ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रमुख समाचार

फोर्टिज अस्पताल की अंधेरगर्दी से बच्ची की मौत, नड्डा ने मांगा जवाब!

नई दिल्ली

२१ नवंबर २०१७

गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल  की अंधेरगर्दी में जहां सात साल की एक लड़की की डेंगू से मौत हो गयी जिसका बिल 16 लाख थमा दिया गया उसे दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए स्वास्थ्य मंत्री जे.पी. नड्डा ने मंगलवार को कहा कि सरकार ने अस्पताल से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। नड्डा ने कहा कि जरूरी हुआ तो मामले में कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि उनके मंत्रालय ने सभी चिकित्सकीय प्रतिष्ठानों के पंजीकरण व विनियमन के संबंध में सभी राज्यों को पत्र लिखा है, जिससे सुविधाओं व सेवाओं के न्यूनतम मानक को निर्धारित किया जा सके।


डब्ल्यूएचओ सम्मेलन से इतर नड्डा ने कहा, “यह एक बहुत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने फोर्टिस अस्पताल से एक मेडिकल रिपोर्ट मांगी है और हम इस मामले को देखेंगे व जरूरी हुआ तो कार्रवाई की जाएगी।” गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल में डेंगू के इलाज के दौरान सात साल के आद्या की मौत हो गई। आद्या के माता-पिता को उसके शव को 18 लाख रुपये का भुगतान करने के बाद ले जाने दिया गया। नड्डा ने मामले के सामने आने के बाद यह टिप्पणी की है। आद्या के माता-पिता ने आरोप लगाया है कि अस्पताल ने उनकी बेटी को इलाज के दौरान प्रतिक्रियाहीन रहने पर भी तीन दिनों तक वेंटिलेटर पर रखा। लड़की की मौत 14 सितंबर को हुई थी। नड्डा ने कहा, “कृपया मुझे विवरण दीजिए..हम सभी जरूरी कार्रवाई करेंगे।” जैसे ही यह सूचना वायरल हुई, अस्पताल ने एक बयान जारी कर अपना पक्ष रखा। अस्पताल के अनुसार, आद्या को गुड़गांव के फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट में एक अन्य निजी अस्पताल से 31अगस्त की सुबह लाया गया था।

बयान में कहा गया, “आद्या को गंभीर डेंगू के साथ भर्ती किया गया था। यह डेंगू शॉक सिंड्रोम में बदल गया। उसे आईवी फ्लूइड व जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया, क्योंकि उसके प्लेटलेट काउंट में तेजी से गिरावट हो रही थी। उसकी स्थिति बिगड़ रही थी, उसे 48 घंटे के भीतर जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया।” बयान में कहा गया, “परिवार को बच्ची की गंभीर स्थिति व इस परिस्थिति में उसके बिगड़ते स्वास्थ्य के बारे में बताया गया। प्रक्रिया के तहत हमने बच्ची के हाल के बारे में परिवार की रोजाना काउंसलिंग की।” बयान में कहा गया, “परिवार ने 14 सितंबर को मेडिकल सलाह (एलएएमए-मेडिकल सलाह के खिलाफ छुट्टी) के खिलाफ अस्पताल से बच्ची को ले जाने का फैसला किया और उसकी उसी दिन मौत हो गई।”


फोर्टिस ने कहा कि सभी मानक मेडिकल प्रोटोकाल का पालन किया गया। इसमें कहा गया, “बीस पन्नों के बिल का विवरण दिया गया, जिसे परिवार को जाते समय सौंप दिया गया। मरीज का इलाज पिडियाट्रिक आईसीयू में 15 दिनों तक किया गया और उसकी स्थिति भर्ती किए जाने के समय से ही गंभीर होने की वजह से उसे गहन देखभाल की जरूरत थी।”



जरा ठहरें...
शाह के बेटे की अंधाधुंध कमाई पर चुप क्यों है मोदी
मोदी सरकार ने साढ़े तीन साल में विज्ञापन पर खर्च किए 3577 करोड़ रूपए!
कभी कोहरा कभी ब्लॉक, 8 गाड़ियां स्थायी रूप से दो महीने के लिए रद्द
गुजरात चुनावों के बाद संसद का शीत सत्र होगा!
रेलवे को और बजट की जरूरत नहीं - गोयल
सुविधा के नाम पर रेलवे ने फिर लादी आम लोगों पर किराए की बोझ
निर्भया के भाई की मदद में जुटे राहुल गांधी!
देश में स्टील कार्गो की शुरूआत, आद्योगिक विकास को मिलेगा बढ़ावा - गड़करी
रेल गाड़ियों की रफ्तार बढ़ाया जा रहा है, दो घंटे पहले पहुंचेगी अब!
शाह के बेटे की संपत्ति एक साल में १६ हजार गुना बढ़ी -कांग्रेस
थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़, की पक्की ख़बर, गुजरात चुनाव 16 दिसंबर तक खत्म हो जाएंगे!
अमित शाह के बेटे का नाम आने के बाद कांग्रेस ने शाह से मांगा इस्तीफा
सिन्हा की आलोचना से तिलमिला उठी भाजपा, कांग्रेस की भौहें खिली!
पेट्रोलियम पदार्थों के दामों में पिछले तीन सालों में भयानक वृद्धि
कांग्रेस ने कहा बुलेट ट्रेन का समझौता 2013 में ही हुआ था, मोदी देश को बरगला रहे हैं!
2019 की टीम मोदी तैयार हो चुकी है, जानिए अब कौन क्या है?
कसौटी पर खरी नहीं उतर रही है देश की सबसे लंबी सुरंग
19 साल बाद भी रेल हादसे का मुआवजा वही है!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें