ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

चर्चा में

मुस्लिम पक्ष ने माना कि अयोध्या में भगवान राम का जन्म हुआ!

नई दिल्ली

२३ सितंबर २०१९

सर्वोच्च न्यायालय की संविधान पीठ के सामने दलील पेश करते हुए मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं कि भगवान राम का सम्मान होना चाहिए, लेकिन भारत जैसे देश में अल्लाह का भी सम्मान है। साथ ही उन्हों ने कहा कि हम मान लेते हैं कि राम का जन्म वहां हुआ। मुस्लिम पक्ष की इस दलील से कई मायने निकाले जा रहा हैं। इससे पहले हुई सुनवाई के दौरान मुस्लिमों का पक्ष रखते हुए राजीव धवन ने कहा था कि सन 1985 में राम जन्मभूमि न्यास का गठन किया गया था।


फाइल फोटो।

फिर एक सोची समझी रणनीति के तहत कार सेवकों के जरिए आंदोलन चलाया गया। नतीजतन 1992 में ढांचे को गिरा दिया गया। इसे गिराने के पीछे सुनियोजित षड़यंत्र था कि वास्तविकता को खत्म कर दिया जाए। इससे पहले सुनवाई के सातवें दिन रामलला विराजमान के वकील ने दावा किया था कि जिस जगह मस्जिद बनाई गई थी उसके नीचे मंदिर का बहुत बड़ा ढांचा था। आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (एएसआई) की रिपोर्ट में साफ है कि वहां नीचे विशाल मंदिर था। उसमें कई पिलर और स्तंभ पाए गए हैं जो ईसा पूर्व 200 साल पहले के हैं। अदालत ने पिछले हफ्ते सभी पक्षकारों से कहा था कि सब मिलकर कोशिश करें कि सुनवाई 18 अक्टूबर तक पूरी हो जाए।

बता दें कि केस में 28 दिन की सुनवाई पूरी हो चुकी है और 18 अक्टूबर तक अदालत के पास 14 कार्यदिवस का समय शेष है। यही नहीं अब एक घंटे ज्यातदा समय तक सुनवाई होगी, इसलिए उम्मीद है कि 18 अक्टूबर तक मामले की सुनवाई पूरी हो जाएगी। अयोध्या  जमीन विवाद मामले में अब मुस्लिम पक्ष अपनी दलील रख रहा है। इससे पहले हिंदू पक्ष को अपनी दलील रखने का समय दिया गया था। मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने सोमवार को बहस को आगे बढ़ाते हुए कहा, 'हम मान लेते हैं कि राम का जन्म वहां हुआ, निर्मोही अखाड़ा वहां चबूतरे पर राम की पूजा करते थे।


अंदर मस्जिद थी और वहां नमाज पढ़ी जाती रही। अब हिंदू पक्ष चाहता है कि वहां सिर्फ मंदिर रहे। इसमें कोई संदेह नहीं कि भगवान राम का सम्मान होना चाहिए, लेकिन भारत जैसे महान देश में अल्लाह का भी सम्मान है। हमारे भारत देश की नींव इसी पर रखी हुई है।




जरा ठहरें...
“चीन पर भारत का डिजीटल हमला निशाने पर, गिड़गिडाने लगे चीनी व्यापारी”
भारत का नया दुश्मन बना नेपाल, चीन को दे बैठा अपनी जमींन...!
मुख्य समाचार चीन से निपटने के लिए सेना को पूरी छूट दी गयी
टिड्डियों की आफत से निपटने के लिए सरकार ने उठाए कदम
वाह रे भारतीय रेल, पहुंचना था गोरखपुर पहुंच गयी उड़ीसा...!
घोर लापरवाही: विदेशों से आए 15 लाख लोग, सभी की जांच नहीं हुई - कैबिनेट सचिव
तेज-तर्रार और सख्त आईपीएस अधिकारियों में गिने जाते हैं एस एन श्रीवास्तव
अनुच्छेद 370 हटाकर केन्द्र सरकार ने कश्मीरियत और जमूरियत दोनों का दिल जीता
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में इतिहास बदलने की क्षमता है - मेजर जनरल (रि) जे के एस परिहार
एक ऐसी दूरबीन जो १०० प्रकाश वर्ष दूर तक देख सकेगी!
प्रतिदिन 25-प्रतिशत बच्चे भूखे रह जाते हैं
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.