ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

ताजा समाचार

लद्दाख में चीनी वायुसेना तीन एअरबेस पर मौजूद – मुकाबले के लिए हम तैयार – वायुसेना प्रमुख

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 5 अक्टूबर 2021

भारतीय वायुसेना की 89वीं वर्षगांठ पर भारतीय वायुसेना की वार्षिक संवाददाता सम्मेलन में भारतीय वायुसेना के प्रमुख वीआर चौधरी ने स्ष्ट रूप से कहा कि हम किसी भी चुनौती की सामना करने के लिए तैयार हैं। वायु सेना प्रमुख ने कहा कि चीनी वायु सेना के जवान अभी भी वास्तविक नियंत्रण रेखा  के तीन एयर बेसों पर मौजूद हैं। अगर वे किसी भी तरह की अवैध गतिविधि करते हैं तो हमारे जवान इसका सामना करने कि लिए पूरी तरह तैयार हैं। पत्रकारों के सवालों के जवाब में वायुसेना प्रमुख ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में अभी भी चीनी वायु सेना मौजूद है लेकिन भारत पर इसका कोई असर नहीं होगा।
Government of India has decided to appoint Air Marshal VR Chaudhari as the  next Chief of Air Staff - India Hindi News - राफेल डील को परवान चढ़ाने वाले  वीआर चौधरी होंगे

वायुसेना प्रमुख का पूरा वीडियो देखिए इस लिंक को क्लिक करें ---> हम तैयार हैं

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालो में हमारी युद्ध क्षमता में काफी इजाफा हुआ है। राफेल, अपाचे के शामिल होने से हमारी युद्ध क्षमता बढ़ गई है। हमारे बेड़े में नए हथियारों के एकीकरण के साथ हमारी आक्रामक स्ट्राइक क्षमता और भी अधिक शक्तिशाली हो गई है। उन्होंने कहा कि भारतीय वायुसेना यह नई युद्ध प्रणालियों पर जोर दे रही है ताकि वे अपने विरोधियों का मजबूती से सामना कर सके। उन्होंने कहा कि राफेल अपाचे को शामिल करने से हमारी युद्ध क्षमता में काफी वृद्धि हुई है। एकीकरण के साथ हमारी आक्रामण क्षमता और भी अधिक शक्तिशाली हो गई है। हमारे बेड़े में नए हथियारों को भी शामिल किया गया है। 
वहीं उन्होंने हाल ही में जम्मू में हुए ड्रोन अटैक पर कहा कि ड्रोन अटैक होने से 4 साल पहले से ही हमने एंटीड्रोन कैपेबिलिटी सिस्टम पर काम करना शुरू कर दिया था, आत्मनिर्भर भारत के तहत ज्यादा से ज्यादा यह देश में ही बना रहे हैं, और कई स्टार्टअप्स को भी सिस्टम बनाने के लिए प्रोत्साहित कर रहे।

पाकिस्तान और पाक अधिकृत कश्मीर के एक सवाल के जवाब में वायुसेना प्रमुख ने कहा कि वहां हवाई पट्टी बनने के संबंध में हमें चिंतित नहीं होना चाहिए क्योंकि वे छोटे स्ट्रिप्स हैं जो कुछ हेलीकॉप्टरों को संभालने में सक्षम हैं। पाकिस्तान ने अफगान सीमा की ओर जो हवाई पट्टी बनाई है, वह हो सकता है अपने लोगों को बचाने के लिए हो। कोरोना महामारी की की चर्चा करते हुए वायुसेना प्रमुख ने कहा कि कोविड की दूसरी लहर में हमारे ट्रांसपोर्ट फ्लीट ने मेडिकल सप्लाई और ऑक्सीजन को 18 देशों से लाने और ले जाने का काम किया है। इसमें हमारी वायु सेना ने क़रीब 1100 घंटों की उड़ान भरी और भारत में ही 2600 घंटों की उड़ान भरी। 

वायुसेना प्रमुख ने कहा हम हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड से 6 लाइट यूटिलिटी हेलीकॉप्टर प्राप्त करने के कगार पर हैं। यह भारत में सेना के आधुनिकीकरण की ओर एक महत्वपूर्ण कदम है। मालूम हो कि लाइट यूटिलिटी हेलीकॉप्टर हर तरह के मौसम में उड़ान भरने में सक्षम है. यह 7000 किलोमीटर से अधिक दूरी तय कर सकता है और बिना किसी गड़बड़ी के 17 दिनों तक लगातार उड़ान भरी. वहीं उन्होंने कहा कि हमारे पास मिग-21 के चार स्क्वाड्रन हैं और अगले तीन से चार वर्षों में ड्रॉडाउन हो जाएगा। उन्होंने कहा कि हम अपने भारतीय वायु सेना के लिए ड्रोन विकसित करने के लिए कॉन्ट्रैक्ट जल्द ही स्टार्टअप्स को देना चाहेंगे। 




वायुसेना प्रमुख, वीआर चौधरी।





जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.