ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

ख़ास ख़बरें

सरकारी आदेश के उल्लंघन पर फ्लिपकार्ट और अमेजन को सरकार...
रेलवे ने आरक्षण कराने के नियमों में किया बदलाव, 5...
राष्ट्र का गौरव अटल टनल : विश्व की सबसे ऊंची...
सेना का चीन को दो टूक जवाब:...हैं तैयार हम...!
हिंदुस्तान का "तूफान" दुश्मनों पर कहर बरपाने के लिए तैयार...
भारत के खिलाफ चीन की खतरनाक संकेत, अब लिपुलेख के...

जरा इधर भी


इन तस्वीरों को देखें!

भारत के ताइवान को समर्थन पर चीन को लगी मिर्ची

नई दिल्ली। 18 अक्टूबर 2020

चीन की आक्रमकता दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। एक तरफ ड्रैगन भारत के साथ बातचीत से सीमा विवाद हल करने के दावे कर रहा है लेकिन दूसरी तरफ लगातार धमकियां दे रहा है। अब चीन ने ताइवान को लेकर भारत को गीदड़भभकी दे डाली है। दरअसल चीन लंबे समय से ताइवान पर अपना दावा करता आया है और ताइवान का समर्थन करने वाले दूसरे देशों को भी धमकाता रहता है।

इस बीच भारत में ताइवान को लेकर बढ़ता समर्थन देख चीन तिलमिला उठा है। चीनी अखबार ने तो भारत को सीधी धमकी दी है कि अगर भारतीय शक्तियां ताइवान को लेकर खेलती हैं तो चीन पूर्वोत्तर यानि सिक्किम को भारत से अलग करने की कार्रवाई कर सकता है। “अगर भारत की सामाजिक ताकतें ताइवान के मुद्दे पर खेलती हैं, तो उन्हें पता होना चाहिए कि हम पूर्वोत्तर भारत में अलगाववादी ताकतों का समर्थन कर सकते हैं और सिक्किम को अलग कर सकते हैं। इन तरीकों से हम जवाबी कदम उठा सकते हैं। 

भारतीय राष्ट्रवादियों को आत्मचिंतन करना चाहिए. उनका देश नाजुक है। बता दें कि भारतीय मीडिया ने ताइवान के विदेश मंत्री जोसफ वू का इंटरव्यू लिया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि ताइवान कभी चीन का हिस्सा नहीं रहा। इसके साथ ही उन्होंने दुनियाभर के लोगों से ताइवान के अस्तित्व को स्वीकार करने की भी अपील की थी। इसके बाद भारत में मौजूद चीनी दूतावास ने भी आपत्ति जताई थी और कहा था कि ताइवान को मंच देने से वन-चाइना पॉलिसी का उल्लंघन हुआ है।
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.