ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रमुख समाचार

भारत के खिलाफ चीन की खतरनाक संकेत, अब लिपुलेख के पास तैनात किए अपने सैनिक...?

आकाश श्रीवास्तव

नई दिल्ली, 2 अगस्त 2020

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

चीन भारत के खिलाफ सैनिक मोर्चेबंदी करने में लगातार जुटा हुआ है। नए सिरे से सैनिकों की तैनाती के साथ भारत के नज़दीक अलग अलग जगहों पर सैनिकों की तैनाती करने में जुटा हुआ है। भारत के लिए यह बड़ी चिंता की बात है कि चीन ने पीपल्स लिब्रेशन ऑर्मी की एक बटालियन को उत्तराखंड में लिपुलेख पास के नजदीक तैनात किया है। सुरक्षा मामलो के जानकारों का कहना है कि यह लद्दाख सेक्टर के बाहर वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर मौजूद उन ठिकानों में से एक है जहां पिछले कुछ सप्ताह में चाइनीज सैनिकों की आवाजाही दिखी है। काठमांडू ने अपने नए राजनीतिक नक्शे में बदलाव करके भारत के साथ तनाव पैदा किया। नेपाल ने नए नक्शे में भारतीय इलाकों कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को शामिल कर लिया।


सांकेतिक तस्वीर। फाइल उपयोग के लिए।

लिपुलेख भारत-चीन-नेपाल सीमा के ट्राइजंक्शन पर है। अधिकारियों ने बताया कि लिपुलेख पास पर पीएलए ने एक बटालियन को तैनात किया है, जिसमें करीब 1000 सैनिक हैं, ये सीमा से कुछ दूरी पर हैं। एक दूसरे सैन्य अधिकारी ने कहा, ''यह सिग्नल है कि चीनी सैनिक तैयार हैं।'' उन्होंने कहा कि भारत ने पीएलए सैनिकों के बराबर संख्या बढ़ा दी है और नेपाल पर भी नजर रखी जा रही है। वरिष्ठ सैन्य अधिकारी ने कहा, ''लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर स्थिति लगातार बदल रही है। चीनी सैनिक लद्दाख के अलावा दूसरे जगहों पर मौजूदगी बढ़ा रहे हैं और इन्फ्रास्ट्रक्चर को भी मजबूत किया जा रहा है।'' लद्दाख और दूसरे जगहों पर चीनी सैनिकों की आवाजाही के मुताबिक भारत ने भी अपने सैनिकों को तैयार रखा है। भारत लद्दाख में सर्दियों के लिए भी तैयारी में जुटा है।
भारत और चीनी सैनिकों के बीच पूर्वी लद्दाख में मई पहले सप्ताह में तनाव की शुरुआत हुई और 15 जून को दोनों देशों के सैनिकों में हिंसक झड़प हुई, जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए, चीन ने अपने हताहत सैनिकों की संख्या का खुलासा नहीं किया है। पिछले 45 साल में पहली बार दोनों देशों के सैनिकों में इस तरह खूनी झड़प हुई। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच बातचीत के बाद दोनों देश सैनिकों को पीछे हटाकर तनाव कम करने पर सहमत हुए।
एक टॉप सैन्य कमांडर ने कहा, ''लिपुलेख पास, उत्तरी सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में एलएसी पर पीएलए सैनिकों का जमावड़ा है।'' लिपुलेख पास मानसरोवर यात्रा रूट पर है, जो इन दिनों नेपाल से विवाद को लेकर सुर्खियों में बना हुआ है। यहां भारत की ओर से बनाए गए 80 किलोमीटर सड़क पर नेपाल ने आपत्ति जताई थी। लिपुलेख पास के जरिए एलएसी के आरपार रहने वाले भारत और चीन के आदिवासी जून-अक्टूबर के दौरान वस्तु व्यापार करते हैं।

एक तरफ चीन ने सैनिकों को पीछे हटा लेने का दावा किया तो भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि प्रक्रिया की शुरुआत जरूर हुई है, लेकिन काम अभी पूरा नहीं हुआ है। इसके साथ ही लद्दाख में भारतीय सेना के अधिकारियों ने नोटिस किया है कि पिछले इलाकों में चीनी सैनिकों की संख्या बढ़ रही है, वे इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करने में जुटे हैं। एलएसी पर दूसरे जगहों पर भी चीन अपनी मौजूदगी बढ़ा रहा है।




जरा ठहरें...
सीमा क्षेत्रों में निर्माण परियोजनाओं में चीनी मशीनों के उपयोग पर प्रतिबंध लगे – कैट
नेपाल ने भारतीय समाचार चैनलों को किया प्रतिबंधित
लेह में प्रधानमंत्री ने भरी हुंकार, लेह भारत का मस्तक..!
80 करोड़ लोगों को नवंबर तक मुफ्त में अनाज दिया जाएगा -- प्रधानमंत्री
“मन की बात में चीन पर निशाना, मित्रता निभाना आता है तो जवाब देना भी आता है”
"12 अगस्त तक नियमित रेलगाड़ियां नहीं चलेंगी"
दिल्ली में चीनियों को ठहरने के लिए होटल और गेस्ट हाउस नहीं मिलेगा..!
हमारे जवान मारते - मारते शहीद हुए हैं - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
हींग और केसर को लेकर सरकार ने उठाए कदम, दोनों की पैदावार बढ़ाने का फैसला
चीन के लड़ाकू विमान ने लद्दाख से सटे क्षेत्रों में भरी उड़ान
राष्ट्रव्यापी अभियान का हिस्सा बना 'वन राशन वन राष्ट्र', आज की प्रमुख घोषणा
सरकार सूक्ष्म और लघु उद्योगों को वित्तीय मदद दे
कोरोना: केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर ने कंट्रोल रूम बनाकर नियमित निगरानी के दिए निर्देश
घर घर पहुँचे विधानसभा प्रत्यासी, आम जनता से सीधे किया जन संम्पर्क
आम जनता से सीधे जनसंम्पर्क किया मटियाला विधानसभा के प्रत्याशी आकाश श्रीवास्तव ने
ख़ास: मोदी सरकार राष्ट्रपति भवन से लेकर इंडियागेट तक कायाकल्प करने की तैयारी पूरी की!
आज के इस ऐतिहासिक फैसले को हमने साल भर पहले ही ब्रेक कर दी थी..!
मुफ्त गैस कनेक्शन के पीछे सरकार का खेल, 8 करोड़ को दो 80 करोड़ से लो!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.