ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

मुख्य समाचार

रेलवे ने रेलगाड़ियों में तत्काल प्रभाव से चादर, कंबल, पर्दे देने की घोषणा की

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 10 मार्च 2022

रेल मंत्रालय ने रेलगाड़ियों में रेल यात्रियों को तुरंत प्रभाव से कंबल, चादर और पर्दे देने की घोषणा की है। गुरुवार को रेलवे ने एक आदेश जारी करते हुए कहा है कि ट्रेन में बेडशीट, कंबल और पर्दे की सुविधा को फिर से शुरू किया जा रहा है। इसे कोरोना काल में संक्रमण को फैलने से रोकने के मकसद से बंद किया गया था। सभी रेलवे जोन के जनरल मैनेजर्स को यह आदेश जारी किया जा चुका है। रेलवे बोर्ड ने कहा है कि इन चीजों की सप्लाई तुरंत ही शुरू कर दी जाएगी। इससे पहले खाने समेत कई सुविधाएं दोबारा शुरू की जा चुकी हैं।

इससे पहले रेलवे ने सबसे पहले स्पेशल ट्रेनों के नाम पर महत्वपूर्ण ट्रेनों की सुविधा बहाल की। उसके बाद इन ट्रेनों में पेंट्री कार की सुविधा शुरू की, ताकि लोगों को ट्रेन में बना हुआ खाना आसानी से मुहैया कराया जा सके। यानी चाय-कॉफी से लेकर तमाम तरह के खाने अब रेलगाड़ी में ही बना कर बेचे जा रहे हैं। इससे पहले लोगों को खाने की सुविधा देने के लिए सिर्फ रेडी टू इट खाना ही मिलता था। अब कंबल और बेडशीट की सुविधा भी मिलने लगी है।

कोरोना काल से पहले की बात करें तो ट्रेन के एसी क्लास में यात्रा करने पर बेड रोल मुफ्त में मिलता था। गरीब रथ ट्रेन में इसके लिए मामूली चार्ज देना होता था। एक बेड रोल में दो चादर, एक तकिया, एक कंबल और एक छोटा तौलिया होता था। कोरोना काल में जब ट्रेन की सुविधा फिर से शुरू की गई तो बेड रोल देना बंद कर दिया गया। उस समय रेलवे का कहना था कि बेड रोल से कोरोना का संक्रमण फैल सकता है।


कंबल और बेडशीट ना मिलने के चलते लोग इसकी काफी मांग कर रहे थे। ये सुविधाएं ना मिलने की वजह से लोगों को काफी दिक्कत हो रही थी। बहुत से ऐसे भी लोग थे, जो ट्रेन में ये सब सुविधाएं ना मिलने की वजह से प्लेन से यात्रा करने को तवज्जो देने लगे थे। वहीं ट्रेन और प्लेन के एसी के किराए में अब ज्यादा फर्क नहीं रहा। वहीं ट्रेन की तुलना में प्लेन से समय की बहुत अधिक बचत होती है।









जरा ठहरें...
मालगाड़ी की पटरी से उतरने पर मार्ग रहा बाधित
वंदे मातरम को राष्ट्रगान की तरह सम्मान मिले, मामला कोर्ट में
तेल के दामों में कटौती सरकार की नौटंकी है - कांग्रेस
कोविड-19 से बचाव और उपचार को लेकर अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री योगी की बैठक
पश्चिम रेलवे द्वारा टिकट जाँच के दौरान 5 सालों में सबसे ज्यादा वसूली
दस हजार करोड़ रुपये की लागत से बनेगा पुणे और औरंगाबाद एक्सप्रेसवेः गडकरी
शहीद जवान के आश्रित को बिहार सरकार की ओर से 11 लाख रूपये की मदद
प्रयागराज रेल मंडल ने लदान से लगभग 6 सौ करोड़ रूपए अर्जित की
उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक ने कार्य प्रगति की समीक्षा की
अब शताब्‍दी और वंदे भारत रेलगाडि़यों में बजेंगे रेडियो
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Third Eye World News: वीडियो
22 मार्च 2022 से...
Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.