ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रमुख समाचार

रेलवे में फ्लैक्सी किराया लगने से ७ लाख यात्री दूर, कैग ने रेलवे को लगाई लताड़!

आकाश श्रीवास्तव

नई दिल्ली, २१ जुलाई २०१८

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (कैग) ने अपनी ताजा रिपोर्ट में रेलवे को जमकर फटकार लगाई है। रेलवे को सबसे ज्यादा फटकार फ्लेक्सी फेयर स्किम पर लगाई गई है। कैग का कहना है कि राजधानी, शताब्दी एवं दुरोंतों जैसी ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर लागू होने के बाद सेकण्ड एसी की 17 फीसदी सीट खाली रही हैं। वहीं थर्ड एसी की पांच फीसदी सीटें और शताब्दी ट्रेनों की 25 फीसदी सीटें खाली रहीं।


फोटो फाइल।

कैग ने अपनी सिफारिश में कहा कि रेलवे मांग और यात्रियों की संख्या के आधार पर किराए पर विचार करे ताकि उसकी कमाई और यात्रियों की संख्या दोनों बढ़ें। रेलवे प्रीमियम ट्रेनों जिनका किराया पहले से ही ज्यादा है, उनका किराया बेहतर और तर्कसंगत करे। कम से कम 50 फीसदी सीटों पर फ्लेक्सी किराया लागू न हो। अभी केवल 10 फीसदी सीटों पर यह छूट है।

वेटिंग लिस्ट टिकट वाले यात्रियों को फ्लेक्सी किराये में राहत दी जाए और उन्हें ऐसी टिकटों के लिए 40-50 फीसदी किराया न देना पड़े। कैग ने कहा है कि थर्ड एसी से रेलवे पहले से फायदा कमा रहा था इसलिए इसमें फ्लेक्सी किराया लागू करना उचित नहीं था। प्रीमियम ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर लगने से 9 सितंबर 2016 से 31 जुलाई 2017 तक इन ट्रेनों से करीब 7 लाख मुसाफिर दूर भाग गए। फ्लेक्सी फेयर की वजह से रूट पर चलने वाली मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों पर भार बढ़ा।


कैग का कहना है कि 120 दिन पहले टिकट बुक कराने पर 17 दिशाओं में हवाई यात्रा सबसे सस्ती है। हालांकि बाकी बचे 9 दिशाओं में हवाई किराया ज्यादा है लेकिन यह महज 600 रुपये। 90 दिन पहले टिकट बुक कराएं तो 18 दिशाओं में हवाई सफर सबसे सस्ता है। 60 दिन पहले टिकट लेने पर 19 दिशाओं में हवाई यात्रा सबसे सस्ती है और 30 दिन पहले टिकट लें तो 17 दिशाओं में हवाई यात्रा सबसे सस्ती है।



जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.