ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

ख़ास ख़बरें

कई मुद्दों को लेकर सदन में विपक्ष का हंगामा, संसद...
दुनियाभर के चिकित्सा विशेषज्ञों ने कोरोना की तीसरी लहर की...
उ.प्र, के नए पुलिस महानिदेशक को लेकर मंथन शुरू, 31...
सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश अरुण कुमार मिश्रा बने राष्ट्रीय...
चीन ने फिर दिखाई दगाबाजी, पूर्वी लद्दाख के तरफ फिर...
कोरोना की वजह से ये गाड़ियां रहेंगी प्रभावित, जानिए वो...

जरा इधर भी


इन तस्वीरों को देखें!

रांची में कांची नदी पर बना हाराडीह-बुढ़ाडीह पुल ध्वस्त

करोड़ों रुपए खर्च कर तीन साल पहले हुआ था निर्माण, गुणवत्ता पर सवाल

रांची में कांची नदी पर करोड़ों की लागत से बना पुल 'यास' तूफान को नहीं 'झेल' पाया। हाराडीह-बुढ़ाडीह पुल गुरुवार को ध्वस्त हो गया। यह रांची जिले के तमाड़, बुंडू और सोनाहातु को जोड़ता था। तीन साल पहले ही करोड़ों की लागत से पुल बनाया गया था। मगर करोड़ों रुपए की लागत से बना यह पुल भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया। 

बुंडू इलाके के प्रसिद्ध हाराडीह मंदिर के निकट इस पुल के ध्वस्त होने के बारे में स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि कांची नदी में लगातार बालू का अवैध उत्खनन किया जा रहा था, जिसके कारण पुल कमजोर हो गया। समय रहते अगर प्रशासनिक कार्रवाई होती है, तो यह पुल बच सकता था। स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि कांची नदी पर बने सोनाहातु का हारीन पुल और तमाड़ का बालमडीह पुल पहले ही ध्वस्त हो चुका है और अब हाराडीह पुल भी ध्वस्त हो गया। पुल के ध्वस्त होने की जानकारी मिलते ही वहां भारी भीड़ जमा हो गई।
ग्रामीणों की मानें तो इस पुल का कायदे से उद्घाटन भी नहीं हुआ था। जाहिर है, इसकी गुणवत्ता पर सवाल उठ रहे हैं। पुल ध्वस्त होने के पीछे एक वजह यह भी बताई जा रही है कि नदी से रोजाना बालू का अवैध खनन हो रहा है। पुल के ठीक नीचे भी लगातार बालू का खनन किया जा रहा था। ग्रामीणों की लगातार मांग के बावजूद किसी ने बालू का अवैध उत्खनन रोकने की दिशा में कोई कदम नहीं उठाया।

लगातार दो दिन से बारिश होने के चलते नदी में पानी का स्तर बढ़ गया है और इसी बीच अब पुल ध्वस्त हो गया। सबसे खतरनाक बात यह कि टूटे पुल पर भी लोगों की आवाजाही हो रही है। ऐसे में किसी अनहोनी की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। पुल टूटने की जानकारी आग की तरह पूरे क्षेत्र में फैल गई। स्थानीय प्रशासन पूरे मसले पर कुछ बोलने को तैयार नहीं है।
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Third Eye World News: वीडियो
चौकिए मत यह भारत का...
Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.