ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

विज्ञान एवं रक्षा तकनीकि

नौसेना द्वारा विकसित पीपीई सूट ‘नवरक्षक’ निजी कपंनी को हस्तांतरित की गयी

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 28 जून 2020

नौसेना द्वारा विकसित पीपीई सूट नवरक्षक की तकनीक एक कपंनी को हस्तांतरित की गयीकोविड-19 के प्रकोप के बीच व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों (पीपीई) की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए नौसेना द्वारा विकसित पीपीई सूट ‘नवरक्षक’ की तकनीक एक और कंपनी को हस्तांतरित की गई है। नेशनल रिसर्च डिवेलपमेंट कॉरपोरेशन (एनआरडीसी) द्वारा इस पीपीई सूट को बनाने की तकनीक आगरा की मेसर्स इंडियन गारमेंट कंपनी को सौंपी गई है।


यह कंपनी पहले से ही पीपीई किट का निर्माण कर रही है और आगरा एवं आसपास के अस्पतालों को इसकी आपूर्ति कर रही है। ‘नवरक्षक’ पीपीई सूट के उत्पादन का लाइसेंस मिलने के बाद कंपनी का लक्ष्य हर साल 10 लाख से अधिक सूट के उत्पादन करने का है। नई दिल्ली में इंडियन गारमेंट कंपनी के प्रमुख राजेश नय्यर और एनआरडीसी के प्रबंध निदेशक डॉ एच. पुरुषोत्तम ने इससे संबंधित समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। भारतीय नौसेना के मुंबई स्थित आईएनएचएस अस्विनी अस्पताल से संबद्ध इंस्टीट्यूट ऑफ नेवल मेडिसिन के नवाचार प्रकोष्ठ द्वारा इस पीपीई सूट की तकनीक विकसित की गई है। नवरक्षक सूट को बनाने में नौसेना के डॉक्टर अर्नब घोष की मुख्य भूमिका रही है। अग्रिम पंक्ति में तैनात चिकित्सकों एवं अन्य कर्मियों के आराम और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उन्होंने अपने व्यक्तिगत अनुभवों के आधार पर इस सूट को बनाया है।

यह पीपीई सूट बनाने के लिए बेहतर गुणवत्ता वाले विशिष्ट कपड़े का उपयोग किया गया है, जिसमें हवा का प्रवाह बना रहता है। जबकि, इसे कुछ इस तरह डिजाइन किया गया है, जिससे इसकी सिलाई को मजबूती देने के लिए महंगी टेपिंग और सीलबंद करने की आवश्यकता नहीं पड़ती। इस पीपीई सूट का परीक्षण और प्रमाणन रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) की प्रयोगशाला नाभिकीय औषधि तथा सम्बद्ध विज्ञान (इनमास) ने किया है।


नवरक्षक सूट का उपयोग करने वाले व्यक्ति की त्वचा से उत्सर्जित ऊष्मा और नमी पीपीई से बाहर निकलती रहती है। अलग-अलग परिस्थितियों के अनुसार एक परत और दोहरी परत में ये पीपीई सूट उपलब्ध हैं। यह सूट हेड गियर, फेस मास्क और जाँघ के मध्य भाग तक जूतों के कवर के साथ भी आता है।


पीपीई सूट में उपयोग किए गए संवर्धित श्वसन घटक कोविड-19 के खिलाफ अग्रिम पंक्ति में लड़ रहे उन योद्धाओं को राहत प्रदान कर सकते हैं, जिन्हें यह सूट लंबे समय तक पहनना पड़ता है और काम के दौरान कठिनाई का सामना करना पड़ता है। इससे पहले, इस पीपीई सूट के निर्माण की तकनीक पाँच अन्य सूक्ष्म व लघु उद्यमों को व्यावसायिक उत्पादन के लिए सौंपी जा चुकी है।



जरा ठहरें...
चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सी. डी. एस.) पद-स्थापना की प्रथम वर्षगांठ
भारतीय वायुसेना में शामिल होंगे 83 तेजस लड़ाकू विमान, 48 हजार करोड़ का सौदा
पाकिस्तान, चीन मिलकर भारत के लिए खतरा: जनरल नरावणे
भारत ने मीडियम रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल का सफल परीक्षण किया
देश ने मनाया विजय दिवस, शहीदों को दी श्रद्धांजलि
हम हर चुनौती से निपटने के लिए तैयार हैं – एडमिरल करमबीर सिंह
ब्रह्मोस का पराक्रम: नौसेना के युद्ध पोत से किया सफल परीक्षण...!
इसरो का पराक्रम: EOS01 के साथ दूसरे देशों के 9 उपग्रहों को किया लॉन्च
चीन सीमा से सटे, बीआरओ ने तैयार किए रिकार्ड समय में 45 पुल...!
भारत ने आज "रूद्रम" का सफल परीक्षण किया
भारत ने ब्रह्मोस मिसाइल के श्रेष्ठ वर्जन का सफल परीक्षण किया
भारतीय सेना ने उतारी अपनी आर्म्ड रेजीमेंट
"मिसाइल" के लिए डीआरडीओ ने "अभ्यास" का किया सफल परीक्षण!
भारत और चीन के बीच स्थिति विस्फोटक…! टैंक, मिसाइल, तोप, युद्धक विमानों ने कसी कमर!
प्रधानमंत्री के इशारा करते ही तेजस ने पश्चिमी मोर्चे को संभाला
दुश्मन के खिलाफ मोर्चा संभालने के लिए राफेल ने कसी कमर...!
चीन की हर गतिविधि पर है भारतीय खुफिया उपग्रह की नज़र...!
राफेल को और शक्तिशाली बनाने के लिए भारत ने हैमर मिसाइलों की खरीदारी के दिए आदेश
सीमा क्षेत्रों में निर्माण परियोजनाओं में चीनी मशीनों के उपयोग पर प्रतिबंध लगे – कैट
चीन के साथ तनातनी के बीच भारत ने 38 हजार करोड़ के हथियारों की खरीद की मंजूरी दी
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.