ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

विज्ञान एवं रक्षा तकनीकि

भारत ने प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में "बड़ी छलांग"लगाई – डॉ जितेंद्र सिंह

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 30 नवंबर 2021

केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विज्ञान और प्रौद्योगिकी, डॉ जितेंद्र सिंह ने कहा कि विज्ञान और भारतीय वैज्ञानिकों ने न केवल भारत को स्वतंत्रता प्राप्त करने में मदद की बल्कि इसे 75 वर्षों तक बनाए रखने में भी मदद की। भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन और विज्ञान की भूमिका"विषय पर विज्ञान संचार विशेषज्ञों और शिक्षकों के लिए एक राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि भारत ने पिछले सात वर्षों में प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के नेतृत्व में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में "बड़ी छलांग"लगाई है। उन्होंने दोहराया कि भारत पहले से ही मजबूत से खड़ा है और विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी अगले 25 वर्षों के लिए रोडमैप के प्रमुख निर्धारक होंगे जब हम भारत स्वतंत्रता के 100 वर्ष मनाएगा।
डॉ. जितेंद्र सिंह ने महात्मा गांधी को सबसे महान वैज्ञानिक रणनीतिकारों में से एक के रूप में वर्णित किया, जिन्होंने अहिंसा के अपने हथियार के माध्यम से ब्रिटिश अधीनता और आक्रामकता के खिलाफ वैज्ञानिक लड़ाई छेड़ी। उन्होंने बताया कि बापू और उनके कई समकालीनों ने भी ब्रिटिश विरोधियों को रक्षात्मक होने के लिए मनोवैज्ञानिक तकनीकों को अपनाया था। जितेंद्र सिंह ने एक प्रख्यात जीव विज्ञानी, भौतिक विज्ञानी, वनस्पतिशास्त्री और विज्ञान कथा के शुरुआती लेखक सर जगदीश चंद्र बोस को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा किइम्‍पीरियल भारत में वैज्ञानिकों द्वारा प्रदर्शित देशभक्ति के उत्साह ने राष्ट्रवादी आंदोलन की भावना को जोड़ा। उन्होंने कहा किहमारे देश के स्वतंत्रता आंदोलन में हम राजनीतिक नेताओं के बलिदान और संघर्ष को याद करते हैं, लेकिन दूसरी तरफ हमारे वैज्ञानिकों ने भी ब्रिटिश शासन की भेदभावपूर्ण नीति का संघर्ष और विरोध किया।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव देश की आजादी के 75वें वर्ष के साथ मिलकर हमें अपने विज्ञान नायकों को याद करने का मौका देता है। भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के भारतीय वैज्ञानिकों, विज्ञान संचारकों और विज्ञान शिक्षकों की अदम्य भावना को सलाम करते हुए, उन्‍होंने कहा किहमें व्यक्तियों, संस्थानों और आंदोलनों के रूप में उनके बेजोड़ योगदान को याद रखना चाहिए, जिन्होंने हमारे वर्तमान विज्ञान और प्रौद्योगिकी की नींव रखी। डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा किऔपनिवेशिक युग के दौरान "आत्मनिर्भरता"की दृष्टि ने भारतीय वैज्ञानिकों और देशभक्तों को अपने स्वयं के वैज्ञानिक संस्थान और उद्योग स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया। डॉ. महेंद्रलाल सरकार ने 1876 में इंडियन एसोसिएशन फॉर द कल्टीवेशन ऑफ साइंस की स्थापना की। आचार्य पी.सी. रे ने 1901 में द बंगाल केमिकल एंड फार्मास्युटिकल वर्क्स की स्थापना की जो हमारे देश में स्वदेशी उद्योग की आधारशिला थी। उन्होंने कहा किभारतीय वैज्ञानिकों ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान सामाजिक समरसता, समानता, तर्कवाद, धर्मनिरपेक्षता और सार्वभौमिकता पर जोर दिया।

सम्मेलन का व्यापक विषय "भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन और विज्ञान की भूमिका"है। इस विषय के सभी पहलुओं को छह प्रमुख विषयों में शामिल किया गया है- 1. अधीनता के लिए विज्ञान एक उपकरण के रूप में 2. आजादी के लिए विज्ञान एक उपकरण के रूप में: वैज्ञानिकों की भूमिका, 3. विज्ञान आजादी के लिए एक उपकरण के रूप में: संस्थानों की भूमिका- शैक्षणिक , औद्योगिक और अनुसंधान, 4. आजादी के लिए एक उपकरण के रूप में विज्ञान: आंदोलनों की भूमिका, 5. आजादी के लिए एक उपकरण के रूप में विज्ञान: नीति और योजना की भूमिका, 6.आजादी के लिए एक उपकरण के रूप में विज्ञान: हमारे वैज्ञानिकों की दृष्टि। दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में उद्घाटन सत्र, आमंत्रित मुख्य वक्ताओं द्वारा 3 पूर्ण सत्र, सम्मेलन की थीम पर 6 तकनीकी सत्र और समापन सत्र सहित लगभग 3500 प्रतिभागी इस कार्यक्रम में शामिल हुए।








जरा ठहरें...
भारत ने हाई ब्रिड मिसाइल का किया परीक्षण, मारक क्षमता 3 हजार किमी
भारत ने बनाया अपना पहला केंद्रीय एकीकृत राष्ट्रीय जैव प्रौद्योगिकी डाटा केंद्र
अब देश में बनेंगे सैन्य परिवहन विमान, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया शिलान्यास
डीआरडीओ ने AD-1 इंटरसेप्टर मिसाइल का सफल परीक्षण किया
समुद्री सीमा में पारस्परिक संबंध बढ़ाने के लिए भारतीय नौसेना का तीन देशों के साथ अभ्यास
भारतीय तट रक्षक बल किसी से कम नहीं, हर चुनौती से निपटने को तैयार
डिफेंस एक्सपो 2022: आत्मनिर्भरता और स्वदेशी पर जोर
एक विशेष अभियान में भारतीय नौ सेना ने 2 सौ किलो नशीला पदार्थ जब्त किया
उत्तर रेलवे के सबसे महत्वाकांक्षी और दुलर्भ परियोजना का रेलवे बोर्ड अध्यक्ष ने जायजा लिया
बार के दो नए विध्वंसक युद्धपोतों ने समुद्र में कसी कमर
भारतीय वायुसेना ने अपने महानायक मार्शल अर्जुन सिंह को किया याद!
वायुसेना ने देवघर में बचाव कार्य को पूरा किया
रक्षा बजट 2022: सुरक्षा क्षेत्र में आत्म निर्भर भारत के दो कदम: एक आकलन
डीआरडीओ ने सरफेस टू एयर मिसाइल का सफल परीक्षण किया
भारतीय जैव-जेट ईंधन प्रौद्योगिकी को औपचारिक सैन्य प्रमाणन प्राप्त मिला
वायुसेना ने भविष्य में उत्पन्न होने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए चिंतन मंथन शुरू किया
राष्ट्रीय कृषि-खाद्य जैव प्रौद्योगिकी संस्थान में उन्नत 650 टेराफ्लॉप्स सुपरकंप्यूटिंग सुविधाओं का उद्घाटन
भारतीय वायु सेना ने पश्चिमी वायु कमान में 'यूनिटी रन' का आयोजन किया
अमेरिकी नौसेना के प्रमुख एडमिरल माइकल गिल्डे, नौसेना के चीफ एडमिरल करमवीर से मिले
समय से पहले सारे राफेल मिल जाएंगे भारत को - फ्रांस
लद्दाख में चीनी वायुसेना तीन एअरबेस पर मौजूद – मुकाबले के लिए हम तैयार – वायुसेना प्रमुख
पुरानी बीमारी महामारी विज्ञान तथा जटिल सार्वजनिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप पर काम कर रहे चित्रा
सरकार ने स्पेन से 56 ‘सी-295’ सैन्य परिवहन विमानों की खरीदी के लिए अनुबंध किया
साढ़े सात हजार करोड़ रूपए में 118 अर्जुन टैंकों की खरीद की मंजूरी
ध्वनि की गति से 24 गुना तेज चलने वाली अग्नि-5 मिसाइल का परीक्षण जल्द
वायुसेना ने देश में आक्सीजन की कमी को दूर करन के लिए कमर कसी
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.