकसित की

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, २१ सितंबर २०१९

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद की अखिल भारतीय समन्वित चना अनुसंधान परियोजना ने हाल ही में बिरसा कृषि विश्वविद्यालय, रांची (झारखंड) में आयोजित अपने 24वें वार्षिक समूह बैठक में जीनोमिक्स की सहायता से विकसित चना की दो बेहतर क़िस्मों की पहचान की है। इन किस्मों का नाम “पूसा चिकपी 10216” और “सुपर एनेगरी -1” है, जिसे क्रमशः आईसीएआर- भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (आईसीएआर-आईएआरआई), नई दिल्ली और यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चरल साइन्सेस- रायचूर (यूएएस-रायचूर), कर्नाटक द्वारा इंटरनेशनल क्रॉप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर सेमी एरिड ट्रोपिक्स (आईसीआरआईएसएटी), हैदराबाद के सहयोग से जीनोमिक हस्तक्षेप के माध्यम से प्रजनित कर, जिसे आणविक प्रजनन भी कहते हैं, विकसित किया गया है। 


डॉ त्रिलोचन महापात्र, महानिदेशक, आईसीएआर और सचिव, कृषि अनुसंधान और शिक्षा विभाग (डीएआरई), भारत सरकार ने चना के इन दो नई किस्मों की पहचान होने पर कहा कि "यह आईसीएआर संस्थानों, राज्य कृषि विश्वविद्यालयों और आईसीआरआईएसएटी जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठन के सहयोग की सफलता की कहानी है"।  उन्होंने आगे कहा कि, "प्रजनन में इस तरह के जीनोमिक्स हस्तक्षेप से जलवायु परिवर्तन से प्रेरित विभिन्न प्रकार के तनावों से पार पाते हुए चना जैसे दलहनी फसलों की उत्पादकता में वांछित वृद्धि होगी। आईसीएआर ने प्रजनन की इस नई रणनीति को अपनाते हुए कई अन्य फसलों में 24 उच्च पैदावार और गुणों वाली नई किस्में विकसित की हैं।  वर्तमान समय में इसी रणनीति से चना में नई उच्च पैदावार देने वाली किस्मों के विकास पर ध्यान केंद्रित करने से देश में दलहन उत्पादन और उत्पादकता में आवश्यक बढ़ोतरी की उम्मीद है"।

आईसीआरआईएसएटी, हैदराबाद के महानिदेशक डॉ पीटर कारबेरी ने कहा कि "हम चना के उन्नत किस्मों के रूप में आईसीएआर, यूएएस-आर और आईसीआरआईएसएटी के आपसी सहयोग को फलीभूत होते को देखकर बहुत उत्साहित हैं"। उन्होंने आगे कहा कि, "मुझे यकीन है कि हमारे आईसीआरआईएसएटी के भागीदारों के साथ ऐसे सहयोगात्मक प्रयासों से न केवल भारत में बल्कि उप-सहारा अफ्रीका में भी छोटे किसानों को फायदा होगा"।





जरा ठहरें...
अमेजन और फ्लिपकार्ट की वजह से हजारों दुकानें बंद होने की कगार पर - कैट
भारतीय मूल के अर्थशास्त्री को मिला नोबेल पुरस्कार!
सरकार एसपीजी पाने वाले नेताओं के नियम में बदलाव करेगी
केंद्रीय विश्वविद्यालयों में बड़े पैमाने पर भर्ती की तैयारी में सरकार
कैट ने फ्लिपकार्ट और अमेजन द्वारा त्यौहारी कारोबारी में छूट दिए जाने की आलोचना की
सर्वोच्च न्यायालय ने खुद उठाया समान नागरिक संघिता का मामला..!
चालान का कहर: एक लाख ४१ हजार ७०० का कटा चालान!
रेलवे ने आधुनिकता पर दिया जोर, हेड ऑन जनरेशन” प्रणाली का उपयोग!
भारतीय सेना के जवान ने शंख बजाकर बनाया विश्व रिकार्ड...!
चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ होने से हमारी रक्षा क्षमता बढ़ेगी - अमित शाह
देश के किसानों के लिए आज से शुरू हुई ''किसान पेंशन योजना''
भारत ने धारा ३७० खत्म किया, पाक ने भारत से संबंध खत्म किया
बच्चे की मुहं में 32 नहीं 526 दांत निकले...!!!
एक अस्पताल की 36 नर्सें एक साल में गर्भवती हुई...!
अमेरिकी अखबार ने कहा अब तक ११ हजार बार झूठ बोल चुके हैं अमेरिकी राष्ट्रपति
मंगला एक्सप्रेस में गंदे पानी से बनाया जाता है सूप और अन्य चीज
वैज्ञानिकों ने माना रामसेतु मानव निर्मित है
30 किलो से ज्यादा वजन के कुत्ते को घोड़ा मानता है रेलवे!
२०५ साल के बाबा, १०५ साल से नहीं खाया एक अन्न भी!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.