ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

शिक्षा/संस्कृति/पर्यटन

नोएडा इंटरनेशनल लिटरेचर का हुआ समापन

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, १८ नवंबर २०१९

विभोर फेस्टिवल ट्रस्ट द्वारा आयोजित नॉएडा इंटरनेशनल लिटरेचर फेस्टिवल का तीसरा संस्करण आज से शुरू हो चूका है जिसका समापन 17 नवंबर को हो गया। सेक्टर १८ स्थित रैडिसन ब्लू नॉएडा में आयोजित इस कार्यक्रम की शुरुवात फेस्टिवल डायरेक्टर स्वाति शर्मा के मुख्य सम्बोधन से हुआ जिसमें उन्होंने सभी का आभार जताया उसके बाद भरतनाट्यम सस्वर नाट्यकल्प डांस स्टूडियो की प्रस्तुति मुख्य रहा।


प्रथम दिवस में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सार्वजनिक शिक्षा: शिक्षा का अधिकार पर चर्चा करते हुए कहा चरित्र निर्माण शिक्षा का अहम् कार्य के और देश के नागरिक चारित्रिक हो यह भी शिक्षा का ही काम है। प्रसिद्ध कत्थक डांस, पर्यावरणवादी, कवित्री व समाज सेविका आरुषि  निशंक ने सत्र एनवीरोंमेट हेल्थ नीड फॉर ग्लोबल स्ट्रैटेजी में नदी व पेड़ों के महत्व पर चर्चा की। उनके साथ सत्र में अजय सूरी और एम्मानुएल सहिंता भी मौजूद थे। सत्र का संचालन   शिप्रा माथुर ने किया। अपने सम्बोधन की शुरुवात आरुषि ने उस दिन की वासी हूँ जिस देश में गंगा रहती  है कह कर की  उन्होंने गौरा देवी जैसे समाज सेविकों को  याद करते  हुए कहा की हम सबको एक पेड़ गोद लेना चाहिए ताकि हमारा पर्यावरण बचा रहे।

नदी की अहमियत बताते हुए उन्होंने कहा नदियाँ सदैव ही जीवन दायिनी रही है। नदियाँ, प्रकृति का एक अभिन्न अंग है। नदियाँ, अपने साथ बारिस का जल एकत्र कर, उसे भू-भाग मे पहुंचाने का कार्य करती है। गंगा, सिन्धु, अमेज़न, नील, थेम्स, यंगतिथि आदि विश्व की प्रमुख नदियां है।





जरा ठहरें...
कक्षा 7 के विद्यार्थी ने पूर्ण की 900 किमी. मैराथन
परीक्षा पर चर्चा के तहत प्रधानमंत्री ने छात्रों के सवालों का दिया जवाब
सूचना को साझा करने के लिए सोशल मीडिया एक प्रभावी साधन है: रमेश पोखरियाल
देश में बनेगा पहला संस्कृत विश्वविद्यालय!
भारत अपनी प्रतिभा की लोहा मनवाने के लिए 2021 की पिसा प्रतियोगिता में हिस्सा लेगा - निशंक
2020 तक IIT में छात्रों की भर्ती संख्या बढ़ाकर एक लाख करने की योजना
भारतीय पुरातत्व विभाग की नई इमारत धरोहर का उद्घाटन किया प्रधानमंत्री मोदी ने
रोमानिया में पढ़ाया जाता है रामायण और महाभारत के अंश
कौन है आज का प्रेमचंद? हिंदी साहित्य का अमर साहित्यकार मुंशी प्रेमचंद
रामचरित मानस की दुर्लभ प्राचीन पांडुलिपि बरामद
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.