ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

कारोबार-समाचार

केंद्र चीनी कंपनियों को 5 जी नेटवर्क से बाहर करे- कैट

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 6 जुलाई 2020

चीनी सामान के बहिष्कार के अपने राष्ट्रीय अभियान के अंतर्गत कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने केंद्र सरकार से यह मांग की है की देश में कुछ समय बाद लागू होने वाले 5 जी नेटवर्क की प्रक्रिया से चीनी कंपनियों हुवावे तथा जेट कारपोरेशन को पूर्ण रूप से बाहर रखा जाए। केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद को आज भेजे एक पत्र में कैट ने मांग की है की भारत की सम्प्रभुता और राष्ट्रीय सुरक्षा तथा लोगों के व्यक्तिगत डाटा की सुरक्षा को देखते हुए इन दोनों कंपनियों को 5 जी नेटवर्क में भाग न लेने का निर्णय लिया जाए।


ऐसे समय में जब सारा राष्ट्र चीन द्वारा भारत के बॉर्डर पर अनेक प्रकार की अवांछनीय गतिविधियां कर रहा है है, ऐसी में किसी भी चीनी कम्पनी को सुरक्षा से सम्बंधित किसी भी विषय पर जोड़ना भारत के हित में नहीं है। कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने प्रसाद को भेजे पत्र में कहा की जिस प्रकार से सरकार ने देश की सुरक्षा और सम्प्रभुता को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से हाल ही में 59 ऐप को प्रतिबंधित किया गया है। उसी नीति का पालन करते हुए सरकार को हुवावे एवं जेट कारपोरेशन को 5 जी प्रक्रिया में शामिल नहीं होने देना चाहिए ! उन्होंने कहा की जिस तेजी से भारत में स्मार्टफोन के उपयोग में प्रतिवर्ष वृद्धि हो रही है उस कारण से भारत का विशाल डाटा भी 5 जी के जरिये इकठ्ठा होगा। उस डाटा का कोई दुरूपयोग न हो और डाटा भारत के हितों के विरुद्ध इस्तेमाल न हो, उसको रोकने के लिए वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए , इन दोनों कंपनियों को 5 जी नेटवर्क से दूर रखा जाना देश के बड़े हित में होगा।

भरतिया एवं खंडेलवाल ने भारत सरकार और अन्य राज्य सरकारों की सराहना करते हुए कहा की इस विषय की गंभीरता इसी बात से की जा सकती है की केंद्र सरकार ने तत्काल कदम उठाते हुए जहाँ चीनी ऐप को प्रतिबंधित किया वहां दूसरी ओर रेलवे, हाईवे एवं अन्य क्षत्रों में चीनी कंपनियों के साथ हुए ठेकों को रद्द किया गया वहीँ महाराष्ट्र सहित अन्य राज्यों ने भी चीनी कामोनियों के साथ हुए अनुबंधों को रॉड करने का निर्णय लिया है।


उधर दूसरी तरफ कैट के अभियान का समर्थन करते हुए अनेक क्षेत्रों के व्यापारियों और उद्योगपतियों ने भी आवश्यक कदम उठाते हुए चीनी कंपनियों के साथ चल रहे व्यापार को समाप्त किया है जो इस बात का स्पष्ट संकेत है की देश अब एकजुट होकर चीन का विरोध किया जाना चाहिए।




जरा ठहरें...
9 अगस्त से चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का देशव्यापी अभियान शुरू
देश का सबसे बड़ा बैंक एसबीआई कोविड की लड़ाई में आया आगे
देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने अपनी 10 नई शाखाओं की किया शुरूआत
चीन हांगकांग के जरिए भारत सामान भेज रहा है, इसकी जांच करे सरकार – कैट
"SBI का एक बाद एक नया उपक्रम, ग्राहकों के लिए शुरु किया गोल्ड लोन हब"
भारतीय स्टेट बैंक ने अंतर्राष्ट्रीय एमएसएमई दिवस मनाया
शाओमी इंडिया चीफ के बयान को कैट ने आलोचना की, बड़बोलेपन पर लगाम लगाने को कहा
भारतीय व्यापारियों ने चीनी समानों को आग के हवाले किया
देश में चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू!
"कैट ने कहा हम चीन की चुनौती को स्वीकार करते हैं"
एसबीआई ने माइक्रो मार्केट‘ के लिए लान्च किया विशेष प्रकोष्ठ
केंद्रीय कैबिनेट ने खरीफ की फसलों पर समर्थन मूल्य में ८३ प्रतिशतक तक बढ़ोत्तरी की
सरकार द्वारा ई-कॉमर्स कंपनियों को छूट दिए जाने पर कैट ने जतायी नाराजगी!
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के कर्मचारियों ने किए १०० करोड़ दान
कोरोना वायरस ने मुकेश अंबानी की एशिया के सबसे धनी शख़्स का तमगा छीना
डेबिट और क्रेडिट कार्ड बंद करने की तैयारी में एसबीआई
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.