ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

क्या आप जानते हैं

केंद्रीय कैबिनेट ने खरीफ के फसलों पर समर्थन मूल्य ८३ प्रतिशत तक बढ़ाया

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज नेटवर्क

नई दिल्ली, २ जून २०२०

केंद्रीय कैबिनेट ने किसानों को सीधा फायदा पहुंचाने वाले दो महत्वपूर्ण फैसले सोमवार लिए। इसके तहत अल्‍पावधि कृषि ऋण अदायगी की अवधि 31 अगस्त 2020 तक बढ़ा दी गई है, वहीं खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 50 से 83 प्रतिशत तक की वृद्धि की गई है। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास तथा पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने पत्रकार वार्ता में बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में ये अहम् निर्णय लिए गए है।


कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री तोमर ने दो अन्य मंत्रियों नितिन गड़करी व प्रकाश जावडेकर के साथ संयुक्त पत्रकार वार्ता में मंत्रिमंडल के फैसलों की जानकारी दी। तोमर ने बताया कि मोदी सरकार ब्‍याज छूट योजना के अन्‍तर्गत किसानों को बैंकों के माध्‍यम से 2 प्रतिशत प्रति वर्ष ब्‍याज छूट के साथ रियायती स्‍टैडर्ड अल्‍पावधि कृषि ऋण दे रही है। समय पर अदायगी करने वाले किसानों को 3 प्रतिशत अतिरिक्‍त लाभ भी केंद्र सरकार दे रही है। इस ब्‍याज छूट योजना का लाभ पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन के लिए भी 2 लाख रूपए ऋण हेतु विस्‍तारित किया गया है। इस प्रकार समय पर अदायगी करने पर 4 प्रतिशत वार्षिक ब्‍याज दर से 3 लाख रू. तक के ऋण सरकार प्रदान कर रही है। कोविड-19 महामारी के कारण लगाए गए लॉकडाउन के मद्देनजर, किसानों की सहूलियत के वास्ते बकाया अल्‍पावधि फसल ऋण का भुगतान करने हेतु भारत सरकार ने 3 लाख रू. तक कृषि एवं पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन के लिए दिए स्‍टैंडर्ड अल्‍पावधि ऋण की अदायगी की तारीख को 31.08.2020 तक बढ़ाने का निर्णय लिया है। अब किसान अपना ऋण 31 अगस्त तक वापस कर सकते हैं और उनके लिए ब्‍याज की प्रभावी दर 4 प्रतिशत ही रहेगी।

वित्तीय वर्ष 2019-20 में कुल 8,05,260 करोड़ रू. का अल्‍पावधि ऋण 9,64,74,960 किसानों के ऋण खातों में वितरित किया गया है। सरकार पर ब्‍याज छूट सहायता (सब्सिडी) के रूप में 28 हजार करोड़ रू का खर्चा आएगा, वहीं इतनी राशि का सीधा फायदा ऋण लेने वाले करोड़ों किसानों को मिलेगा। प्रधानमंत्री जी गांव-गरीब और किसानों के हित में लगातार फैसले लेते रहे हैं, ये निर्णय भी इसी तारतम्य में सोमवार को लिया गया है।


तोमर ने दूसरे फैसले के बारे में बताया कि कैबिनेट ने वर्ष 2020-21 विपणन मौसम की खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में वृद्धि को मंजूरी दे दी है। यह वृद्धि 50 प्रतिशत से 83 प्रतिशत तक की होगी, जो कि ऐतिहासिक निर्णय है। इसका सीधा लाभ देश के करोड़ों किसानों को मिलेगा। हम सभी जानते है कि अन्नदाता किसान कितनी कड़ी मेहनत से देश में अन्न का भंडार भर रहा है।


देश में लॉकडाउन के बावजूद किसानों ने अपना हौंसला कायम रखा और खाद्यान्न का रेकार्ड उत्पादन हुआ है, वहीं ग्रीष्मकालीन फसलों की भी पिछली बार से लगभग 45 प्रतिशत से ज्यादा बुआई हुई है। मोदी सरकार का प्रारंभ से ही यह उद्देश्य रहा है कि किसानों को उनकी उपज की लागत का कम से कम डेढ़ गुना मूल्य अवश्य मिलें। इसी के मद्देनजर पिछली बार भी एमएसपी तय की गई थी।



जरा ठहरें...
देश की पहली निजी क्षेत्र को दी गयी ट्रेन तेजस 17 अक्टूबर से दौडेगी..!
चीन के साथ तनातनी के बीच भारत ने आपात हथियारों की खरीद की मंजूरी दी
ATM से सुरक्षित निकासी के लिए SBI देश भर में लागू करेगा ओटीपी नियम
अगले महीने 5 और राफेल पहुंच रहे हैं हिंदुस्तान की आकाश की ताकत बनने
करेंसी नोट कोरोना सहित विभिन्न बीमारियां फैला रहे हैं - कैट
प्रणब मुखर्जी: भारतीय इतिहास और राजनीति के अजातशत्रु…!
केंद्रीय गृहमंत्रालय का आदेश, एक राज्य से दूसरे राज्य के आवागमन में पाबंदी न हो
लद्दाख तनाव: भारत के मित्र राष्ट्र जल्द देंगे गोलाबारूद और हथियार..!
गलवान घाटी हमारा, चीन का झूठा दावा कतई मंजूर नहीं - भारत
हमारे जवान मारते मारते शहीद हुए हैं - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
रेलवे ने अब तक २१ लाख से ज्यादा श्रमिकों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया
संसद भवन के नवनिर्माण का ठेका गुजरात की कंपनी को..!
भारतीय सेना के जवान ने शंख बजाकर बनाया विश्व रिकार्ड...!
वैज्ञानिकों ने माना रामसेतु मानव निर्मित है
30 किलो से ज्यादा वजन के कुत्ते को घोड़ा मानता है रेलवे!
२०५ साल के बाबा, १०५ साल से नहीं खाया एक अन्न भी!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.