ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रमुख समाचार

सीमा क्षेत्रों में निर्माण परियोजनाओं में चीनी मशीनों के उपयोग पर प्रतिबंध लगे – कैट

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली 17 जुलाई 2020

चीनी सामान के बहिष्कार के अपने राष्ट्रीय अभियान के अंतर्गत कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने आज केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को एक पत्र भेजकर आग्रह किया है की बॉर्डर सहित अन्य संवेदनशील क्षेत्रों मे हो रहे निर्माण कार्यों में चीनी निर्माण मशीनरी का उपयोग न करने का आग्रह किया हैं क्योंकि इन अधिकांश मशीनों में इंटरनेट ऑफ थिंग्स डिवाइस लगे होते हैं जो चीन में कंपनी के मालिकों के लिए संवेदनशील जानकारी प्रसारित करने में सक्षम हैं। कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी. भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने राजनाथ सिंह को भेजे पत्र में यह महत्वपूर्ण मुद्दा उठाते हुए कहा है कि सीमावर्ती क्षेत्रों, सुरक्षा संवेदनशील क्षेत्रों, राजमार्गों, तथा इन्फ़्रस्ट्रक्चर के अन्य प्रोजेक्ट में चीन द्वारा आपूर्ति की जाने वाली विभिन्न मशीनों और इसके स्पेयर पार्ट्स विभिन्न महत्वपूर्ण परियोजनाओं में इस्तेमाल हो रहे हैं। कई मामलों में ऐसी निर्माण कार्य करने वाली कंपनियां चीनी मशीनों का उपयोग कर रही हैं।


सांकेतिक तस्वीर।

जो इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) उपकरणों के साथ स्थापित हैं और जो वास्तविक समय में  कार्ट करने के स्थान सहित अन्य मशीन ऑपरेटिंग मापदंडों को कहीं भी प्रसारित करने की क्षमता रखते हैं। भरतिया और खंडेलवाल ने कहा कि अगर ऐसी मशीनों का उपयोग सामरिक रूप से महत्वपूर्ण स्थानों पर सीमावर्ती क्षेत्रों या किसी अन्य संवेदनशील क्षेत्र में किया जाता है जो रक्षा के लिए बहुत अधिक महत्वपूर्ण है, तो मशीन के द्वारा सभी डेटा उनके स्थानों, परिचालन घंटों और अन्य सामरिक विवरण चीन में स्थित चीनी कंपनियों के मालिक के स्वामित्व वाले सर्वरों को प्रेषित किए जा सकते हैं। भरतिया और खंडेलवाल ने कहा कि  प्राप्त जानकारी के अनुसार दो प्रमुख कंपनियों SANY चीन की स्वामित्व वाली पुटमिस्टर हैं और XCMG चीन की स्वामित्व वाली श्वेत स्टीटर इंडिया, है जो इस तरह की विभिन्न परियोजनाओं में शामिल हैं। उनकी मशीनें विधिवत आईओटी उपकरणों से लैस हैं और इन मशीनों द्वारा अर्जित डेटा का उपयोग अन्य उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। हो सकता है कुछ अन्य कंपनियां भी सीमावर्ती क्षेत्रों, राजमार्गों,  बुनियादी ढांचे में अपने संबंधित निर्माण गतिविधियों में इसी तरह के उपकरणों का उपयोग कर रही हों।

ऐसी सभी कम्पनियों की शिनाख्त करते हुए उनके काम करने पर तुरंत रोक लगाया जाना जरूरी है। कैट ने राजनाथ सिंह से आग्रह किया है कि वे इस मुद्दे की गंभीरता पर ध्यान दें और देश की सुरक्षा और संप्रभुता के बड़े हित में ऐसी मशीनों का विशेष रूप से सीमा और अन्य संवेदनशील क्षेत्रों में उपयोग करने पर प्रतिबंध लगाने के लिए आवश्यक कदम उठाएं।




जरा ठहरें...
भारत के खिलाफ चीन की खतरनाक संकेत, अब लिपुलेख के पास तैनात किए अपने सैनिक...?
नेपाल ने भारतीय समाचार चैनलों को किया प्रतिबंधित
लेह में प्रधानमंत्री ने भरी हुंकार, लेह भारत का मस्तक..!
80 करोड़ लोगों को नवंबर तक मुफ्त में अनाज दिया जाएगा -- प्रधानमंत्री
“मन की बात में चीन पर निशाना, मित्रता निभाना आता है तो जवाब देना भी आता है”
"12 अगस्त तक नियमित रेलगाड़ियां नहीं चलेंगी"
दिल्ली में चीनियों को ठहरने के लिए होटल और गेस्ट हाउस नहीं मिलेगा..!
हमारे जवान मारते - मारते शहीद हुए हैं - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
हींग और केसर को लेकर सरकार ने उठाए कदम, दोनों की पैदावार बढ़ाने का फैसला
चीन के लड़ाकू विमान ने लद्दाख से सटे क्षेत्रों में भरी उड़ान
राष्ट्रव्यापी अभियान का हिस्सा बना 'वन राशन वन राष्ट्र', आज की प्रमुख घोषणा
सरकार सूक्ष्म और लघु उद्योगों को वित्तीय मदद दे
कोरोना: केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर ने कंट्रोल रूम बनाकर नियमित निगरानी के दिए निर्देश
घर घर पहुँचे विधानसभा प्रत्यासी, आम जनता से सीधे किया जन संम्पर्क
आम जनता से सीधे जनसंम्पर्क किया मटियाला विधानसभा के प्रत्याशी आकाश श्रीवास्तव ने
ख़ास: मोदी सरकार राष्ट्रपति भवन से लेकर इंडियागेट तक कायाकल्प करने की तैयारी पूरी की!
आज के इस ऐतिहासिक फैसले को हमने साल भर पहले ही ब्रेक कर दी थी..!
मुफ्त गैस कनेक्शन के पीछे सरकार का खेल, 8 करोड़ को दो 80 करोड़ से लो!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.