ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

शिक्षा/संस्कृति/पर्यटन

2020 तक IIT में छात्रों की भर्ती संख्या बढ़ाकर एक लाख करने की योजना

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

२६ सितंबर २०१९

आईआईटी काउंसिल एक प्रस्ताव पर विचार कर रही है, जिसके अनुसार अगले तीन वर्षों में 2020 तक 30 हजार अन्य नॉन रेसीडेंट छात्रों को आईआईटी संस्थानों में पढ़ने की अनुमति दी जाएगी। सूत्रों  की मानें तो आईआईटी परिषद की अगली बैठक में इस प्रस्ताव पर चर्चा होगी, जिसमें नॉन रेसीडेंट छात्रों को लेने का सुझाव है। यह बैठक 23 अगस्त को हुई थी। 

छात्रों की संख्या में वृद्धि शिक्षण प्रक्रिया के साथ समझौता किए बिना होगी और वो पर्याप्त शिक्षण सुविधाओं की उपलब्धता पर निर्भर करेगा. आईआईटी काउंसिल जिन अन्य महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर चर्चा करने जा रहा है उसमें प्रोजेक्ट 'विश्वजीत' भी शामिल है, जो शीर्ष सात आईआईटी को उनकी अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग में सुधार में सहायता प्रदान करेगा. सूत्रों ने बताया कि एक अन्य कदम आईआईटी से पीएचडी छात्रों की भर्ती से संबंधित है. इसके जरिए रिक्तियों को भरने का लक्ष्य रखा गया है। एक अन्य सूत्र के अनुसार, 'फिलहाल आईआईटी में स्नातक, स्नातकोत्तर या डॉक्टरेट पाठयक्रमों में 72000 तक छात्रों का दाखिला लिया जाता है, जो रेसीडेंसियल होते हैं. हालांकि, इस बात पर विचार किया जा रहा है कि 'जो छात्र हॉस्टलों में नहीं ठहरेंगे, उनका भी इन संस्थानों में दाखिला होना चाहिए।

योजना प्रतिवर्ष संख्या में 10 हजार की वृद्धि करने की है ताकि आईआईटी में पढ़ने वाले छात्रों की संख्या 2020 तक एक लाख तक पहुंचाई जा सके. 30 हजार अतिरिक्त छात्रों के लिए लिए हॉस्टल में ठहरने के लिए आधारभूत संरचना पैदा करने की बजाय यह प्रस्ताव किया जाता है कि नॉन रेसीडेंसियल छात्रों को लेकर अधिक प्रतिभाओं को लेना बढ़ाया जा सके।









जरा ठहरें...
भारत अपनी प्रतिभा की लोहा मनवाने के लिए 2021 की पिसा प्रतियोगिता में हिस्सा लेगा - निशंक
केंद्राय मानव संशाधन मंत्री ने देश में नए नवोदय विद्यालयों का किया उद्घाटन!
नई शिक्षा नीति: मानव संशाधन विकास मंत्री की रंगराजन और श्रीधर से मुलाकात
आरुषि निशंक साल भर में १० लाख पौधारोपण करने की बात कही
कांग्रेस की शिक्षा व्यवस्था से हमारे कार्यकाल में कहीं बहुत बेहतर हुआ काम!
भारतीय पुरातत्व विभाग की नई इमारत धरोहर का उद्घाटन किया प्रधानमंत्री मोदी ने
हुमायूं के मकबरे से मिला बेशकीमती खजाना!
कुंभमेला यूनेस्को के सांस्कृतिक विरासत में शामिल, मोदी बोले गर्व की बात!
रोमानिया में पढ़ाया जाता है रामायण और महाभारत के अंश
कौन है आज का प्रेमचंद? हिंदी साहित्य का अमर साहित्यकार मुंशी प्रेमचंद
रामचरित मानस की दुर्लभ प्राचीन पांडुलिपि बरामद
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.