ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

बातें मीडिया की

ABP News छोड़कर बोली कुमकुम बिनवाल बोली बड़े बड़े पत्रकार अब डरते हैं
टीवी की दुनिया बहुत सतही है और हम सरकार के भोंपू नहीं बन सकते थे

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली,20 जुलाई 2021

जानी मानी टीवी न्यूज़ चैनल की पत्रकार और एबीपी न्यूज़ चैनल की एक खास चेहरा कुमकुम बिनवाल पिछले दिनों एबीपी न्यूज़ चैनल को छोड़ दिया है। चैनल छोड़ने के बाद कुम कुम एक डिजिटल मीडिया से जुड़ गयी हैं। कुम कुम ने कहा कि टीवी न्यूज़ की दुनिया बहुत सतही है और हम सरकार के भोंपू नहीं बन सकते।

कुमकुम ने एबीपी को छोड़ने के बाद जमकर भड़ा निकाला। एबीपी न्यूज़ चैनल से जाने के बाद उन्होंने समाचार चैनलों की पोलखोलकर रख दी है।  चैनल छोड़ने के बाद एक डिजीटिल प्लेटफार्म ज्वाइन करने के बाद कुमकुम ने कहा कि आज के समय में उनके जैसे पत्रकारों के लिए न्यूज चैनल में काम करना कितना मुश्किल होता जा रहा है। वो बताती हैं कि न्यूज चैनल में काम करते करते उनका दम घुटने लगा था।  कुमकुम कहती हैं कि एक साल से वो इसको लेकर सोच रही थीं कि जिन जन सरोकार के मुद्दे के लिए वो इस पेशे में आई वो क्या कर पा रही हैं? वो कहती हैं कि ऐसा सिर्फ मुझे नहीं, न्यूज चैनलों में जितने लोग काम कर रहे हैं, कैमरा के आगे और पीछे वो भी ऐसा ही महसूस करते हैं। पत्रकारिता का मूल सिद्धांत सरकार से सवाल पूछना होता है। हम सरकार का भोंपू नहीं बन सकते। ये हमारे काम, हमारे पेशे के साथ धोखा करना है। 

कुमकुम आगे कहती हैं कि आजकल के हालात ऐसे हो गए हैं कि बड़े बड़े न्यूज चैनल के रिपोर्टर हर जगह पीटते हैं। चाहे वो किसान आंदोलन हो या यूपी चुनाव। बड़े चैनलों के रिपोर्टर को पिटाई के डर से अपनी चैनल की आईटी हटाकर इवेंट में जाना पड़ता हैं।  कुमकुम बिनवाल ने आगे कहा कि आजकल दर्शकों ने अपना न्यूज देखने का जरिया बदल लिया है। लोग न्यूज देखने के लिए आजकल रिमोट की जगह मोबाइल फोन उठाना बेहतर समझते हैं। चैनलों से ज्यादा लोग फोन में न्यूज देखना पसंद करते। कुमकुम कहती है कि जहां चैनलों का काम आम जनता 



से जुड़े सवाल उठाना होता है। सरकारों से तीखे सवाल पूछने का होता है, लेकिन इससे उल्ट अधिकतर चैनल तो आजकल सरकार के कामों का ढिंढोरा पीटते हुए नजर आते हैं।  यही वजह है कि जो पत्रकार जनता की सेवा करने, उनसे जुड़े मुद्दे उठाने के लिए पत्रकारिता में आए हैं, उनका इन न्यूज चैनलों में काम करना मुश्किल होता जा रहा है और वो अब डिजिटल मीडिया का रूख कर रहे हैं। ऐसा ही कुछ कुमकुम बिनवाल नाम की पत्रकार ने भी किया। कुमकुम ने अपनी डिजिटल पारी का आगाज करने का फैसला लिया है। उनका कहना है कि वो अब इस माध्यम से जन-सरोकार के मुद्दे को उठाएंगी और जनता के लिए काम करेंगी।




फाइल फोटो।





जरा ठहरें...
पत्रकार के साथ मारपीट करने वाले को गाजियाबाद पुलिस का संरक्षण
दत्तोपंत ठेंगड़ी की स्मृति में केंद्रीय संचार मंत्री ने डाक टिकट जारी किया
एक साप्ताहिक अखबार के मालिक को प्रेस कौंसिल ऑफ इंडिया ने भेजा नोटिस
आपदा के जोखिम को कम करने में मीडिया की भूमिका पर जोर’ विषय पर सेमिनार आयोजित
आपदा के जोखिम को कम करने में मीडिया की भूमिका पर गोलमेज सम्मेलन 13 को दिल्ली में
देश का नया चैनल संसद चैनल शुरू, प्रधानमंत्री, उपराष्ट्रपति और लोकसभा अध्यक्ष ने किया उद्घाटन
सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने पत्रकार कल्याण योजना से संबंधित समिति गठित की
विदेशी पत्रकारिता नकारात्मक मूल्यों पर आधारित – संजय द्विवेदी, महानिदेशक आईआईएमसी
भाष्कर और भारत समाचार ने खबर छापी तो सरकार ने उन पर छापा डलवा दी
देश का नागरिक सोशल मीडिया पर शिकायत करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई न हो – सर्वोच्च न्यायालय
बालाकोट हमले की जानकारी इस पत्रकार को पहले से ही थी...!
अर्णब गोस्वामी की मुश्किलें बढ़ीं, कोर्ट से नहीं मिली राहत
चीन की जासूसी के आरोप में पत्रकार राजीव शर्मा गिरफ्तार
भारत द्वारा पबजी समेत 224 एप प्रतिबंधित किए जाने से बौखलाया चीन!
प्रधानमंत्री की गूगल के सीईओ से महत्वपूर्ण बातचीत
नेपाल ने भारतीय समाचार चैनलों को किया प्रतिबंधित किया
बर्बाद हो रहे मीडिया की और ध्यान दे प्रधानमंत्री : आसिफ
मोदी सरकार का बड़ा फैसला, चीन के 59 साफ्टवेयर भारत में प्रतिबंधित
सीबीआई के 'निशाने' पर आए DAVP के अधिकारी, जांच के दायरे में फंसे कई अखबार!
सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म्स के गाइडलाइंस को रिवाइज किया जाएगा – रविशंकर प्रसाद
मुख्यमंत्री योगी ने भी नहीं सुनी एक पत्रकार की फरियाद
उ.प्र. में योगी राज में पत्रकार के घर पर गुंडों और दबंगों का कब्जा!
5 करोड़ यूजर्स के फेसबुक डेटा हैक की खबर से पूरी दुनिया में मचा हड़कंप
सरकार पत्रकारों को पेंशन दे - साक्षी महाराज
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.