ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रमुख समाचार

"सर्वोच्च न्यायालय के वर्तमान हालात पर चर्चा के लिए अदालत की पूर्ण बैठक बुलाई जाए"

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

देश के एक पूर्व प्रधान न्यायाधीश व दो अन्य पूर्व न्यायाधीशों ने सर्वोच्च न्यायालय के चार वरिष्ठ कार्यरत न्यायाधीशों द्वारा शुक्रवार को सर्वोच्च न्यायालय प्रशासन के खिलाफ उठाई गई शिकायत को 'अभूतपूर्व' बताया और कहा कि जल्द ही पूर्ण अदालत की एक बैठक बुलाई जानी चाहिए। पूर्व प्रधान न्यायाधीश के.जी.बालाकृष्णन ने मीडिया से कहा कि चार न्यायाधीशों ने जो किया, वह न तो उसके पक्ष में है और न खिलाफ हैं।उन्होंने कहा, "जो भी कुछ घटित हो रहा है, बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है और इससे बचा जाना चाहिए।"


बालकृष्णन ने कहा, "न्यायपालिका की विश्वसनीयता पर सवाल नहीं होना चाहिए और ये घटनाएं आम आदमी को यह एहसास करा सकती हैं कि चीजें सही तरीके से नहीं चल रही हैं। पूर्ण अदालत की बैठक तुरंत बुलाई जानी चाहिए।" शीर्ष अदालत से बतौर न्यायाधीश सेवानिवृत्त हुए न्यायमूर्ति के.टी. थॉमस ने कहा, "अब गेंद प्रधान न्यायाधीश (दीपक मिश्रा) के पाले में है, जो इस मुद्दे को हल करने में सबसे सक्षम व्यक्ति हैं।" थॉमस ने कहा, "ऐसा कभी नहीं हुआ है कि न्यायाधीशों ने संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया हो। मैंने पत्र में पढ़ा है कि चार न्यायाधीशों ने प्रक्रियागत खामियों की बात की और अब सीजेआई को अपनी बात रखनी है। पूर्ण अदालत बुलाई जानी चाहिए।"

शीर्ष अदालत के एक अन्य सेवानिवृत्त न्यायाधीश के.एस.राधाकृष्णन ने कहा कि न्यायाधीशों का सात पृष्ठों का पत्र 'सामान्य' है। राधाकृष्णन ने कहा, "पत्र में साफ तौर बताया जाना चाहिए था कि कौन-सा मामला है और यह विवरण है। सामान्य नियम है कि यदि किसी न्यायाधीश का किसी मामले में किसी भी तरह का हित जुड़ा है तो उसे उस न्यायाधीश द्वारा नहीं सुना जाना चाहिए।" सर्वोच्च न्यायालय में दूसरा स्थान रखने वाले न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे. चेलमेश्वर ने अपने निवास पर शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया। इसमें न्यायाधीशों ने कहा कि उन्हें इसे लेकर कोई खुशी नहीं है कि जिस बात को लेकर वे परेशान थे, उसे उन्हें सार्वजनिक करने को मजबूर होना पड़ा है।


न्यायमूर्ति चेलमेश्वर के साथ न्यायमूर्ति रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ व न्यायमूर्ति मदन बी.लोकुर भी थे। उन्होंने कहा, "हम सभी का मानना है कि जबतक इस संस्था को बचाया नहीं जाता और इसे इसकी जरूरतों अनुरूप बनाया नहीं रखा जाता, देश में या किसी भी देश में लोकतंत्र नहीं जिंदा नहीं रह पाएगा।" साथ में समाचार एजेंसी, साभार। 12 जनवरी 2018



जरा ठहरें...
अमित शाह के खिलाफ आपराधिक मामला फिर से खोला जाए - नाईक
रेलवे प्लेटफार्म पर थूका तो खैर नहीं, 12 लाख रूपए वसूले गए - नितिन चौधरी
रेलवे ने एक हजार गाड़ियों में एसएमएस सेवा का विस्तार किया
दिल्ली के यमुना नदी पर नए रेल पुल निर्माण के लिए उ.रे, ने कसी कमर
जाधव के मुद्दे पर विदेश मंत्री ने पाकिस्तान पर किया जमकर प्रहार!
यूक्रेन के व्यापारी को गुजरात के व्यापारी ने ठगा, लगाई मदद की गुहार
राहुल बने कांग्रेस के सर्वेसर्वा!
'देश में 202 रेलवे स्टेशन संवेदनशील, जिसमें 106 सीसीटीवी युक्त हैं,
मोदी सरकार ने साढ़े तीन साल में विज्ञापन पर खर्च किए 3577 करोड़ रूपए!
रेलवे को और बजट की जरूरत नहीं - गोयल
फोर्टिज अस्पताल की अंधेरगर्दी से बच्ची की मौत, नड्डा ने मांगा जवाब!
देश में स्टील कार्गो की शुरूआत, आद्योगिक विकास को मिलेगा बढ़ावा - गड़करी
शाह के बेटे की संपत्ति एक साल में १६ हजार गुना बढ़ी -कांग्रेस
पेट्रोलियम पदार्थों के दामों में पिछले तीन सालों में भयानक वृद्धि
कांग्रेस ने कहा बुलेट ट्रेन का समझौता 2013 में ही हुआ था, मोदी देश को बरगला रहे हैं!
19 साल बाद भी रेल हादसे का मुआवजा वही है!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें