ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रमुख समाचार

सिन्हा की आलोचना से तिलमिला उठी भाजपा, कांग्रेस की भौहें खिली!

नई दिल्ली

28 सितंबर 2017

देश की अर्थव्यवस्था की स्थिति पर वरिष्ठ भाजपा नेता यशवंत सिन्हा के बयान से भाजपा में कई लोग तिलमिला उठे हैं। सरकार ने जहां उनकी आलोचना को खारिज कर दिया, वहीं कांग्रेस ने इसे सही बताया है। कांग्रेस की भौहें खिल गयी है। जी हां भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने वित्तमंत्री अरुण जेटली पर भारतीय अर्थव्यवस्था की सेहत बिगाड़ने और इसके बाद उत्पन्न 'आर्थिक सुस्ती' से कई सेक्टरों की हालत खस्ता होने के लिए निशाना साधा है।  अंग्रेजी अखबार 'द इंडियन एक्सप्रेस' के संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित लेख में सिन्हा ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दावा करते हैं कि उन्होंने बहुत करीब से गरीबी देखी है और उनके वित्तमंत्री भी सभी भारतीयों को गरीबी करीब से दिखाने के लिए काफी मेहनत कर रहे हैं।


सिन्हा ने कहा है जेटली अपने पूर्व के वित्त मंत्रियों के मुकाबले बहुत भाग्यशाली रहे हैं। उन्हें वित्त मंत्रालय की बागडोर उस समय मिली थी, जब वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल कीमत में कमी के कारण उनके पास लाखों-करोड़ों रुपये की धनराशि थी। लेकिन उन्होंने तेल से मिले लाभ को गंवा दिया। उन्होंने कहा है कि विरासत में मिली समस्याएं, जैसे बैंकों के एनपीए और रुकी परियोजनाएं निश्चित ही उनके सामने थीं, लेकिन इससे सही ढंग से निपटना चाहिए था। विरासत में मिली समस्या को न सिर्फ बढ़ने दिया गया, बल्कि यह अब और बिगड़ गई है।

सिन्हा ने भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति पर टिप्पणी करते हुए कहा कि दो दशकों में पहली बार निजी निवेश इतना कम हुआ और औद्योगिक उत्पादन पूरी तरह ध्वस्त हो गया है। कृषि की हालत खस्ताहाल है, विनिर्माण उद्योग मंदी के कगार पर है और अन्य सेवा क्षेत्र धीमी गति से आगे बढ़ रहा है, निर्यात पर बुरा असर पड़ा है, एक के बाद एक सेक्टर संकट में है। वाजपेयी सरकार में वित्तमंत्री रहे सिन्हा ने कहा है कि गिरती अर्थव्यवस्था में नोटबंदी ने आग में घी डालने का काम किया और बुरी तरह लागू किए गए जीएसटी से उद्योग को भारी नुकसान पहुंचा है और कई तो इस वजह से बर्बाद हो गए हैं।


सिन्हा ने कहा है, "इस वजह से लाखों लोगों को अपनी नौकरियां गंवानी पड़ी है और बाजार में मुश्किल से ही कोई नौकरी पैदा हो रही है। मौजूदा वित्त वर्ष की पिछली तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर गिर कर 5.7 प्रतिशत हो गई, लेकिन पुरानी गणना के अनुसार यह वास्तव में केवल 3.7 प्रतिशत ही है।" उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने जीडीपी दर गणना की पुरानी पद्धति वर्ष 2015 में नहीं बदली होती तो यह अभी वास्तव में 3.7 प्रतिशत या इससे कम रहती। पूर्व वित्तमंत्री ने कहा कि जेटली को वित्त मंत्रालय के अलावा और कई विभागों की जिम्मेदारियां भी दी गईं, जिससे उनपर अतिरिक्त जिम्मेदारियां आईं और शायद उनसे बहुत ज्यादा अपेक्षा की गई।


सिन्हा के इस बयान पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने कहा कि कांग्रेस ने अर्थव्यवस्था की कई कमियों और अप्रबंधन को उजागर किया है। उन्होंने कहा, "हम खुश हैं कि यशवंत सिन्हा ने हमारी आलोचना के संबंध में बोला। हम सत्तारूढ़ पार्टी के वरिष्ठ नेता के बयान का स्वागत करते हैं।" चिदंबरम ने कहा कि सिन्हा का बयान भाजपा और अन्य पार्टियों के कई सांसदों से अलग नहीं है। इनमें से कई ने हमें निजी तौर पर और छिपे तौर पर इस बारे में कहा है। उन्होंने कहा कि यह बहुत बुरा है कि सांसद अपने आस-पास जो देखते हैं, महसूस करते हैं, खासकर अपने निर्वाचन क्षेत्रों में, उसे बयान नहीं कर सकते और हम कहते हैं कि हम एक आजाद देश में रहते हैं।

चिदंबरम ने कहा, "केवल सांसद ही चुप नहीं हैं। हमें ऐसे कई उदाहरणों की जानकारी है, जब समाचार रपट और लेख को प्रकाशित होने से पहले हटा लिया गया, कई टेलीविजन साक्षात्कार को दिखाए जाने से पहले ऑफ एयर कर दिया गया, सामाजिक कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाए गए और सबसे खतरनाक लोगों की वाजिब आवाजों को उनकी हत्या कर दबा दिया गया।" उन्होंने कहा, "भाजपा के कई सांसदों ने अर्थव्यस्था के बारे में हमसे कहा है। किसी में भी प्रश्न करने की हिम्मत में नहीं है। महाराष्ट्र के एक सांसद ने इस संबंध में आवाज उठाई और उसे चुप रहने का निर्देश दिया गया।" लेकिन सरकार ने यशवंत सिन्हा की अर्थव्यवस्था को लेकर की गई आलोचना खारिज कर दी और कहा कि विश्व में भारत की पहचान एक तेजी के साथ विकास कर रही अर्थव्यवस्था के रूप में बनी है।

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, "विश्व में भारत की पहचान एक तेजी के साथ वृद्धि करती अर्थव्यवस्था के तौर पर है। किसी को यह नहीं भूलना चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हमारी छवि काफी मजबूत है।" रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने सबसे स्वच्छ सरकार दी है और उन्होंने काला धन व भ्रष्टाचार पर जिस तरीके से हमला किया है, उस तरह से किसी ने नहीं किया।


जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें