ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

ख़ास ख़बरें

आज देश में दो तरह की विचारधाराएँ हैं – शाह...
नए साल के पूर्व रेलवे ने यात्रियों की जेब पर...
भारत-पाक सीमा पर बढ़ते तनाव पर चीन ने जतायी चिंता!...
कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व नागरिकता कानून के खिलाफ धरने पर...
देश के सबसे बड़े हवाई अड्डे का निर्माण करेगी स्विटजरलैंड...
रेलवे का निजीकरण नहीं - रेल मंत्री

जरा इधर भी


इन तस्वीरों को देखें!

चीन ने भारतीय जमीन पर किया कब्जा

लोकसभा में विपक्ष के नेता अधीर रंजन चौधरी ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि मैंने अपनी पार्टी की तरफ से एक मुद्दा उठाने की कोशिश की जो गंभीर मुद्दा है बीजेपी पार्टी की अरुणाचल प्रदेश की एमपी, तापिर गाव,  नें 19 नवंबर को एक गंभीर मुद्दा सदन के अंदर उठाया। जिसमें चीन की फौजों ने हिंदुस्तान की सीमा का उल्लंघन करते हुए हमारी जमीन पर, कुछ जगह पर कब्जा कर लिया है। अरुणाचल प्रदेश की एमपी का ये भी कहना है कि चीन की फौज हिंदुस्तान के क्षेत्र के अंदर 40 से 50 किलोमीटर तक घुस आई और उन्होंने इस पर अपना दर्द जताते हुए सरकार से, मीडिया वालों से और खासकर सदन के सांसदों को भी कहा था कि आप सब मिलकर इस मुद्दे को बड़े गंभीर रुप से लेने की कोशिश कीजिए।

इसी मुद्दे को देखते हुए, मैंने आज सदन में हमारे माननीय रक्षा मंत्री के सामने इस विषय को रखने की कोशिश की थी। पाकिस्तान के साथ हमारा जो रिश्ता है, वो आप सबको मालूम है। हमारी फौज पाकिस्तान को करारा जवाब दे रही हैं और देती रहेगी। पाकिस्तान के खिलाफ हमारा अभियान आज से नहीं, 1948 से चल रहा है और चलता रहेगा। हमारी फौजों ने अपनी बहादुरी और सख्ती के चलते पाकिस्तान के नापाक इरादों को, उनके नापाक मंसूबों को कभी कामयाब नहीं होने दिया। हमारी फौजों ने पाकिस्तान के नापाक इरादों को अंजाम तक नहीं पहुंचने दिया और हिंदुस्तान में कोई भी सरकार रही हो, सबने मिलकर उसका सामना किया। तो इसमें हमारी कोई दो राय नहीं है कि पाकिस्तान, हिंदुस्तान में आतंक फैलाने की हर संभव कोशिश कर रहा है।

लेकिन इसके साथ-साथ हमें ये भी समझना होगा कि सिर्फ पाकिस्तान और पाकिस्तान करके काम नहीं बनेगा, जैसे कि जम्मू-कश्मीर घाटी में पाकिस्तान आतंकवाद को पनाह देता आ रहा है, उसी ढंग से खुद पाकिस्तान को पनाह देने का काम अगर कोई देश कर रहा है तो उसका नाम चीन है। लेकिन हमारे रुख व तेवर में पाकिस्तान और चीन के साथ बात करते समय फर्क नजर आता है। जिस आक्रमक रुख से हम पाकिस्तान के खिलाफ बात करते हैं, हमारी बात रखते हैं, वही आक्रामक रुख चीन के खिलाफ हमें देखने को नहीं मिलता है, बल्कि चीन के खिलाफ हमारे रुख में थोड़ा संतुलन बरतने की कोशिश की जाती है।

अरुणाचल प्रदेश की एमपी ने पिछली 19 तारीख को जो बात कही, इतने दिनों में इस सरकार को कभी ये नहीं लगा कि सदन में आकर इस संदर्भ में सारी चीजों को स्पष्ट करके बताएं। आज भी जो जवाब आया है, उसमें स्पष्ट रुप से हमें हमारे सभी सवालों का जवाब नहीं मिला।

अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि जब जम्मू-कश्मीर रिऑर्गनाइजेशन हुआ, धारा 370 को रद्द कर दिया गया, उसके बाद भी देखिए नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल में चीन की सरकार ने इस बात को रखने के लिए जम्मू-कश्मीर का मुद्दा उठाने का हर संभव प्रयास किया। इनका वो प्रयास विफल हो गया था, पर उन्होंने प्रयास करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। इसका मतलब पाकिस्तान को आज अगर चीन का समर्थन ना होता, चीन की तरफ से मदद ना मिलती तो पाकिस्तान और ज्यादा अलग-थलग हो जाता। परंतु चीन हमारे खिलाफ पाकिस्तान की मदद करते हुए हिंदुस्तान को कमजोर करने का प्रयास करता है।

लेकिन वहाँ वो जाते हैं, तब हम चुप रहते हैं, चीन के राष्ट्रपति मल्लपुरम में आते हैं, वहाँ पर हमारे देश के प्रधानमंत्री उनकी खातिरदारी तो करते हैं, पर हमारे खिलाफ चीन का जो रवैया है, हमारे खिलाफ जो चीन गलत हरकत कर रहा है, उस विषय पर कोई चर्चा नहीं करते। इस पर हमें लगता है कि पाकिस्तान के खिलाफ हम जिस ढंग से बात करते हैं, वही तेज, वही आक्रामक ढंग चीन के खिलाफ रखना भी जरुरी है।
आकाश श्रीवास्तव, थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़, नई दिल्ली। 4 दिसंबर 2019।
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.