ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

गुजरात

सौराष्ट्र नर्मदा अवतरण सिंचाई योजना का प्रधानमंत्री ने किया शुभारंभ
प्रधानमंत्री ने कहा हर किसान के खेत तक पहुचाऊंगा पानी

जामनगर

३० अगस्त २०१६

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को 12 हजार करोड़ रुपये की महत्वाकांक्षी साउनी (सौराष्ट्र नर्मदा अवतरण सिंचाई योजना) परियोजना का उद्घाटन किया, जिसका उद्देश्य प्रदेश के सूखाग्रस्त सौराष्ट्र क्षेत्र में पेयजल व सिंचाई के लिए पानी की कमी को दूर करना है। जामनगर हवाईअड्डे पर मंगलवार सुबह उतरने के बाद खराब मौसम के कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सिंचाई योजना साउनी का शुभारंभ करने के लिए अजी बांध तक पहुंचने के लिए सड़क मार्ग से सोनोसारा जाना पड़ा, जिसके कारण उद्घाटन में थोड़ा विलंब हुआ।


प्रधानमंत्री बांध का उद्घाटन करते हुए।

इस योजना का उद्देश्य सरदार सरोवर बांध से बाढ़ के पानी को नहर और पाइपलाइनों के जरिये पानी की कमी से जूझ रहे सौराष्ट्र क्षेत्र के 115 बांधों तक पहुंचाना है। इस योजना से सौराष्ट्र के सूखाग्रस्त क्षेत्र की 4.13 लाख हेक्टेयर भूमि की सिंचाई में मदद मिलेगी। प्रधानमंत्री ने अजी-3 बांध पर गेट नंबर दो, तीन तथा चार को खोलने के लिए एक बटन दबाया। इन दरवाजों के जरिये निकला पानी अजी-4 बांध में भरेगा। इसके साथ ही पानी को पंप के जरिये ऊंद-4 जलाशय में भी पहुंचाया जाएगा। साउनी परियोजना की पहल मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में सितंबर 2012 में की थी, जिसके पहले चरण का मंगलवार को उन्होंने शुभारंभ किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा वह देश के हर किसान के खेत तक पानी पहुंचाएंगे।

मोदी के गुजरात पहुंचने पर राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा, "गुजरात गर्मजोशी के साथ भारत के माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करता है।" उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, "साउनी परियोजना बेहतरीन तरीके से बनाई गई है, जो सौराष्ट्र क्षेत्र के 11 सूखा प्रभावित जिलों की प्यास बुझाएगी और इस क्षेत्र को नया जीवन देगी।"




जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.