ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

बातें मीडिया की

आपदा के जोखिम को कम करने में मीडिया की भूमिका पर गोलमेज सम्मेलन 13 को दिल्ली में

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 12 अक्टूबर 2021

कोविड 19, जो शुरू में एक स्वास्थ्य आपदा थी, वह जल्द ही दीर्घकालिक प्रभाव डालने वाली एक सामाजिक आर्थिक आपदा बन गई। कोविड 19 के वैश्विक प्रभाव ने पूरी दुनिया आपदा जोखिम के प्रबंधन और प्रशासन को सर्वोपरि बना दिया है। आज ऐसी आपदाओं के रोकथाम और इसके जोखिम के प्रति आगाह रहने और इससे उबरने के साथ साथ विकास के प्रति समग्र सामाजिक दृष्टिकोण की तत्काल आवश्यकता है।
 

सुशासन और उत्तरदायी सरकारी संस्थायें, आपदा के प्रभावी प्रबंधन और जोखिम में कमी की आधारशिला होते हैं। इन्हीं बातों के ध्यान में रखते हुए राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान (एनआईडीएम) और आपदा प्रबंधन पर हगनता से कार्यरत गैर सरकारी संस्था स्फीयर इंडिया ने आपदा जोखिम न्यूनीकरण हेतु अंतर्राष्ट्रीय दिवस (आईडीडीआरआर दिवस) 2021 मनाने के लिए एक कार्यशाला का आयोजन 13 अक्टूबर 2021 को दिल्ली में किया है। इसके साथ ही आपदा का जोखिम कम करने में मीडिया की भूमिका पर केंद्रित एक मीडिया गोलमेज सम्मेलन का आयोजन भी किया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि प्रत्येक वर्ष 13 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय आपदा जोखिम न्यूनीकरण दिवस आयोजित किया जाता है जो आपदा का जोखिम कम करने हेतु व्यक्तियों और समुदायों दोनों में जागरूकता बढ़ाने के प्रयासों के महत्व को बताता है और उनकी सराहना करता है और बदले में आपदाओं के प्रति उनके खतरों को कम करता है। संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 1989 में पहली बार घोषित, आईडीडीआरआर, वैश्विक आपदा जागरूकता और जोखिम में कमी को बढ़ावा देने की आवश्यकता का आह्वान करता है।

इस दिवस के मौके पर स्फीयर इंडिया, जो कि 93 मानवीय संगठनों और उसके सदस्य संगठनों का एक राष्ट्रीय गठबंधन है, ने एक कार्यशाला का आयोजन इंडिया इंटरनेशनल सेंटर दिल्ली में आयोजित किया है, जिसमें मुख्य वक्ता एनआईडीएम के कार्यकारी निदेशक मेजर जनरल मनोज कुमार बिंदल होंगे। कार्यशाला के पैनलिस्टों में शामिल हैं- प्रो अनिल के गुप्ता, एनआईडीएम; श्री कमल किशोर, एनडीएमए; श्री डेनियल गिलमैन, यूनोचा; श्री एस.एन. प्रधान, एनडीआरएफ; मिस्टर टॉम व्हाइट, यूनिसेफ; सुश्री ली मैक्वीन, एनसीडीएचआर; डॉ रजत जैन, डॉक्टर्स फॉर यू; डॉ रितु सिंह चौहान, डब्ल्यूएचओ; डॉ निधि पुंधीर, एचसीएल फाउंडेशन; मिस्टर जस्टिन जेबकुमार, हैबिटेट फॉर ह्यूमैनिटी, इंडिया।

इस मौके पर स्फीयर इंडिया आपदा काल के दौरान जवाबी प्रतिक्रिया के लिए बहु-क्षेत्रीय समन्वय पर आधारित छह पुस्तिकाओं की एक श्रृंखला भी जारी करेगा। आपदा कालीन जवाबी प्रतिक्रिया के लिए खास तौर से तैयार की गयी ये पुस्तिकाएं - स्वास्थ्य, आश्रय, शिक्षा, खाद्य और पोषण, जल और स्वच्छता और संरक्षण इन छह निम्न प्रमुख विषयगत क्षेत्रों पर आधारित हैं और यह आपात स्थिति के दौरान आपसी समन्वय के लिए एक संक्रियात्मक नियमावली के रूप में भी कार्य करेगी।

"ये पुस्तिकाएं विभिन्न हितधारकों और क्षेत्र के महत्वपूर्ण व्यक्तियों द्वारा निभाई गई भूमिकाओं को परिभाषित करती हैं और मानवीय कार्रवाई की प्रभावशीलता और दक्षता बढ़ाने के लिए दिशा निर्देश के रूप में काम करती हैं। स्फीयर इंडिया के सीईओ श्री विक्रांत महाजन के अनुसार इसका उद्देश्य आपदा कालीन जवाबी प्रतिक्रिया के दौरान बेहतर परिणामों के लिए विभिन्न हितधारकों के बीच समन्वय बना कर आपदा के जोखिम को कम करना है।

इसके साथ ही आपदा का जोखिम कम करने में मीडिया की भूमिका पर केंद्रित एक मीडिया गोलमेज सम्मेलन का आयोजन भी किया जा रहा है, जिसमें भाग लेने वाले वरिष्ठ मीडिया कर्मी होंगे - अनिल त्यागी, संपादक, जीफाइल्स; हिमांशु एस मिश्रा, वरिष्ठ संपादक, एनडीटीवी, विजय सोनी, सहायक संपादक, ओपन मैगजीन (वेब); दीपक पार्वतीयार, मुख्य सलाहकार, इंडियन फेडरेशन ऑफ यूएन एसोसिएशन; रोशन गौर, ब्यूरो चीफ, राष्ट्रीय सहारा, संजय सिंह, पूर्व महासचिव, प्रेस क्लब ऑफ इंडिया।

वरिष्ठ पत्रकार एवं इंडियन ऑब्जर्वर पोस्ट के एडिटर इन चीफ ओंकारेश्वर पांडे मीडिया पैनल का संचालन करेंगे। महाजन ने कहा कि "स्फीयर इंडिया ने मीडिया गोलमेज सम्मेलन में आपदा चक्र के सभी तीन चरणों- तैयारी, राहत और पुनर्प्राप्ति, और पुनर्वास के दौरान जीवन रक्षक जानकारी साझा करने के उद्धेश्य से जरूरी माहौल बनाने में मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका पर चर्चा करने की योजना बनाई है।"








जरा ठहरें...
पत्रकार के साथ मारपीट करने वाले को गाजियाबाद पुलिस का संरक्षण
दत्तोपंत ठेंगड़ी की स्मृति में केंद्रीय संचार मंत्री ने डाक टिकट जारी किया
एक साप्ताहिक अखबार के मालिक को प्रेस कौंसिल ऑफ इंडिया ने भेजा नोटिस
आपदा के जोखिम को कम करने में मीडिया की भूमिका पर जोर’ विषय पर सेमिनार आयोजित
देश का नया चैनल संसद चैनल शुरू, प्रधानमंत्री, उपराष्ट्रपति और लोकसभा अध्यक्ष ने किया उद्घाटन
सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने पत्रकार कल्याण योजना से संबंधित समिति गठित की
विदेशी पत्रकारिता नकारात्मक मूल्यों पर आधारित – संजय द्विवेदी, महानिदेशक आईआईएमसी
भाष्कर और भारत समाचार ने खबर छापी तो सरकार ने उन पर छापा डलवा दी
ABP News छोड़कर बोली कुमकुम बिनवाल बोली बड़े बड़े पत्रकार अब डरते हैं
देश का नागरिक सोशल मीडिया पर शिकायत करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई न हो – सर्वोच्च न्यायालय
बालाकोट हमले की जानकारी इस पत्रकार को पहले से ही थी...!
अर्णब गोस्वामी की मुश्किलें बढ़ीं, कोर्ट से नहीं मिली राहत
चीन की जासूसी के आरोप में पत्रकार राजीव शर्मा गिरफ्तार
भारत द्वारा पबजी समेत 224 एप प्रतिबंधित किए जाने से बौखलाया चीन!
प्रधानमंत्री की गूगल के सीईओ से महत्वपूर्ण बातचीत
नेपाल ने भारतीय समाचार चैनलों को किया प्रतिबंधित किया
बर्बाद हो रहे मीडिया की और ध्यान दे प्रधानमंत्री : आसिफ
मोदी सरकार का बड़ा फैसला, चीन के 59 साफ्टवेयर भारत में प्रतिबंधित
सीबीआई के 'निशाने' पर आए DAVP के अधिकारी, जांच के दायरे में फंसे कई अखबार!
सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म्स के गाइडलाइंस को रिवाइज किया जाएगा – रविशंकर प्रसाद
मुख्यमंत्री योगी ने भी नहीं सुनी एक पत्रकार की फरियाद
उ.प्र. में योगी राज में पत्रकार के घर पर गुंडों और दबंगों का कब्जा!
5 करोड़ यूजर्स के फेसबुक डेटा हैक की खबर से पूरी दुनिया में मचा हड़कंप
सरकार पत्रकारों को पेंशन दे - साक्षी महाराज
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.