ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रमुख समाचार

कोरोना: केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर ने कंट्रोल रूम बनाकर नियमित निगरानी के दिए निर्देश

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, 8 अप्रैल 2020

कोरोनावायरस से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आव्हान पर प्रभावी देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान किसानों को परेशानी से बचाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा अनेक उपाय किए गए हैं। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास तथा पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मंगलवार को मंत्रालय में वीडियोकांफ्रेंसिंग के माध्यम से तमाम वरिष्ठ अधिकारियों की एक बैठक लेकर, किसानों को राहत पहुंचाने के उपायों पर सख्ती से अमल किए जाने की विस्तृत समीक्षा की। उन्होंने कंट्रोल रूम बनाकर नियमित निगरानी के दिशा-निर्देश भी दिए।


कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोकने के उद्देश्य से लागू लॉकडाउन केमद्देनजरदेशभरमें आम लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया गया है। ऐसे में, प्रारंभ में कई किसानों को परेशानी होने की शिकायतें मिली थी, जिन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का तत्काल गृह मंत्रालय और वित्त मंत्रालय के साथ लगातार संवाद हुआ और तुरंत ही निर्णय लेकर किसानों को राहत के लिए अनेक उपाय लागू किए गए हैं। आज कृषि मंत्रालय में दोनों राज्य मंत्रियों- परषोत्तमरूपाला एवं कैलाश चौधरी के साथ तोमर ने सभी वरिष्ठ अधिकारियों की वीडियोकांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक ली, जिसमें केंद्र सरकार के तत्संबंधी दिशा-निर्देशों को लेकर समीक्षा की गई। बैठक में तोमर ने कहा कि किसानों के हित में जो भी निर्णय लिए गए हैं, उन्हें अमल में लाने के साथ ही इस दौरान सामाजिक दूरी बनाए रखना बहुत ही जरूरी है। अधिकारियों से श्री तोमर ने कहा कि फसलों की कटाई में किसानों को कोई परेशानी नहीं होना चाहिए। साथ ही, हरसंभव कोशिश यह होना चाहिए कि उनकी कृषि उपज खेत के पास ही बिक सकें, साथ ही इसका राज्य और अंतरराज्यीय परिवहन सुगमता से हो।

इस संबंध में ट्रकों की आवाजाही को भी लॉकडाउन से छूट दी गई है। आगे बुआई भी होना है, जिसे लेकर खाद-बीज की कमी कहीं भी नहीं होना चाहिए। खाद-बीज के परिवहन के लिए भी पर्याप्त साधन उपलब्ध कराए जाना चाहिए।जिन कृषि वस्तुओं का निर्यात किया जाना है, वह प्रभावित नहीं होना चाहिए। कृषि उत्पादों की ख़रीद से संबंधित संस्थाओं व न्यूनतम समर्थनमूल्य से संबंधित कार्यों,कृषि उत्पाद बाजार कमेटी व राज्यों द्वारा संचालित मंडियों,उर्वरकों की दुकानों, किसानों व श्रमिकों द्वारा खेतमें किए जाने वाले कार्यों, कृषिउपकरणों की उपलब्धता हेतु कस्टम हायरिंग केंद्रों औरउर्वरक, कीटनाशक व बीजों की निर्माण व पैकेजिंगइकाइयों,फसल कटाई व बुआई से संबंधित कृषि वबाग़वानी में काम आने वाले यंत्रों कीअंतरराज्यीय आवाजाही को छूट दी गई है।कृषि मशीनरी वकलपुर्जों कीदुकानेंलॉकडाउनमें चालू रखी जा सकेगी। छूट में संबंधित आपूर्तिकर्ताओंको भी शामिल किया गया है।हाईवे पर ट्रकों की मरम्मत करने वाले गैरेजवपेट्रोलपंपभी चालू रहेंगे, ताकि कृषि उपज का परिवहन सुगमता से होसकें। इसी तरह, चाय बागानों पर अधिकतम 50 प्रतिशत कर्मचारी रखते हुए काम किया जा सकेगा।


राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) प्लेटफ़ॉर्म की नई सुविधाएं भी लांच की गई है, जिनका इस दौरान लाभ उठाया जा सकता है।केंद्र ने किसानों के अल्पकालिक फसलीऋण जो1 मार्च2020 और31 मई2020 के बीच देय हैं या देय होंगे, के लिए पुनर्भुगतान की अवधिभी 31 मई2020 तक बढ़ाई है। किसान31 मई2020 तक अपने फसल ऋण को बिना किसी दंडात्मक ब्याज के केवल4 प्रतिशतप्रतिवर्ष ब्याज दर पर भुगतान कर सकते हैं।



जरा ठहरें...
राष्ट्रव्यापी अभियान का हिस्सा बना 'वन राशन वन राष्ट्र', आज की प्रमुख घोषणा
एक जून से केंद्रीय बलों के कैंटीनों में सिर्फ स्वदेशी उत्पाद ही बिकेगा - गृहमंत्री
भारत ने मदद के लिए 88 सदस्यीय चिकित्सा दल खाड़ी देश यूएई भेजा
नेपाल सहित दुनिया बोल रही है थैंक्यू भारत!
सरकार सूक्ष्म और लघु उद्योगों को वित्तीय मदद दे
कोरोना से भारत के खुदरा क्षेत्र को 15 दिन में ढाई लाख करोड़ के व्यापार का नुकसान – कैट
घर घर पहुँचे विधानसभा प्रत्यासी, आम जनता से सीधे किया जन संम्पर्क
आम जनता से सीधे जनसंम्पर्क किया मटियाला विधानसभा के प्रत्याशी आकाश श्रीवास्तव ने
ख़ास: मोदी सरकार राष्ट्रपति भवन से लेकर इंडियागेट तक कायाकल्प करने की तैयारी पूरी की!
आज के इस ऐतिहासिक फैसले को हमने साल भर पहले ही ब्रेक कर दी थी..!
मुफ्त गैस कनेक्शन के पीछे सरकार का खेल, 8 करोड़ को दो 80 करोड़ से लो!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.