ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

चर्चा में

भारत का नया दुश्मन बना नेपाल, चीन को दे बैठा अपनी जमींन...!
चीन से अपनी जमींन तो बचा नहीं पाया, चला भारत की भूमि हड़पने!

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 25 जून 2020

भारत का नया-नया दुश्मन बना है नेपाल। जो चीन के इशारे और सह पर भारत को आंखे दिखा रहा है। जिस नेपाल की भारत के साथ अच्छे संबंध दशकों पुराने रहे हैं वही नेपाल अचानक भारत की तरफ आक्रामक हो गया है। सवाल यहां यह भी है कि सीमा विवाद पर भारत को आक्रामक तेवर दिखाने वाली नेपाल की ओली सरकार चीन पर बिल्कुल खामोश है। हालांकि, नेपाल के विपक्षी दल नेपाली जमीन पर चीन के कब्जे को लेकर सरकार पर दबाव बना रहे हैं। दरअसल, एक दिन पहले ही नेपाल के सर्वे विभाग की ओर से ही एक रिपोर्ट सामने आई है जिसमें चीन के अतिक्रमण को लेकर आगाह किया गया है।


हम बता दें कि गोरखा, सोलुखुम्बु, दारचुला, दोलखा, हुमला सहित कई अन्य जिलों में चीन द्वारा अतिक्रमण किया गया है। इसी तरह, नेपाल और चीन को अलग करने वाले स्तंभ को भी लापता बताया गया है। गोरखा जिले के रूई गांव को तो चीन ने तिब्बत में ही मिला लिया है। संकल्प पत्र में कहा गया है कि चीन ने नेपाल की 64 हेक्टेयर जमीन पर कब्जा किया है। बता दें कि नेपाल के कृषि मंत्रालय के सर्वे विभाग ने एक रिपोर्ट तैयार की है। इसमें कहा गया है कि चीन तिब्बत में सड़क निर्माण के बहाने नेपाली जमीन पर अतिक्रमण करने में लगा हुआ है और वह भविष्य में नेपाल के इन इलाकों में सैन्य चौकियां भी बना सकता है। सर्वे विभाग के मुताबिक, चीन नदियों के बहाव को मोड़कर नेपाल-चीन की प्राकृतिक सीमा को बदलने की कोशिश कर रहा है। रिपोर्ट में बताया गया है कि चीन ने निर्माण कार्य के बहाने नेपाल के कई इलाकों पर कब्जा कर लिया है। रिपोर्ट के मुताबिक, चीन की सरकार कथित तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र (टीएआर) में सड़क नेटवर्क का विस्तार कर रही है जिसकी वजह से कई नदियों और सहायक नदियों का रास्ता बदल गया है।

ये नदियां अब नेपाल की तरफ बहने लगी हैं जिसकी वजह से नेपाली भू-भाग घटता जा रहा है। रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि अगर ये सब कुछ और वक्त के लिए जारी रहा तो नेपाल का अधिकतर हिस्सा तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र में चला जाएगा। 1960 के सर्वे के बाद और चीन के साथ सीमा निर्धारित करने के लिए कुछ स्तंभ बनाने के बाद नेपाल ने अपनी सीमा सुरक्षा के लिए कोई कदम आगे नहीं बढ़ाया. चीन के साथ लगी सीमा पर नेपाल ने 100 स्तंभ बनाए गए थे. जबकि भारत के साथ नेपाल की सीमा पर 8553 खंभे हैं. सवाल ये है कि क्या नेपाल की सरकार अब भी चीन पर आंख मूंदकर भरोसा करेगी या सच्चाई को स्वीकार कर कुछ कदम आगे बढ़ाएगी? नेपाल के मुख्य विपक्षी दल नेपाली कांग्रेस के सांसदों ने प्रतिनिधि सभा में एक संकल्प प्रस्ताव दर्ज कराया है।


इस प्रस्ताव में सरकार से चीन द्वारा अतिक्रमित और कब्जा की गई नेपाली भूमि को वापस करने और अतिक्रमित भूमि की स्थिति के बारे में संसद को सूचित करने के लिए कहा गया है। नेपाली कांग्रेस के सांसद देवेंद्र राज कंडेल, सत्यनारायण शर्मा खनाल और संजय कुमार गौतम ने बुधवार को प्रतिनिधि सभा सचिवालय में संयुक्त रूप से प्रस्ताव दर्ज किया। प्रस्ताव में कहा गया है कि नेपाल और चीन के बीच 1414.88 किलोमीटर की सीमा है. इन सीमाई इलाकों के कई भूभाग पर चीन द्वारा अतिक्रमण किया गया है।


संकल्प पत्र में बताया गया है कि सीमा पर लगे 98 पिलर को नष्ट कर चीन ने नेपाल के भूभाग पर कब्जा किया है जिसे न्यूज चैनलों में भी प्रमुखता से दिखाया जा रहा है। सरकार चीन के कब्जे वाले नेपाल के भूभाग को वापस लाने के लिए किए गए प्रयासों से सदन को अवगत कराए। साथ ही, इन इलाकों की स्थिति और वास्तविक अतिक्रमित प्रदेशों और गांवों के बारे में भी सदन को जानकारी दे।



जरा ठहरें...
कोरोना का कहर: अब तक 11 लाख से ज्यादा लोगों की मौत..!
भारतीय सेना ने उतारी अपनी आर्म्ड रेजीमेंट
“सचिन बताएं उनके लिए धन बड़ा या देश, होगा उनके खिलाफ प्रदर्शन”
भारतीय सुरक्षा सलाहकार जब SCO बैठक बीच में छोड उठकर चले गए…!
चीन को लेकर रक्षामंत्री ने तीनों सेना प्रमुखों और सीडीएस के साथ उच्चस्तरीय बैठक की
देश के जाने माने अधिवक्ता प्रशांत भूषण पर सर्वोच्च न्यायालय ने एक रूपए का लगाया जुर्माना
प्रधानमंत्री द्वारा आज अयोध्या में भूमि पूजन ऐतिहासिक और गौरवपूर्ण दिन है - अमित शाह
कोरोना: ज़रूरी नहीं कि एक वैक्सीन से ख़त्म हो जाए वायरस - WHO
वंदेभारत रेल परियोजना से चीनी कंपनी को हटाए सरकार - कैट
“चीन पर भारत का डिजीटल हमला निशाने पर, गिड़गिडाने लगे चीनी व्यापारी”
मुख्य समाचार चीन से निपटने के लिए सेना को पूरी छूट दी गयी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में इतिहास बदलने की क्षमता है - मेजर जनरल (रि) जे के एस परिहार
एक ऐसी दूरबीन जो १०० प्रकाश वर्ष दूर तक देख सकेगी!
प्रतिदिन 25-प्रतिशत बच्चे भूखे रह जाते हैं
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.