ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

विज्ञान एवं रक्षा तकनीकि

उत्तर रेलवे के सबसे महत्वाकांक्षी और दुलर्भ परियोजना का रेलवे बोर्ड अध्यक्ष ने जायजा लिया
जम्मू-कश्मीर में यूएसबीआरएल परियोजना के कटरा-बनिहाल खंड पर चल रहे कार्यों का निरीक्षण किया

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 10 सितंबर 2022

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी  विनय कुमार त्रिपाठी, जम्मू-कश्मीर में यूएसबीआरएल परियोजना के कटरा-बनिहाल (111 किलो मीटर) खंड पर चल रहे विभिन्न कार्यों का जायजा लिया। निरीक्षण का कार्य सुरंग टी-1 (3159 मीटर) से आरंभ किया गया। पोर्टल पी1 छोर से 1860 मीटर और पी2 छोर से 1039 मीटर सुरंग खोदने का कार्य पूरा कर लिया गया है। अब केवल 260 मीटर खुदाई का कार्य शेष है। महत्तवपूर्ण मुख्य सीमावर्ती क्षेत्र होने के कारण, कार्य की प्रगति  धीमी है। सुरंग की खुदाई के लिए कई प्री-सपोर्ट संसाधनों और खुदाई के उपरांत भी सहायक प्रणालियों की आवश्यकता होती है। कार्यकारी एजेंसी को संसाधनों को बढ़ाकर शेष 260 मीटर की खुदाई के कार्य को तेजी से पूरा करने की सलाह दी गई।
उत्तर रेलवे/कोंकण रेलवे कार्पोरेशन लिमिटेड को कार्य प्रगति की बारीकी से निगरानी करने के निर्देश दिये गये। सुरंग टी-1 के निरीक्षण पश्चात, पहले से ही पूर्ण हो चुकी 5090 मीटर लंबी मुख्य सुरंग एवं इसके समानांतर 5072 मीटर लंबी एस्केप टनल के कार्य का निरीक्षण किया गया। इस सुरंग में बीएलटी का कार्य प्रगति पर है और करीब 2.5 किलोमीटर लंबी एचबीएल (हाइड्रोलिकली बाउंडेड लेयर) पहले ही बिछाई जा चुकी है। सुरंग टी-2 के निरीक्षण के बाद, भारतीय रेलवे के पहले केबल स्टे ब्रिज, अंजी ब्रिज (कटरा छोर) का निरीक्षण किया गया, जिसकी कुल लंबाई 725 मीटर है। अंजी ब्रिज में नींव के ऊपर से 193 मीटर और नदी के तल से 331 मीटर की ऊंचाई का एक सिंगल मेंन पायलाॅन है। इस पुल के कटरा छोर पर, एमए1 एबटमेंट सबस्ट्रक्चर का निर्माण कार्य प्रगति पर है और 22.3 मीटर ऊंचाई में से 9 मीटर का निर्माण हो चुका है। परियोजना से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि कटरा छोर पर केवल एमए1 और सीए2 के 38 मीटर स्पैन का शेष कार्य निर्माणाधीन है और इसे दिसंबर 2022 तक पूर्ण कर लिया जाएगा।

इसके उपरांत, अंजी ब्रिज के रियासी छोर का निरीक्षण किया गया। सब-स्ट्रक्चर का कार्य पूरा हो चुका है और सुपर स्ट्रक्चर की लॉन्चिंग/निर्माण का कार्य जारी है। 473 मीटर डेक में से 249 मीटर का निर्माण हो चुका है जिसमें डेरिक (सेगमेंट लॉन्चर) का उपयोग करके 6 सेगमेंट लॉन्च करना शामिल है। परियोजना के अधिकारियों ने बताया कि एक महीने में 3 सेगमेंट (अर्थात 30 मीटर) का कार्य किया जा रहा है और इसमें तेजी लाने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। सीआरबी ने किए जा रहे  कार्य की सराहना की और परियोजना अधिकारियों को कार्य की प्रगति में और सुधार करने की सलाह दी ताकि कार्य को तेजी से पूरा किया जा सके। अंजी ब्रिज का मुआयना करने के बाद मुख्य पुल संख्या 39 का निरीक्षण किया गया, जो 490 मीटर लंबाई का एक निरंतर कम्पोसाइट गर्डर है तथा इसका कार्य पूरा होने के अंतिम चरण में है। इस पुल के सबसे ऊंचे पियर पी5 की ऊंचाई नींव के स्तर से 105 मीटर है और रियासी यार्ड इस पुल के ऊपर स्थित होगा और इसमें दो लाइनें और दो प्लेटफॉर्म भी होंगे। मुख्य गर्डर के लिए डेक स्लैब का कार्य पूरा कर लिया गया है और प्लेटफार्म गर्डर का कार्य प्रगति पर है। परियोजना से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि शेष कार्य नवम्बर, 2022 तक पूर्ण कर लिये जायेंगे।








जरा ठहरें...
दिल्ली में एक सप्ताह एक प्रयोगशाला की शुरूआत
भारत आने वाले समय में वैज्ञानिक चुनौतियों से निपटने में सक्षम होगा - जीतेंद्र सिंह
ध्वनि की गति से 24 गुना और गति लगभग 25 हजार किमी प्रति घंटा, ऐसी मिसाइल की भारत ने की सफल परीक्षण
भारत अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव इस बार मप्र के भोपाल में
भारत ने हाई ब्रिड मिसाइल का किया परीक्षण, मारक क्षमता 3 हजार किमी
भारत ने बनाया अपना पहला केंद्रीय एकीकृत राष्ट्रीय जैव प्रौद्योगिकी डाटा केंद्र
अब देश में बनेंगे सैन्य परिवहन विमान, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया शिलान्यास
डीआरडीओ ने AD-1 इंटरसेप्टर मिसाइल का सफल परीक्षण किया
समुद्री सीमा में पारस्परिक संबंध बढ़ाने के लिए भारतीय नौसेना का तीन देशों के साथ अभ्यास
भारतीय तट रक्षक बल किसी से कम नहीं, हर चुनौती से निपटने को तैयार
डिफेंस एक्सपो 2022: आत्मनिर्भरता और स्वदेशी पर जोर
एक विशेष अभियान में भारतीय नौ सेना ने 2 सौ किलो नशीला पदार्थ जब्त किया
बार के दो नए विध्वंसक युद्धपोतों ने समुद्र में कसी कमर
भारतीय वायुसेना ने अपने महानायक मार्शल अर्जुन सिंह को किया याद!
वायुसेना ने देवघर में बचाव कार्य को पूरा किया
रक्षा बजट 2022: सुरक्षा क्षेत्र में आत्म निर्भर भारत के दो कदम: एक आकलन
डीआरडीओ ने सरफेस टू एयर मिसाइल का सफल परीक्षण किया
भारत ने प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में "बड़ी छलांग"लगाई – डॉ जितेंद्र सिंह
भारतीय जैव-जेट ईंधन प्रौद्योगिकी को औपचारिक सैन्य प्रमाणन प्राप्त मिला
वायुसेना ने भविष्य में उत्पन्न होने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए चिंतन मंथन शुरू किया
राष्ट्रीय कृषि-खाद्य जैव प्रौद्योगिकी संस्थान में उन्नत 650 टेराफ्लॉप्स सुपरकंप्यूटिंग सुविधाओं का उद्घाटन
भारतीय वायु सेना ने पश्चिमी वायु कमान में 'यूनिटी रन' का आयोजन किया
अमेरिकी नौसेना के प्रमुख एडमिरल माइकल गिल्डे, नौसेना के चीफ एडमिरल करमवीर से मिले
समय से पहले सारे राफेल मिल जाएंगे भारत को - फ्रांस
लद्दाख में चीनी वायुसेना तीन एअरबेस पर मौजूद – मुकाबले के लिए हम तैयार – वायुसेना प्रमुख
पुरानी बीमारी महामारी विज्ञान तथा जटिल सार्वजनिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप पर काम कर रहे चित्रा
सरकार ने स्पेन से 56 ‘सी-295’ सैन्य परिवहन विमानों की खरीदी के लिए अनुबंध किया
साढ़े सात हजार करोड़ रूपए में 118 अर्जुन टैंकों की खरीद की मंजूरी
ध्वनि की गति से 24 गुना तेज चलने वाली अग्नि-5 मिसाइल का परीक्षण जल्द
वायुसेना ने देश में आक्सीजन की कमी को दूर करन के लिए कमर कसी
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Third Eye World News: वीडियो
इन खूबियों से लैस है...
Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.