ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

धर्म/तीज़-त्यौहार

योगावतार के जीवन से अमृतपान - श्री श्री लाहिड़ी महाशय की 195वीं जयंती विशेष

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज नेटवर्क

नई दिल्ली, 28 सितंबर 2023

ईश्वरानुभूति के गुब्बारे में प्रतिदिन उड़कर मृत्यु की भावी सूक्ष्म यात्रा के लिए अपने को तैयार करो......क्रियायोग की गुप्त कुंजी के उपयोग द्वारा देह - कारागार से मुक्त होकर परमतत्त्व में भाग निकलना सीखो।“ भौतिक देह में वास करते हुए भी अनंत के साम्राज्य में विचरण करने वाले गृहस्थ योगी, महान् गुरु श्री श्री लाहिड़ी महाशय के ये शब्द भगवद्प्रेमियों के लिए एक ऐसे निश्चित मार्ग की ओर संकेत करते हैं जिसका अनुसरण वे अपने सांसारिक कर्त्तव्यों को निभाते हुए भी कर सकते हैं।   

“व्यावसायिक और सामाजिक कर्त्तव्यों को निभाते निभाते ध्यान धारणा का समय ही कहाँ मिलता है।“ आज के समय में प्रचलित इस प्रकार के सामान्य प्रतिवादों का खंडन करने के लिए श्री श्री परमहंस योगानन्दजी ने अपनी पुस्तक ‘योगी कथामृत’, जिसे न्यूयार्क टाइम्स ने ‘एक अद्वितीय वृतांत‘ कहकर संबोधित किया, में अपनी आध्यात्मिक यात्रा का वर्णन करते हुए, इस महान् गुरु के जीवन से हमें परिचित कराया है।    
जीवनमुक्त होते हुए भी जनसामान्य को ईश्वरानुभूति की प्रविधि, क्रियायोग का महाप्रसाद जन जन में वितरित करने हेतु इस महायोगी ने 30 सितम्बर सन् 1828 को एक धर्मनिष्ठ प्राचीन ब्राह्मण कुल में बंगाल के नदिया जिले में घुरनी नामक एक गाँव में जन्म लिया। तेंतीस वर्ष की आयु में 1861 में अपने गुरु मृत्युंजय महावतार बाबाजी के नाटकीय आह्वान पर वे अपने गुरु से मिलते हैं और कई कल्पों से लुप्त क्रियायोग ज्ञान की सरिता को गुह्य गुफा से शहर की भीड़भाड़ में बहा ले आते हैं, जिसे सीखने के लिए आध्यात्मिक जिज्ञासु योगानन्दजी द्वारा स्थापित योगदा सत्संग सोसाइटी ऑफ इंडिया के आश्रम/केन्द्रों में पहुँचकर या (yssi.org) पर देखकर इसको सीखने का विवरण जान सकते हैं।  

लाहिड़ी महाशय ने गृहस्थ जीवन का अनुसरण करते हुए संतुलित जीवन का सर्वोत्तम उदाहरण आज के युग के लोगों के समक्ष प्रस्तुत किया। ईश्वर की आँखों में तो वे सिद्ध पुरुष थे ही, साथ ही मानव जीवन के नाटक में भी उन्होंने पूर्ण सफलता प्राप्त की थी। वे मिलिटरी इंजीनियरिंग विभाग में कार्यरत्त थे जहाँ उन्हें कई बार पदोन्नति भी मिली थी।  एक दिन अपने कार्यालय में कार्यरत्त अंग्रेज़ ऑफिस सुपरिन्टेंडेंट के चेहरे पर उदासी देख लाहिड़ी महाशय ने उनसे पूछा-“सर, आप दुखी लगते हैं क्या बात है?”  

“मेरी पत्नी गंभीर रूप से बीमार है। मुझे बहुत चिंता हो रही है।” सुपरिन्टेंडेंट के ये शब्द सुनकर वे एकांत स्थान में गए और कुछ समय बाद मुस्कराते हुए आए और उन्हें धीरज बँधाया कि अब उनकी हालत सुधर रही है और वे उनको एक पत्र लिख रही हैं। “आनंदमग्न बाबू, इतना तो मैं पहले ही जान गया हूँ कि आप साधारण मनुष्य नहीं हैं। फिर भी मुझे विश्वास नहीं हो पा रहा है कि आप अपनी इच्छा मात्र से ही देश और काल की सीमाओं को मिटा सकते हैं।“ सुपरिन्टेंडेंट के ये शब्द इस युगपुरुष की सर्वव्यापकता को उजागर करते हैं। कुछ समय बाद जब सुपरिन्टेंडेंट की पत्नी भारत आई तो लाहिड़ी महाशय को देखकर बोली – “महीनों पहले लंदन में अपनी रुग्ण शैय्या के पास तेजस्वी प्रकाश में मैंने आपको ही देखा था। 

उसी क्षण मैं पूर्ण स्वस्थ हो गई थी और थोड़े ही दिन बाद भारत की लंबी समुद्र यात्रा करने में समर्थ हो गई। ऐसे सर्वज्ञ गुरु को हम शत शत नमन करते हैं और उनके अविर्भाव दिवस की बेला में ‘योगी कथामृत’ से उनके विषय में और अधिक जानकर उनके साथ एकरूप होने की कामना करते हैं। 








जरा ठहरें...
दिल्ली स्थित हरीनगर में संतोषी माता मंदिर में चैत्र नवरात्र महोत्सव की तैयारी पूरी
इस बार चैत्र नवरात्रि से पहले सूर्य ग्रहण का गजब संयोग
माँ सरस्वती व माँ नर्मदा मईया की पूजा अर्चना, दिन भर होगे धार्मिक अनुष्ठान
अयोध्या में 6 दिन में 15 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने किए राम लला के दर्शन
प्रधानमंत्री ने दिए विरोधियों को जवाब, "प्रभु राम आग नहीं ऊर्जा है "
"राम लला की जो विग्रह शोसल मीडिया पर दिख रही है वो सही नहीं है"
राम लला की प्राण प्रतिष्ठा महापर्व में सिर्फ अयोध्या में जलाए जाएंगे इतने दिए
राम लला की प्राण प्रतिष्ठा पर रोक के लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय में याचिका दायर
श्रीराम तीर्थ ट्रस्ट अयोध्या धाम ने दुनिया भर के रामभक्तों को दिया यह काम
रावण के वध के बाद प्रभु राम इतने वर्षों तक अयोध्या में राज किए
पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल ने चांदनी चौक में बांटे भगवान के अक्षत और बांटे दीपक
इन विशेषताओं से परिपूर्ण तैयार हो रहा है प्रभु श्रीराम का दिव्य भव्य मंदिर
राम लला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए प्रधानमंत्री का 12 जनवरी से कठिन अनुष्ठान शुरू
राम मंदिर के लिए खोलकर भक्तों ने दिया दान
‘पतंजलि गुरुकुलम्’ की नई शाखा का हुआ शिलान्यास
योगानंद के जीवनोत्सव पर योगदा सत्संग आत्मसाक्षात्कार के हिंदी में नए पाठमाला का विमोचन एक ऐतिहासिक उपलब्धि: स्वामी ईश्वरानंद
श्री श्री परमहंस योगानन्द के जीवन का विश्व पर अत्यन्त प्रेरक प्रभाव
22 जनवरी 2024 को अयोध्या जी में प्राण प्रतिष्ठा के संदर्भ में अक्षत वितरण
सनातम धर्म सबसे उदार है जो सभी स्वीकार्य है - सलमान खुर्शीद, कांग्रेस नेता
श्रीरामायण यात्रा रेल से करिए पूरे भारत में भगवान राम से जुड़े पवित्र तीर्थ स्थलों का दर्शन
विख्यात कोईरीपुर के शिवालय की अष्टधातु की मूर्ति पुजारी ने ही बेच दी
...ऐसा होगा भव्य भगवान राम का मंदिर जिसे निहारेगी सारी दुनिया...!
आयोध्या पर सर्वोच्च फैसला: सत्यमेव जयते...!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.
Design & Developed By : AP Itechnosoft Systems Pvt. Ltd.