ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

क्या आप जानते हैं

दमघोंटू हवा से निपटने में नाकाम सरकारों से सर्वोच्च न्यायालय ने तुरंत जवाब देने को कहा

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

४ नवंबर २०१९

दिल्ली और आस-पास के राज्यों में छाए प्रदूषण के काले बादलों की वजह से दमघोंटू हुई हवा से निपटने में नाकाम सरकारों से सर्वोच्च न्यायालय ने कड़ी नाराजगी जाहिर करते हुए केंद्र सरकार से तुरंत जवाब देने को कहा है। सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र समेत राज्य सरकारों को फटकार लगाते हुए कहा कि इन हालातों में आखिर कैसे जिया जा सकता है। सोमवार को शीर्ष अदालत ने केंद्र और दिल्ली सरकार से पूछा कि आखिर आप हवा को बेहतर करने के लिए क्या कर रहे हैं। इसके अलावा कोर्ट ने हरियाणा और पंजाब सरकार से भी पूछा कि आप पराली जलाने में कमी लाने के लिए क्या कर रहे हैं। कोर्ट ने कहा, 'इस तरीके से नहीं जिया जा सकता। केंद्र सरकार, राज्य सरकार को कुछ करना चाहिए। इस तरह से नहीं चल सकता। यह बहुत ज्यादा है। शहर में कोई कमरा, कोई घर सेफ नहीं है। हम इस पलूशन के चलते जिंदगी के कीमती साल गंवा रहे हैं।'


प्रतीकात्मक तस्वीर।


सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार ने आधे घंटे के अंदर आईआईटी दिल्ली से किसी पर्यावरण एक्सपर्ट और मंत्रालय से किसी को बुलाने को कहा। केंद्र को कहा है कि वह उनसे आधे घंटे के अंदर समाधान पूछे, जिससे इस स्थिति से निपटा जा सके। सुप्रीम कोर्ट ने कहा, 'हालात बहुत खराब हैं। केंद्र और राज्य सरकार क्या करने वाली हैं? पलूशन को कम करने के लिए आप क्या करेंगे? सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब और हरियाणा को पराली कम जलाने को भी कहा।' सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पराली जलाने पर तुरंत रोक लगनी चाहिए जिसके लिए राज्य सरकारों को कदम उठाने होंगे। प्रशासन को सख्त कदम उठाने होगें और अधिकारियों के साथ साथ ग्राम प्रधान तक की जिम्मेदारी तय होनी चाहिए।
शीर्ष न्यायालय ने माना कि दिल्ली में कोई भी जगह सुरक्षित नहीं बची है। चाहे वह किसी का घर ही क्यों न हो। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि शहर का दम घुट रहा है लेकिन दिल्ली सरकार और केंद्र आरोप-प्रत्यारोप में उलझे हैं। सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दिल्ली हर साल घुटती जा रही है, लेकिन हम कुछ नहीं कर पा रहे। ऐसा हर साल 10-15 दिनों के लिए होने लगा है। ऐसा किसी सभ्य देश में नहीं होता। जीने का हक सबसे जरूरी है।

सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि इस तरह से हम नहीं जी पाएंगे। केंद्र और राज्य सरकार को कुछ करना होगा। ऐसा नहीं चल सकता। यह बहुत ज्यादा हो चुका है। इस शहर की कोई जगह सुरक्षित नहीं है। यहां तक कि घर भी सेफ नहीं। इसकी वजह से हम अपने जीवन के कीमती साल खो रहे हैं। "हर साल पलूशन हो रहा है और यह 10-15 दिनों तक जारी है, यह सभ्य देशों में नहीं किया जा सकता है। जीवन का अधिकार सबसे महत्वपूर्ण है। यह हमारे जीने का तरीका नहीं है।





जरा ठहरें...
अयोध्या पर फैसले से फैसले रेलवे ने आरपीएफ की छुट्टियां रद्द कीं
दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति भयावह, आपात स्थिति घोषित!
अमेजन और फ्लिपकार्ट की वजह से हजारों दुकानें बंद होने की कगार पर - कैट
भारतीय मूल के अर्थशास्त्री को मिला नोबेल पुरस्कार!
सरकार एसपीजी पाने वाले नेताओं के नियम में बदलाव करेगी
केंद्रीय विश्वविद्यालयों में बड़े पैमाने पर भर्ती की तैयारी में सरकार
कृषि वैज्ञानिकों ने चने की नई प्रजातियां विकसित की
कैट ने फ्लिपकार्ट और अमेजन द्वारा त्यौहारी कारोबारी में छूट दिए जाने की आलोचना की
सर्वोच्च न्यायालय ने खुद उठाया समान नागरिक संघिता का मामला..!
चालान का कहर: एक लाख ४१ हजार ७०० का कटा चालान!
रेलवे ने आधुनिकता पर दिया जोर, हेड ऑन जनरेशन” प्रणाली का उपयोग!
भारतीय सेना के जवान ने शंख बजाकर बनाया विश्व रिकार्ड...!
चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ होने से हमारी रक्षा क्षमता बढ़ेगी - अमित शाह
देश के किसानों के लिए आज से शुरू हुई ''किसान पेंशन योजना''
भारत ने धारा ३७० खत्म किया, पाक ने भारत से संबंध खत्म किया
बच्चे की मुहं में 32 नहीं 526 दांत निकले...!!!
एक अस्पताल की 36 नर्सें एक साल में गर्भवती हुई...!
अमेरिकी अखबार ने कहा अब तक ११ हजार बार झूठ बोल चुके हैं अमेरिकी राष्ट्रपति
मंगला एक्सप्रेस में गंदे पानी से बनाया जाता है सूप और अन्य चीज
वैज्ञानिकों ने माना रामसेतु मानव निर्मित है
30 किलो से ज्यादा वजन के कुत्ते को घोड़ा मानता है रेलवे!
२०५ साल के बाबा, १०५ साल से नहीं खाया एक अन्न भी!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.