ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

कारोबार-समाचार

भारतीय व्यापारियों ने चीनी समानों को आग के हवाले किया

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 22 मई 2020

 देश भर के व्यापारियों एवं नागरिकों में चीन के प्रति उबलते गुस्से , रोष और आक्रोश को प्रदर्शित करते हुए कनफेडेरशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के झंडे तले दिल्ली के प्रमुख व्यापारी नेताओं ने चीनी सामान बहिष्कार हेतु चलाये जा रहे राष्ट्रीय अभियान ” भारतीय सामान – हमारा अभिमान” के अंतर्गत दिल्ली के प्रमुख बाजार करोल बाग़ में चीनी वस्तुओं की होली जलाई। होली जलाते हुए कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल एवं अन्य व्यापारी नेताओं को हिरासत में लेकर करोल बाग़ थाना ले गए एवं लगभग दो घंटे रोकने के बाद रिहा कर दिया !कोरोना की वर्तमान स्थिति के कारण इस प्रदर्शन में सोशल डिस्टेंस एवं सुरक्षा के सभी उपायों को अपनाते हुए यह प्रदर्शन किया गया। खंडेलवाल ने बताया की कैट ने इस वर्ष की राखी को विशुद्ध रूप से भारतीय राखी त्यौहार और दिवाली को सही अर्थों में हिंदुस्तानी दिवाली मनाने की घोषणा की है।


इसी बीच महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे द्वारा कैट द्वारा 19 जून को की गई मांग जिसमें महाराष्ट्र सरकार द्वारा चीन की तीन कंपनियों से 5000 करोड़ रुपये के निवेश का समझौते किये गए थे को रद्द करने की मांग की थी, जिसे ठाकरे ने स्वीकार करते हुए तीनों समझौतों को रद्द करने की घोषणा की है। खंडेलवाल ने कहा की ठाकरे का फैसला स्वागत योग्य है और देश के नागरिकों की भावनाओं का सम्मान है। कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा की देश भर के व्यापारियों एवं नागरिकों में चीनी वस्तुओं के बहिष्कार को लेकर बेहद उत्साह और बड़ा समर्थन प्राप्त है ! इस अभियान की पहली बानगी आगामी अगस्त महीने में राखी के त्यौहार पर दिखेगी जब इस वर्ष देश भर की बहने चीनी राखी का बहिष्कार कर भारतीय राखी अपने भाइयों को बांधेगी तथा जन्माष्टमी का त्यौहार भी पूर्ण भारतीय संस्कृति के अनुरूप मनाया जाएगा जिसमें चीनी वस्तुओं का कोई स्थान नहीं होगा !

भरतिया एवं खंडेलवाल ने यह भी बताया की इस वर्ष की दिवाली लद्दाख में शहीद हुए भारतीय सैनिकों के सम्मान में सम्पूर्ण रूप से हिन्दुस्तानी दिवाली के रूप में देश भर में मनाई जायेगी जिसमें भारत की मिटटी के बने दीयों से रौशनी होगी तथा उसी मिटटी से निर्मित लक्ष्मी जी एवं गणेश जी का पूजन होगा। इस वर्ष की दिवाली में चीनी वस्तुओं को बिलकुल भी नहीं शामिल किया जाएगा। बिजली के बल्ब तथा बल्बों की झालर भी भारतीय होगी। इस सन्दर्भ में कैट ने देश भर के व्यापारियों से आग्रह किया है की आगामी त्योहारों को देखते हुए देश का कोई व्यापारी चीनी सामान न तो बेचेगा एवं न ही खरीदेगा।


उन्होंने बताया की देश भर के व्यापारी अब चीन को सबक सिखाने के लिए पूरी तौर पर तैयार हैं और उम्मीद है की जिस प्रकार का समर्थन देश भर से मिल रहा है उसको देखते हुए ग्राहक भी स्वयं चीनी वस्तुओं का बहिष्कार कर भारतीय सामान खरीदने पर ज्यादा जोर देंगे। कैट ने चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का अभियान गत 10 जून को दिल्ली से शुरू किया था जिसमें देश के 40 हजार व्यापारी संगठनों के 7 करोड़ व्यापारी जुड़ेंगे।




जरा ठहरें...
देश का सबसे बड़ा बैंक एसबीआई कोविड की लड़ाई में आया आगे
देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने अपनी 10 नई शाखाओं की किया शुरूआत
चीन हांगकांग के जरिए भारत सामान भेज रहा है, इसकी जांच करे सरकार – कैट
केंद्र चीनी कंपनियों को 5 जी नेटवर्क से बाहर करे- कैट
"SBI का एक बाद एक नया उपक्रम, ग्राहकों के लिए शुरु किया गोल्ड लोन हब"
भारतीय स्टेट बैंक ने अंतर्राष्ट्रीय एमएसएमई दिवस मनाया
शाओमी इंडिया चीफ के बयान को कैट ने आलोचना की, बड़बोलेपन पर लगाम लगाने को कहा
देश में चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू!
"कैट ने कहा हम चीन की चुनौती को स्वीकार करते हैं"
एसबीआई ने माइक्रो मार्केट‘ के लिए लान्च किया विशेष प्रकोष्ठ
केंद्रीय कैबिनेट ने खरीफ की फसलों पर समर्थन मूल्य में ८३ प्रतिशतक तक बढ़ोत्तरी की
सरकार द्वारा ई-कॉमर्स कंपनियों को छूट दिए जाने पर कैट ने जतायी नाराजगी!
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के कर्मचारियों ने किए १०० करोड़ दान
कोरोना वायरस ने मुकेश अंबानी की एशिया के सबसे धनी शख़्स का तमगा छीना
डेबिट और क्रेडिट कार्ड बंद करने की तैयारी में एसबीआई
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.