ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

देश एवं राजनीति

लॉकडाउन के बावजूद गेहूं की रिकार्ड खरीददारी

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, २६ मई २०२०

कोविड-19 की वजह से देश व्यापी लॉकडाउन के कारण उत्पन्न तमाम बाधाओं के बावजूद सरकारी एजेंसियों ने इस बार 24 मई 20 तक 341.56 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की जबकि पिछले साल यह आंकडा 341.31 लाख मीट्रिक टन था। गेहूं की कटाई आम तौर पर मार्च के अंत में शुरू होती है और अप्रैल के पहले सप्ताह में सरकारी एजेंसियों द्वारा इसकी खरीद शुरू हो जाती है। हालांकि, 24 और 25 मार्च की आधी रात से देशव्यापी लॉकडाउन शुरु हो जाने की वजह से सभी गतिविधियां रुक गई थीं। इस बीच फसल तब तक पक चुकी थी और कटाई के लिए तैयार थी। ऐसे हालात को देखते हुए भारत सरकार ने लॉकडाउन अवधि के दौरान कृषि और उससे संबंधित गतिविधियां आरंभ करने की छूट दे दी। ऐसे में अधिकांश राज्यों में 15 अप्रैल से गेहूं की खरीद प्रक्रिया शुरू की जा सकती है।


हरियाणा में इसके 20 अप्रैल से थोड़ीसे शुरु होने की संभावना है। महामारी के दौरान समूची गेहूं खरीद प्रक्रिया को सुरक्षित तरीके से क्रियान्वित किया जाना सबसे बड़ी चुनौती थी। इस चुनौती से निपटने के लिए सुनियोजित बहुस्तरीय रणनीति बनाई गई। प्रौद्योगिकी के माध्यम से लोगों को संक्रमण से बचाव के उपायों तथा परस्पर दूरी बनाए रखने के नियमों के प्रति जागरुक बनाया गया। खरीद केन्द्रों पर किसानों की भीड़ न जुटे इसके लिए ऐसे केन्द्रों की संख्या बढ़ाई गई। ग्राम पंचायत स्तर पर सभी तरह के सुविधाओं वाले नए केन्द्र भी स्थापित किए गए और खास तौर से गेहूं खरीद वाले प्रमुख राज्यों जैसे पंजाब में इनकी संख्या 1836 से 3681, हरियाणा में 599 से 1800 और मध्य प्रदेश में 3545 से 4494 हो गयी। प्रौद्योगिकी का उपयोग करते हुए, किसानों को अपनी उपज लाने के लिए विशिष्ट तिथियां और स्लॉट प्रदान किए गए जिससे खरीद केन्द्रों में भीड़भाड़ से बचने में मदद मिली। इन केन्द्रों पर नियमित रूप से परस्पर दूरी बनाए रखने के नियम का कड़ाई से पालन किया गया और साफ सफाई के काम भी नियमित रूप से जारी रखे गए। पंजाब में, प्रत्येक किसान को अपनी गेहूं की खेप लाकर रखने के लिए खरीद केन्द्रों पर पहले से ही स्थान का आवंटन कर दिया गया था। आवंटित ऐसे स्थान पर किसी और को प्रवेश की अनुमति नहीं थी। दैनिक नीलामी के दौरान केवल उन लोगों को यहां उपस्थित होने की अनुमति थी जो सीधे तौर पर खरीद प्रक्रिया से जुड़े हुए थे।

कोरोना वायरस के फैलने के खतरे के अलावा, गेहूं की खरीद प्रक्रिया में एजेंसियों के सामने तीन और बड़ी चुनौतियां भी थीं। सभी जूट मिलें बंद हो जाने के कारण जूट की बोरियों का उत्पादन रुक गया था जिससे खरीदे गए गेहूं को भरने के लिए इनकी अनुपलब्धता बड़ा संकट पैदा कर रही थी। ऐसे में बड़े सख्त गुणवत्ता मानकों के साथ तैयार प्लास्टिक के थैलों का इस्तेमाल कर इससे निपटा गया। निरंतर निगरानी और समय पर​ किए गए उपायों के माध्यम से, यह सुनिश्चित किया गया कि देश में कहीं भी पैकेजिंग सामग्री की कमी के कारण खरीद प्रक्रिया बंद न होने पाए।





जरा ठहरें...
भविष्य में हमारे जवान शहीद न हों इसके लिए देश को शक्तिशाली बनाना होगा – सत्य बहुमत पार्टी
एक लाख करोड़ रू के कृषि इंफ्रास्ट्रक्चर फंड को केंद्रीय कैबिनेट की मंजूरी
लॉकडाऊन करने से पहले सरकार ने सभी परिस्थितियों पर विचार नहीं किया - सत्यदेव चौधरी
"एक दिन ऑक्साईचीन और पीओके हमारा होगा"
देश में घरेलू उड़ानें 25 मई से होगी शुरू
कोरोना संकट: प्रधानमंत्री ने 20 लाख करोड़ रूपए पैकेज की घोषणा की!
कोरोना के दौर में आरसीएफ के बेहतर प्रदर्शन की गौड़ा ने किया तारीफ
कोरोना संकट: आरपीआई प्रमुख अठावले ने लोगों की मदद करने के लिए कहा
कोरोना वायरस की वजह से फंसे मजदूरों को लाने के लिए केंद्र ने जारी किए दिशा निर्देश!
कोरोना संकट: प्रधानमंत्री ने राज्यों के मुख्यमंत्री के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए की बात!
कोरोना से निपटने में इफको की अहम् भूमिका – गौड़ा
कोरोना से निपटने के लिए भारत ने G-20 के कृषि मंत्रियों के साथ की बैठक
किसानों के हित में उर्वरकों की आपूर्ति जारी – गौड़ा
सरकार ने एप के जरिए किसानों को राहत देने के लिए की शुरूआत
58 मार्गों पर 109 पार्सल ट्रेनें शुरू करने से होगी सुविधा- कृषि मंत्री
सरकार SBI खाता धारकों के 7,000 करोड़ सालाना ब्याज काटकर ‘एस बैंक’ को बचा रही – कांग्रेस
वॉपकॉस ने 1110 करोड़ रुपये की अब तक सर्वाधिक आय अर्जित की!
रेल इंजीनियरिंग की अद्भुत रचना है दुनिया का सबसे ऊंचा पुल
देश की सबसे बड़ी सुरंग देश को समर्पित, प्रधानमंत्री ने किया उद्घाटन
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.