ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रमुख समाचार

भारतीय रेलवे ने डीजल इंजन को विद्युत इंजन में तब्दील करके बनाया विश्व कीर्तिमान

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

भारतीय रेल ने उल्लेखनीय रूपांतरण के साथ डीजल लोकोमोटिव से रूपांतरित किये गये नये प्रोटोटाइप इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव की शुरूआत की है। भारतीय रेल के 100 प्रतिशत विद्युतीकरण मिशन एवं डि-कार्बोनाइजेशन एजेंडा को ध्यान में रखते हुए डीजल लोकोमोटिव वर्क्स, वाराणसी ने मिड-लाइफ डीजल लोकोमोटिव का साधन-सम्पन्न एवं नवीनतम रूपांतरण करके इस प्रोटोटाइप का विकास किया है। इस रूपांतरण की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि यह विश्व भर में डीजल लोकोमोटिव से इलेक्ट्रिक में अपनी तरह का पहला रूपांतरण है।


अनिवार्य परीक्षण के बाद लोकोमोटिव ने 75 किमी प्रतिघंटे की अधिकतम स्वीकार्य गति पर 5200 टन लोड की ढुलाई के साथ 3 दिसम्बर 2018 को वाराणसी से लुधियाना तक अपना पहला सफर पूरा किया। इस महत्वाकांक्षी एवं ऐतिहासिक परियोजना पर कार्य 22 दिसम्बर, 2017 को प्रारंभ हुआ और 28 फरवरी, 2018 को नया लोकोमोटिव डिस्पैच किया गया। डीजल लोकोमोटिव से इलेक्ट्रिक में रूपांतरण की परिकल्पना से निष्पादन तक का कार्य मात्र 69 दिनों में पूरा किया गया। यह अपने इन-हाउस संसाधनों एवं चितरंजन लोकोमोटिव वर्क्स, डीजल लोको आधुनिकीकरण वर्क्स एवं अनुसंधान अभिकल्प एवं मानक संगठन के सहयोग से डीएलडब्ल्यू में पूर्ण की गई ‘मेक इन इंडिया’ परियोजना है । यह डीजल लोकोमोटिव के मिड-लाइफ पुनर्वास को बंद करके उसे इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव मे रूपांतरित करने तथा इसकी कोडल लाइफ तक लाभकारी उपयोग के लिए बनाई गई योजना है। डीजल इंजन को 18 वर्ष की अवधि से आगे भी चलाने के लिए उसका मिड-लाइफ अनुरक्षण बेहद अपरिहार्य एवं अनिवार्य है । डीजल इंजन को विद्युत इंजन में तबदील करने में इस लागत का मात्र 50% व्यय होगा ।

डब्ल्यूडीजी3-क्लास डीजल लोकोमोटिव जो कि मिड-लाइफ पुनर्वास के लिए देय था, को इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव में रूपांतरित किया गया है और नया स्वदेशी ’मेक इन इंडिया’ इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव 5,000 एचपी पावर डिलीवर करता है जो कि पुराने लोकोमोटिव के 2,600 एचपी रेल हॉर्स पावर से 92 प्रतिशत अधिक है।


उत्तर रेलवे के पीआरओ दीपक कुमार जानकारी देते हुए।

लोकोमोटिव पैक्स 10000 एचपी पावर लगभग 5000 टन तक लोड ढोने के लिए पर्याप्त हैं जो लोड के तेजी से पारगमन के लिए उपयुक्त है और भारतीय रेल पर गतिशीलता में सुधार के लिए उपयुक्त भार अनुपात 2-1 हॉर्स पावर शक्ति प्रदान करता है। यह उल्लेखनीय है कि रूपांतरण की लागत लगभग 2.5 करोड़ है जो कि डीजल लोकोमोटिव व्यय के मिड-लाइफ पुनर्वास का केवल 50 प्रतिशत है, तथापि, इन लोको के मिड-लाइफ पुनर्वास के निष्पादन के स्थान पर डीजल लोकोमोटिव को इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव में रूपांतरित करने से प्रति लोकोमोटिव 2.5-3.0 करोड की सीमा तक़ समग्र बचत होगी।


इसलिए यह न केवल किफायती है बल्कि मालभाड़ा ट्रेनों की औसत गति में भी वृद्धि करता है जैसा कि रूपांतरित लोकोमोटिव की हॉर्स पावर लगभग 100 प्रतिशत तक बढ़ाई गई है। यह परियोजना निश्चित ही ट्रैक्शन ऊर्जा बचत की दिशा में एक बड़ा कदम है जिससे भारतीय रेल के ईंधन बिल में कमी आयेगी और भारतीय रेल मे तकनीकी की शुरूआत के अलावा कार्बन उत्सर्जन में भी कमी आयेगी। यह परियोजना कई मायनों में भारतीय रेल का एक विशिष्ट निर्माण है और वित्त पर अधिक भार दिये बिना तैयार की गई है और विश्व में अपनी तरह की पहली परियोजना है।

भारतीय रेल ने ब्रॉडगेज नेटवर्क के 100 प्रतिशत विद्युतीकरण और डि-कार्बोनाइजेशन मिशन पर विशेष जोर दिया है। वर्ष 2017-18 के दौरान इलेटिक्ट्रक ट्रैक्शन पर 4087 ब्रॉडगेज रूट कि.मी. चालू किया गया है। यह अब तक किसी भी वर्ष में सबसे ज्यादा विद्युतीकरण है। वर्ष 2018-19 के दौरान 6000 रूट किमी. विद्युतीकृत किया जाएगा।

100 प्रतिशत विद्युतीकरण को देखते हुए, डीजल लोकोमोटिव को इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव में बदलने और अपनी कोडल लाइफ तक लाभकारी उपयोग करने के लिए यह योजना बनाई गई थी। इस बात पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि डीजल लोकोमोटिव का इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव में रूपांतरण डीजल लोकोमोटिव के मिड-लाइफ पुनर्वास के दौरान किया जाएगा इससे न केवल रूपांतरण में कोई अतिरिक्त निवेश नहीं करना पड़ेगा बल्कि रूपांतरण की लागत में डीजल लोकोमोटिव के मिड-लाइफ पुनर्वास की लागत की तुलना में लगभग 50 प्रतिशत की बचत होगी।


जरा ठहरें...
मुंबई का पानी सबसे बेहतर तो दिल्ली का सबसे खराब - केंद्र सरकार
प्रसाद ने कहा देश की जनता कांग्रेस के कैंपेन और झूठे आरोपों को माफ नहीं करेगी
अमित शाह की दो टूक, शिवसेना की मांग हमें मंजूर नहीं...!
दिल्ली पुलिस मुख्यालय की सुरक्षा केंद्रीय पुलिस बलों को सौंपी गयी
कैट का अमेज़न एवं फ्लिपकार्ट के बिज़नेस मॉडल की जांच के लिए प्रधानमंत्री से हस्तक्षेप का आग्रह
भाजपा की नैतिक हार, कोई जश्न मनाने का दिन नहीं - कांग्रेस
संसद का शीतकालीन सत्र १८ नवंबर से १३ दिसंबर तक
वंदेभारत रेलगाड़ी से दिल्ली से मां वैष्णोदेवी देवी के बीच महज ८ घंटे में यात्रा
ख़ास: मोदी सरकार राष्ट्रपति भवन से लेकर इंडियागेट तक कायाकल्प करने की तैयारी पूरी की!
अभूतपूर्व मोदी सरकार: जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक राज्यसभा से पास
आज के इस ऐतिहासिक फैसले को हमने साल भर पहले ही ब्रेक कर दी थी..!
कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय के कर्मचारियों का मानदेय न्याय संगत किया जाए - एसोसिएशन
मंगला एक्सप्रेस में गंदे पानी से बनाया जाता है सूप और अन्य चीज
ट्रेन-18 यानि वंदे भारत एक्सप्रेस का किराया लगभग हवाई जहाज के बराबर!
रेलवे में फ्लैक्सी किराया लगने से ७ लाख यात्री दूर, कैग ने रेलवे को लगाई लताड़!
मुफ्त गैस कनेक्शन के पीछे सरकार का खेल, 8 करोड़ को दो 80 करोड़ से लो!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.