ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

विज्ञान एवं रक्षा तकनीकि

भारतीय जैव-जेट ईंधन प्रौद्योगिकी को औपचारिक सैन्य प्रमाणन प्राप्त मिला

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 29 नवंबर 2021

सीएसआईआर-आईआईपी देहरादून के जैव-जेट ईंधन के उत्पादन की घरेलू तकनीक को भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के सैन्य विमानों में उपयोग के लिये औपचारिक रूप से मंजूरी दे दी गयी है। आर. कमलकन्नन, समूह निदेशक (एटी एंड एफओएल), सेना उड़न योग्यता और प्रमाणीकरण केन्द्र (सीईएमआईएलएसी) के द्वारा भारतीय वायु सेना के ग्रुप कैप्टन आशीष श्रीवास्तव एवं विंग कमांडर ए सचान और सीईएमआईएलएसी के आर शनमुगावेल की उपस्थिति में सीएसआईआर-आईआईपी के प्रधान वैज्ञानिक सलीम अख्तर फारूकी को प्रोविजनल क्लीयरेंस (पीसी) प्रमाणपत्र सौंपा गया। यह प्रमाणन विमानन जैव-ईंधन क्षेत्र में भारत के बढ़ते विश्वास और 'आत्मनिर्भर भारत' की दिशा में एक और कदम का प्रतिनिधित्व करता है।

वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद की एक घटक प्रयोगशाला, भारतीय पेट्रोलियम संस्थान (सीएसआईआर-आईआईपी) द्वारा विकसित प्रौद्योगिकी का पिछले तीन वर्षों में मूल्यांकन, जांच और परीक्षण किया गया है। हवाई जहाजों का परीक्षण एक जटिल और बेहद सावधानीपूर्वक की जाने वाली प्रक्रिया है जिसमें उड़ान सुरक्षा के उच्चतम स्तर को सुनिश्चित करते हुए गहन जांच शामिल है। अंतर्राष्ट्रीय विमानन मानक इन कठोर आकलनों के दायरे को परिभाषित करते हैं। विमान की जीवन रेखा होने के कारण ईंधन को मानवयुक्त उड़ान मशीनों में इस्तेमाल से पहले गहन विश्लेषण की आवश्यकता होती है। प्रयोगशाला द्वारा आज प्राप्त प्रमाणीकरण भारतीय वायुसेना द्वारा समर्थित विभिन्न परीक्षण एजेंसियों द्वारा स्वदेशी जैव-जेट ईंधन पर किये गये विभिन्न जमीनी और उड़ान परीक्षणों से प्राप्त संतोषजनक परिणामों की स्वीकृति है।

इससे पहले 26 जनवरी 2019 को, मिश्रित जैव-जेट ईंधन के साथ एक एएन-32 विमान गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान नई दिल्ली में राज पथ के ऊपर से उड़ा था। इसके बाद, 30 जनवरी 2020 को भारतीय प्रौद्योगिकी के प्रदर्शन और विश्वसनीयता का तब भी परीक्षण हुआ जब बेहद ऊंचे क्षेत्र में सर्दियों की कड़ी परिस्थितियों के बीच रूसी सैन्य विमान लेह हवाई अड्डे पर सुरक्षित उतरा और वहां से सफलता पूर्वक उड़ान भरी। 27 अगस्त 2018 को देहरादून से दिल्ली के लिए स्पाइसजेट द्वारा संचालित एक नागरिक व्यवसायिक प्रदर्शन उड़ान में भी इस ईंधन का उपयोग किया गया था। हरित ईंधन के साथ ये परीक्षण उड़ानें एक राष्ट्रीय उद्देश्य को पूरा करने के लिये भारतीय वैज्ञानिकों की क्षमताओं एवं प्रतिबद्धता और भारतीय वायुसेना की सैन्यभावना को रेखांकित करती हैं।








जरा ठहरें...
भारत ने हाई ब्रिड मिसाइल का किया परीक्षण, मारक क्षमता 3 हजार किमी
भारत ने बनाया अपना पहला केंद्रीय एकीकृत राष्ट्रीय जैव प्रौद्योगिकी डाटा केंद्र
अब देश में बनेंगे सैन्य परिवहन विमान, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया शिलान्यास
डीआरडीओ ने AD-1 इंटरसेप्टर मिसाइल का सफल परीक्षण किया
समुद्री सीमा में पारस्परिक संबंध बढ़ाने के लिए भारतीय नौसेना का तीन देशों के साथ अभ्यास
भारतीय तट रक्षक बल किसी से कम नहीं, हर चुनौती से निपटने को तैयार
डिफेंस एक्सपो 2022: आत्मनिर्भरता और स्वदेशी पर जोर
एक विशेष अभियान में भारतीय नौ सेना ने 2 सौ किलो नशीला पदार्थ जब्त किया
उत्तर रेलवे के सबसे महत्वाकांक्षी और दुलर्भ परियोजना का रेलवे बोर्ड अध्यक्ष ने जायजा लिया
बार के दो नए विध्वंसक युद्धपोतों ने समुद्र में कसी कमर
भारतीय वायुसेना ने अपने महानायक मार्शल अर्जुन सिंह को किया याद!
वायुसेना ने देवघर में बचाव कार्य को पूरा किया
रक्षा बजट 2022: सुरक्षा क्षेत्र में आत्म निर्भर भारत के दो कदम: एक आकलन
डीआरडीओ ने सरफेस टू एयर मिसाइल का सफल परीक्षण किया
भारत ने प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में "बड़ी छलांग"लगाई – डॉ जितेंद्र सिंह
वायुसेना ने भविष्य में उत्पन्न होने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए चिंतन मंथन शुरू किया
राष्ट्रीय कृषि-खाद्य जैव प्रौद्योगिकी संस्थान में उन्नत 650 टेराफ्लॉप्स सुपरकंप्यूटिंग सुविधाओं का उद्घाटन
भारतीय वायु सेना ने पश्चिमी वायु कमान में 'यूनिटी रन' का आयोजन किया
अमेरिकी नौसेना के प्रमुख एडमिरल माइकल गिल्डे, नौसेना के चीफ एडमिरल करमवीर से मिले
समय से पहले सारे राफेल मिल जाएंगे भारत को - फ्रांस
लद्दाख में चीनी वायुसेना तीन एअरबेस पर मौजूद – मुकाबले के लिए हम तैयार – वायुसेना प्रमुख
पुरानी बीमारी महामारी विज्ञान तथा जटिल सार्वजनिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप पर काम कर रहे चित्रा
सरकार ने स्पेन से 56 ‘सी-295’ सैन्य परिवहन विमानों की खरीदी के लिए अनुबंध किया
साढ़े सात हजार करोड़ रूपए में 118 अर्जुन टैंकों की खरीद की मंजूरी
ध्वनि की गति से 24 गुना तेज चलने वाली अग्नि-5 मिसाइल का परीक्षण जल्द
वायुसेना ने देश में आक्सीजन की कमी को दूर करन के लिए कमर कसी
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.